• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • रतुल पुरी को 14 दिन की न्यायिक रिमांड पर भेजा गया, करोड़ों के बैंक घोटाले का आरोप

रतुल पुरी को 14 दिन की न्यायिक रिमांड पर भेजा गया, करोड़ों के बैंक घोटाले का आरोप

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamalnath) के भांजे रतुल पुरी (Ratul Puri) को दिल्ली की राउज़ एवेन्यू कोर्ट (Rouse Avenue Court delhi) ने 14 दिन की न्यायिक रिमांड पर भेज दिया है. रतुल पुरी 354 करोड़ के बैंक घोटाले में आरोपी हैं.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamalnath) के भांजे रतुल पुरी (Ratul Puri) को दिल्ली की राउज़ एवेन्यू कोर्ट (Rouse Avenue Court delhi) ने 14 दिन की न्यायिक रिमांड पर भेज दिया है. रतुल पुरी 354 करोड़ के बैंक घोटाले में आरोपी हैं.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamalnath) के भांजे रतुल पुरी (Ratul Puri) को दिल्ली की राउज़ एवेन्यू कोर्ट (Rouse Avenue Court delhi) ने 14 दिन की न्यायिक रिमांड पर भेज दिया है. रतुल पुरी 354 करोड़ के बैंक घोटाले में आरोपी हैं.

  • Share this:
    दिल्ली की राउस एवेन्यू कोर्ट (Rouse Avenue Court Delhi) ने कारोबारी रतुल पुरी को 14 दिन की न्यायिक रिमांड (Judicial Remand) में भेज दिया है. रतुल पुरी को 17 सितंबर तक न्यायिक रिमांड में रखा जाएगा. बता दें कि पुरी 354 करोड़ के बैंक घोटाला मामले (Bank Scam) के आरोपी हैं. प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) ने रतुल पुरी को 20 अगस्त को गिरफ्तार किया था.

    रतुल के परिजनों पर भी मामला
    मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (CM Kamalnath) के भांजे और मोजरबेयर कंपनी के पूर्व कार्यकारी निदेशक रतुल पुरी को दिल्ली की राउस एवेन्यू कोर्ट ने 17 सितंबर तक न्यायिक रिमांड में भेज दिया है. सीबीआई द्वारा दर्ज इस मामले में रतुल पुरी के अलावा उनके पिता और प्रबंध निदेशक दीपक पुरी, नीता पुरी (रतुल की मां और कमलनाथ की बहन), संजय जैन और विनीत शर्मा भी आरोपी हैं.



    अधिकारियों ने बताया कि इन पर कथित तौर पर आपराधिक षड्यंत्र रचने, धोखाधड़ी, फर्जीवाड़ा और भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं. बैंक ने एक बयान में बताया कि रतुल ने वर्ष 2012 में कार्यकारी निदेशक के पद से इस्तीफा दे दिया था जबकि उनके माता-पिता बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में शामिल थे.

    क्या है बैंक का आरोप
    बैंक ने शिकायत में आरोप लगाया कि कंपनी 2009 से ही अलग-अलग बैंकों से लोन ले रही थी और लगातार रिपेमेंट की शर्तों में बदलाव करा रही थी. बैंक की इस शिकायत को भी सीबीआई ने अपनी एफआईआर में शामिल किया है. इसमें आरोप लगाया गया कि जब उनकी कंपनी कर्ज का भुगतान नहीं कर पाई तो एक फॉरेन्सिक ऑडिट किया गया और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने खाते को 20 अप्रैल 2019 को फर्जी घोषित कर दिया.

    VVIP हेलीकॉप्टर घोटाले का भी आरोप
    रतुल पुरी पर पहले से ही 3,600 करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाले में मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है. यहां भी उनके खिलाफ ईडी जांच कर रही है. इस मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने 20 अगस्त तक उन्हें अंतरिम राहत दी थी.

    ये भी पढ़ें -

    10 साल से जंक फूड खा रहा था, चली गईं आंखें, सुनने में भी दिक्कत: रिपोर्ट

    भारत से जीवनरक्षक दवाएं आयात करेगा पाकिस्तान, वाणिज्य मंत्रालय ने दी मंजूरी- रिपोर्ट

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज