Home /News /delhi-ncr /

rouse avenue court verdict reserved on s bhaskar raman bail nodbk

दिल्ली: कार्ति चिदंबरम के करीबी सहयोगी एस. भास्कर की जमानत पर फैसला सुरक्षित

आरोप है कि चीनी कंपनी ने भास्कर रमन के जरिये ही कार्ति से संपर्क साधा था. (सांकेतिक तस्वीर)

आरोप है कि चीनी कंपनी ने भास्कर रमन के जरिये ही कार्ति से संपर्क साधा था. (सांकेतिक तस्वीर)

Delhi News: एफआईआर में कहा गया कि पंजाब में बिजली संयंत्र लगा रहे वेदांता समूह की कंपनी तलवंडी साबो पावर लिमिटेड के एक शीर्ष अधिकारी ने कार्ति और उनके करीबी सहयोग एस भास्कर रमन को वीजा जारी कराने के लिए 50 लाख रुपये दिए थे. साथ ही आरोप है कि चीनी कंपनी ने भास्कररमन के जरिये ही कार्ति से संपर्क साधा था. सीबीआई ने इस मामले में भास्कर रमन को गिरफ्तार किया था.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. सांसद कार्ति चिदंबरम के करीबी सहयोगी एस. भास्कर रमन की जमानत को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है. कहा जा रहा है कि रमन की जमानत अर्जी पर कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है. जानकारी के मुताबिक, रॉउज एवन्यू कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रखा है. सीबीआई ने वर्ष 2011 में हुए वीजा मामले में पिछले दिनों कार्ति, उनके सहयोगी भास्करन रमन और पंजाब में काम कर रही एक कंपनी समेत कई लोगों के खिलाफ आपराधिक धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया था.

एफआईआर में कहा गया कि पंजाब में बिजली संयंत्र लगा रहे वेदांता समूह की कंपनी तलवंडी साबो पावर लिमिटेड के एक शीर्ष अधिकारी ने कार्ति और उनके करीबी सहयोग एस भास्कर रमन को वीजा जारी कराने के लिए 50 लाख रुपये दिए थे. साथ ही आरोप है कि चीनी कंपनी ने भास्कर रमन के जरिये ही कार्ति से संपर्क साधा था. सीबीआई ने इस मामले में भास्कररमन को गिरफ्तार किया था.

कार्ति और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया था

बता दें कि पिछले शुक्रवार को  केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) ने वर्ष 2011 में 263 चीनी नागरिकों को वीजा दिलाने के लिए कथित तौर पर 50 लाख रुपये रिश्वत लेने के मामले में लोकसभा सांसद कार्ति चिदंबरम से लगातार दूसरे दिन आठ घंटे तक पूछताछ की थी. अधिकारियों ने यह जानकारी दी थी. यह मामला तब का है, जब कार्ति के पिता पी चिदंबरम केंद्रीय गृह मंत्री थे. सीबीआई ने कार्ति और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया था.

राजनीतिक प्रतिशोध के तहत हुई कार्रवाई

अधिकारियों ने बताया कि कांग्रेस नेता सुबह में सीबीआई मुख्यालय पहुंचे, जहां उनसे इस मामले से संबंधित विभिन्न पहलुओं को लेकर पूछताछ की गयी. अधिकारियों के अनुसार, विभिन्न दस्तावेजों की पृष्ठभूमि में कार्ति से पूछताछ की गई. कार्ति ने अपने खिलाफ लगाये गये आरोपों को राजनीतिक प्रतिशोध की कार्रवाई करार दिया है.  सीबीआई की प्राथमिकी में कहा गया है कि यह मामला 263 चीनी कर्मियों को दोबारा वीजा जारी करने के लिए वेदांता समूह की कंपनी तलवंडी साबो पावर लिमिटेड (टीएसपीएल) के एक शीर्ष अधिकारी द्वारा कार्ति चिदंबरम और उनके करीबी एस भास्कररमन को कथित तौर पर 50 लाख रुपये की रिश्वत दिए जाने के आरोपों से संबंधित है.

Tags: Court, Delhi news, Delhi news updates, Karti Chidambaram

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर