लाइव टीवी

बड़बोले बयानों पर बीजेपी को RSS नेता ने दी नसीहत- प्रभु राम की मर्यादा का संदेश याद रखें, सोच समझकर बोलें
Ayodhya News in Hindi

भाषा
Updated: February 29, 2020, 12:57 PM IST
बड़बोले बयानों पर बीजेपी को RSS नेता ने दी नसीहत- प्रभु राम की मर्यादा का संदेश याद रखें, सोच समझकर बोलें
आरएसएस नेता ने आरोप लगाया कि अतीत में दिल्ली से भारत पर दबाव बनाने का प्रयास किया गया. (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले (Dattatreya Hosabale) ने कहा कि, दिल्ली पर अयोध्या के वर्चस्व से ही भारत का सही मायने में पुनरुद्धार होगा. भारत के सांस्कृतिक एवं सामाजिक जीवन में अयोध्या (Ayodhya) के महत्व को रेखांकित करते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि अतीत में दिल्ली से भारत पर दबाव बनाने का प्रयास किया गया.

  • भाषा
  • Last Updated: February 29, 2020, 12:57 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले (Dattatreya Hosabale) ने शुक्रवार को कहा, ‘दिल्ली पर जब अयोध्या (Ayodhya) का वर्चस्व होगा तभी भारत का सही मायने में पुनरुद्धार होगा.’ साथ ही उन्होंने विवादास्पद बयान देने वाले राजनीतिक नेताओं को भगवान राम की ‘वचन मर्यादा’ का संदेश याद रखने की नसीहत दी. होसबोले ने कहा, ‘भगवान राम (Lord ram) मर्यादा पुरुषोत्तम थे और वे वचन की मर्यादा भी रखते थे. जो चाहें, वही न बोलने लगें, सोच-समझकर बोलें ... आज उनका यही संदेश है.’

विवादित बयानों की पृष्ठभूमि में दी नहीहत
उन्होंने कहा कि, ‘हमें अपने सामाजिक, राजनीतिक जीवन में इसका (वचन मर्यादा) पालन करने की जरूरत है. यही रामजी का संदेश है’. इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में आयोजित ‘अयोध्या पर्व’ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने ये बातें कहीं. उनकी इस नसीहत को बीजेपी नेताओं अनुराग ठाकुर, प्रवेश वर्मा, कपिल मिश्रा सहित विभिन्न नेताओं द्वारा हाल में दिए गए कुछ विवादास्पद बयानों की पृष्ठभूमि में देखा जा रहा है. गौरतलब है कि बीजेपी नेता अनुराग ठाकुर, प्रवेश वर्मा, कपिल मिश्रा को उनके विवादास्पद बयान को लेकर आलोचनाओं का सामना करना पड़ा रहा है. इस संबंध में एक मामले पर अदालत में सुनवाई भी हो रही है.

अयोध्या का पुनर्निर्माण होगा



भारत के सांस्कृतिक एवं सामाजिक जीवन में अयोध्या के महत्व को रेखांकित करते हुए दत्तात्रेय होसबोले ने आरोप लगाया कि अतीत में दिल्ली से भारत पर दबाव बनाने का प्रयास किया गया. उन्होंने कहा, ‘दिल्ली पर जब अयोध्या का वर्चस्व होगा, तभी भारत का सही मायने में पुनरुद्धार होगा.’ भगवान राम को ‘आराध्य देव’ बताते हुए संघ के वरिष्ठ प्रचारक ने कहा, ‘अयोध्या को लम्बे समय तक शासन और न्यायपालिका के समक्ष इंतजार करना पड़ा. अब जब यह प्रतीक्षा समाप्त हो गई है तो भव्य राम मंदिर तो बनेगा ही, हमें अपेक्षा है कि अयोध्या का पुनर्निर्माण भी होगा.

हिन्दू तीर्थ स्थलों का नहीं किया गया अपेक्षित विकास
होसबोले ने अयोध्या के संदर्भ में समाजवादी चिंतक राममनोहर लोहिया को उद्धृत करते हुए आरोप लगाया कि पहले हिन्दू तीर्थ स्थलों का अपेक्षित विकास नहीं किया गया. श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय ने कहा कि अयोध्या कितनी प्राचीन है, इसको लेकर तरह-तरह की चर्चाएं हुई हैं. ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास ने भी अयोध्या को दुनिया की सबसे प्राचीन नगरी बताया और अयोध्या के महत्व के बारे में देश-दुनिया को नए सिरे से बताने की आवश्यकता पर बल दिया. इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में तीन दिवसीय ‘अयोध्या पर्व’ की शुरुआत की गई है, जिसमें अयोध्या के विभिन्न पहलुओं को प्रदर्शित किया गया है.

ये भी पढ़ें - 

राजद्रोह कानून पर अरविंद केजरीवाल सरकार की समझ गलत: पी. चिदंबरम

JNU देशद्रोह केस: कन्हैया बोले- ऐसे समय दी गई मंजूरी, सबको समझ में आ जाएगा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 29, 2020, 12:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर