Girl Friend से शादी के लिए RTI कार्यकर्ता ने रची थी खुद की हत्या की कहानी, हुई उम्रकैद

चंद्र मोहन शर्मा को कोर्ट ने दोषी करार दिया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

चंद्र मोहन शर्मा को कोर्ट ने दोषी करार दिया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

चंद्र मोहन शर्मा नामक शख्‍स एक विक्षिप्‍त शख्‍स को जिंदा जलाकर खुद की मौत का स्‍वांग रचा था. उसकी पत्‍नी की शिकायत पर मामले की छानबीन की गई, जिसमें चौंकाने वाला खुलासा हुआ.

  • भाषा
  • Last Updated: September 29, 2019, 2:05 PM IST
  • Share this:
नोएडा. प्रेमिका (Girl Friend) से शादी करने के लिए अपनी ही मौत का स्वांग रचने वाले आरटीआई कार्यकर्ता (RTI Activist) को जिला न्यायालय ने आजीवन कारावास (Life Imprisonment) की सजा सुनाई है, जबकि उसकी प्रेमिका को दो वर्ष की सजा हुई है. आरोपी पहले से ही शादीशुदा था, उसने एक विक्षिप्त व्यक्ति की हत्या कर उसे अपनी कार में जला दिया था और अपनी मौत का स्वांग रचा था. बाद में पुलिस ने उसे बेंगलुरु से उसकी प्रेमिका के साथ गिरफ्तार किया था.



अपर शासकीय अधिवक्ता हरीश सिसोदिया ने बताया कि वर्ष 2014 के 1 मई को थाना कासना क्षेत्र के जेपी ग्रीन के पास एक कार में एक व्यक्ति जला हुआ मिला. मृतक की शिनाख्त चंद्र मोहन शर्मा के रूप में हुई और इस मामले में उसकी पत्नी सविता शर्मा ने कासना गांव के रहने वाले चार लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था.



प्रेमिका के साथ बेंगलुरु से हुआ गिरफ्तार

सविता का आरोप था कि उसके पति आरटीआई कार्यकर्ता हैं. गांव में कुछ लोगों द्वारा अवैध रूप से मंदिर का निर्माण किया गया है, इस मामले में उन्होंने (चंद्र मोहन शर्मा) आरटीआई डाली थी और उसी का बदला लेने के लिए उनकी हत्या कर दी गई. उन्होंने बताया कि बाद में पुलिस ने जांच के दौरान बेंगलुरु से चंद्र मोहन शर्मा और उसकी प्रेमिका प्रीति नागर को जिंदा गिरफ्तार किया.
अपनी मौत को साबित करने के लिए दूसरे की कर दी हत्या



पूछताछ के दौरान चंद्रमोहन ने पुलिस को बताया कि वह प्रीति नागर से प्रेम करता है और अपनी मौत का स्वांग रचकर वह प्रीति के साथ शादी करके यहां से (नोएडा) दूर रहना चाह रहा था. उसने पुलिस को बताया कि अपनी मौत को साबित करने के लिए उसने एक विक्षिप्त व्यक्ति की हत्या कर उसके शव को अपनी गाड़ी में रखकर मिट्टी का तेल डालकर उसमें आग लगा दिया था.



प्रेमिका को दो वर्ष की सजा

शासकीय अधिवक्ता ने बताया कि पक्ष और विपक्ष दोनों तरफ की दलील सुनने के बाद न्यायाधीश निरंजन कुमार ने इस मामले में चंद्रमोहन को आजीवन कारावास और 50,000 का जुर्माना लगाया है, जबकि उसकी प्रेमिका प्रीति नागर को 2 वर्ष की सजा सुनाई गई है. उन्होंने बताया कि इस मामले में विदेश नामक एक व्यक्ति भी आरोपी था, जिसे साक्ष्य के अभाव में न्यायालय ने बरी कर दिया है.



ये भी पढ़ें-



सरकारी स्कूलों के बच्चों को बांटे जा रहे घटिया जूते-मोजे, मैनपुरी में खुलासा



आगरा में भाजपा नेता की हत्या, नहर में मिली लाश, दो दिन से थी लापता
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज