• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • Noida-ग्रेटर नोएडा के 54 हजार वाहनों के लिए अलर्ट जारी, जानिए क्या है वजह

Noida-ग्रेटर नोएडा के 54 हजार वाहनों के लिए अलर्ट जारी, जानिए क्या है वजह

गौतम बुद्ध नगर आरटीओ ने 10 और 15 साल पुराने वाहनों के लिए अलर्ट जारी किया है. 
(Photo-  news18 English via Reuters)

गौतम बुद्ध नगर आरटीओ ने 10 और 15 साल पुराने वाहनों के लिए अलर्ट जारी किया है. (Photo- news18 English via Reuters)

Noida News: अलर्ट जारी करने का मकसद ऐसे वाहनों को एनओसी जारी करना है. एनओसी (NOC) मिलते ही इन वाहनों को दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) के बाहर बेचा जा सकेगा.

  • Share this:
    नोएडा. ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) और नोएडा में दौड़ रहे 54 हजार वाहनों पर तलवार लटक गई है. गौतमबुद्ध नगर के आरटीओ (RTO) दफ्तर ने इन वाहनों को लेकर अलर्ट जारी किया है. इनमें प्राइवेट और कमर्शियल दोनों तरह के वाहन शामिल हैं. यह डीजल और पेट्रोल (Petrol) के वाहन है. अलर्ट जारी करने की वजह वाहनों की मियाद बताई जा रही है. ये वो वाहन हैं जिनकी 10 और 15 साल की मियाद पूरी होने जा रही है. अलर्ट जारी करने का मकसद ऐसे वाहनों को एनओसी जारी करना है. एनओसी (NOC) मिलते ही कंडम होने के बजाए इन वाहनों को दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) के बाहर बेचा जा सकेगा.

    आरटीओ दफ्तर से जुड़े अधिकारियों की मानें तो पेट्रोल से चलने वाले वाहन 15 साल तक ही सड़क पर चलाए जा सकते हैं. इसी तरह से डीजल वाले वाहन 10 साल तक सड़क पर दौड़ाए जा सकते हैं, लेकिन 10 और 15 साल की मियाद पूरी होते ही ऐसे वाहनों को दिल्ली-एनसीआर में कंडम घोषित कर दिया जाता है. हालांकि, वाहनों को कंडम घोषित करने की पॉलिसी कई राज्यों और ज़िलों में अलग-अलग हैं.

    इसी के चलते दिल्ली-एनसीआर में ऐसे वाहनों को कंडम करने से पहले वाहन मालिकों को एक मौका देते हुए वाहनों की एनओसी जारी की जाती है. इस एनओसी की मदद से वाहन मालिक अपने वाहन को दिल्ली-एनसीआर से बाहर किसी दूसरे राज्य और ज़िले में आसानी से बेच सकता है. अभी क्योंकि वाहन स्क्रैप पॉलिसी जारी नहीं हुई है तो ऐसे में वाहन मालिकों को एनओसी की सुविधा दी जा रही है.
    मथुरा-वृंदावन जाने के लिए तीन दिन तक ट्रैफिक में रहेगा बदलाव, जानिए क्या है नया प्लान

    नोएडा में हर महीने होती है ऐसे वाहनों की छंटनी
    नोएडा परिवहन विभाग हर महीने ऐसे वाहनों की छंटनी करता है, जिनकी मियाद पूरी होती जाती है. एक आंकड़े के मुताबिक बीते 3 साल में नोएडा परिवहन विभाग 60 हजार से ज्यादा वाहनों का रजिस्ट्रेशन कैंसिल कर चुका है या फिर एनओसी जारी कर ऐसे वाहनों को नोएडा से बाहर कर चुका है.

    जानकारों की मानें तो हर महीने 2 से ढाई हजार वाहनों के संबंध में इस तरह की कार्रवाई की जाती है. इस साल जनवरी से मार्च तक 3365 वाहनों के खिलाफ इस तरह की कार्रवाई हो चुकी है. वहीं, बीते साल इन्हीं तीन महीनों में 2517 वाहनों को नोएडा से बाहर किया गया था या फिर उनका रजिस्ट्रेशन कैंसिल किया गया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज