लाइव टीवी

COVID-19: लॉकडाउन के बाद जमात-ए-इस्लामी हिंद का बड़ा ऐलान, मस्जिदों में सिर्फ ये 6 लोग पढ़ेंगे नमाज़
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: March 23, 2020, 8:37 PM IST
COVID-19: लॉकडाउन के बाद जमात-ए-इस्लामी हिंद का बड़ा ऐलान, मस्जिदों में सिर्फ ये 6 लोग पढ़ेंगे नमाज़
File Photo.

मोहल्ले के दूसरे लोग अपने-अपने घरों में नमाज़ (Namaz) पढ़ेंगे. इतना ही नहीं जुमा (Juma) की नमाज भी मस्जिदों (Masjid) में सिर्फ यही 6 से 8 लोग पढ़ेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2020, 8:37 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) से बचाव के लिए हर जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं. शहरों और राज्यों को लॉकडाउन (lockdown) करना भी इसी दिशा में उठाया गया एक जरूरी कदम है. इसी को देखते हुए जमात-ए-इस्लामी हिंद ने एक हिदायत जारी की है. हिदायत के मुताबिक मस्जिदों (Masjid) में अब कुछ दिन के लिए सिर्फ 6 से 8 लोग ही नमाज़ (Namaz) पढ़ेंगे. मोहल्ले के दूसरे लोग अपने-अपने घरों में नमाज़ पढ़ेंगे. इतना ही नहीं जुमा (Juma) की नमाज भी मस्जिदों में सिर्फ यही 6 से 8 लोग पढ़ेंगे. यह हिदायत जमात-ए-इस्लामी हिंद, शरीया काउंसिल की ओर से जारी की गई है.

ये लोग ही मस्जिदों में पढ़ेंगे नमाज़

जमात-ए-इस्लामी हिंद के प्रेसीडेंट मौलाना सदातउल्लाह हुसैनी और शरीया काउंसिल के प्रेसीडेंट मौलाना सैय्यद जलालउद्दीन उमरी ने हिदायत जारी करते हुए कहा है कि कोरोना वायरस से बचाव को देखते नमाज़ के लिए कुछ जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं. इसमें एक जरूरी कदम यह है कि मस्जिद में अब कुछ दिनों के लिए इमाम, मुआज्ज़िम, मस्जिद से जुड़ी कमेटी के लोग और खादिम ही नमाज़ पढ़ेंगे. रोज़ाना की तरह से मस्जिद में अज़ान होगी, लेकिन मोहल्ले और कॉलोनियों के लोग घरों में ही नमाज़ पढ़ेंगे. इसी तरह से जुमा की नमाज़ भी अदा की जाएगी.

मस्जिद में हर रोज़ किया जाएगा यह काम



जमात-ए-इस्लामी हिंद के प्रेसीडेंट मौलाना सदातउल्लाह हुसैनी ने जारी हुई गाइडलाइन में यह हिदायत भी दी गई है कि मस्जिद को सैनिटाइज़ किया जाए. मेडिकल एक्सपर्ट की ओर से जारी की गई गाइडलाइन का पालन करते हुए मस्जिद की साफ-सफाई की जाए. मस्जिद में नमाज़ पढ़ने वाले लोग खुद भी डॉक्टर द्वारा बताए गए तरीके से मौजूदा हाल में खुद का बचाव करें.

लॉकडाउन के दौरान इनकी मदद करने का किया आह्रवान

प्रेसीडेंट मौलाना सदातउल्लाह हुसैनी ने कहा है कि देश के बहुत सारे राज्यों और शहरों में लॉकडाउन का ऐलान किया जा चुका है. सभी लोगों को घरों में ही बैठने का फरमान सुनाया गया है. ऐसे में उन लोगों को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है, जो रोज़ बाज़ार में जाकर कमाते और फिर परिवार का पेट भरते हैं. इसलिए अपने-अपने मोहल्ले में इस बात का ख्याल रखें कि हर जरूरतमंद की ऐसे वक्त में मदद करें. सदका और ज़कात देते रहें.

ये भी पढ़ें-सुकमा हमला: कैसे नक्सलियों के बिछाए जाल में फंस जाते हैं जवान, क्यों नहीं समझ पाते चालबाजी!
COVID-19: दिल्ली में कोरोना लॉकडाउन के बीच एक साथ बैठने को मजबूर हैं 950 लोग, जानें वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 23, 2020, 7:33 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर