होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /सफदरगंज अस्पताल के बाहर कपड़े घेरकर कराई महिला की डिलीवरी, Video हुआ वायरल, DCW ने भेजा नोटिस

सफदरगंज अस्पताल के बाहर कपड़े घेरकर कराई महिला की डिलीवरी, Video हुआ वायरल, DCW ने भेजा नोटिस

दिल्ली महिला आयोग ने सफदरजंग अस्पताल द्वारा एक गर्भवती महिला को भर्ती करने से मना करने के मामले में नोटिस जारी किया है.

दिल्ली महिला आयोग ने सफदरजंग अस्पताल द्वारा एक गर्भवती महिला को भर्ती करने से मना करने के मामले में नोटिस जारी किया है.

Safdarganj hospital delhi women commission notice: दिल्ली महिला आयोग ने सफदरजंग अस्पताल द्वारा एक गर्भवती महिला को भर्त ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

सफदरगंज अस्पताल ने नहीं किया भर्ती तो अस्पताल के बाहर ही हुआ गर्भवती का प्रसव
महिलाओं ने मिलकर कराई डिलीवरी, अस्पताल के डॉक्टरों की दिखी लापरवाही
वीडियो देख दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष ने कहा-ये बेहद शर्मनाक है

नई दिल्ली. दिल्ली महिला आयोग ने सफदरजंग अस्पताल के बाहर एक महिला के प्रसव के वीडियो का कड़ा संज्ञान लेते हुए इस मामले में अस्पताल को नोटिस जारी किया है. कथित तौर पर महिला को भर्ती न करने पर अस्पताल से जवाब मांगा गया है. आयोग को सफदरजंग अस्पताल के परिसर में महिला की पीड़ा को दिखाता हुआ एक वीडियो मिला था, जिसे देखने के बाद नोटिस जारी कर अस्पताल प्रबंधन को लेकर नाराजगी जताते हुए जवाब मांगा गया.

जानकारी के मुताबिक वीडियो में गर्भवती महिला को कुछ महिलाओं से घिरा देखा जा सकता है जो उसके प्रसव में उसकी सहायता कर रही हैं. साथ ही वीडियो में एक महिला को सुना जा सकता है जो अस्पताल पर भर्ती न करने का आरोप लगा रही है. गर्भवती महिला पूरी रात अस्पताल के बाहर बैठी रही परंतु अस्पताल ने न ही दाखिला दिया और न डॉक्टरों ने उसकी कोई मदद की. आयोग ने सफदरजंग अस्पताल को नोटिस जारी कर अस्पताल से घटना के सम्बन्ध में एक विस्तृत जांच रिपोर्ट देने को कहा है. आयोग ने अस्पताल से महिला की हालत गंभीर होने के बावजूद भी उसे भर्ती करने से इनकार करने के बारे में भी कारण बताने को कहा है. जिस कारण अंततः मजबूरन उसे अस्पताल की इमारत के बाहर ही बच्चे को जन्म देना पड़ा.

" isDesktop="true" id="4403961" >

इस लापरवाही पर अस्पताल से मांगा कार्रवाई का विवरण
आयोग ने इस लापरवाही के लिए जिम्मेदार कर्मचारियों और उनके खिलाफ अस्पताल द्वारा की गई कार्रवाई का विवरण भी मांगा है. इसके अलावा, आयोग ने अस्पताल से ये भी बताने को कहा है कि क्या अस्पताल के किसी कर्मचारी या डॉक्टर ने अस्पताल की इमारत के बाहर महिला की डिलीवरी में मदद की या नहीं. साथ ही आयोग ने आपातकालीन मामलों में अस्पताल द्वारा अपनाए जाने वाले प्रोटोकॉल के संबंध में भी जानकारी मांगी और मामले की गंभीरता को देखते हुए अस्पताल से 25 जुलाई 2022 तक मांगी गई जानकारी उपलब्ध कराने को कहा.

​महिला आयोग की अध्यक्ष बोलीं- ये घटना बहुत ही शर्मनाक
दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने इस घटना पर रोष व्यक्त करते हुए कहा, ‘जब प्रतिष्ठित सरकारी अस्पताल भी गंभीर रोगियों को भर्ती और इलाज देने से इनकार करते हैं तो सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली में आम लोगों का विश्वास कमज़ोर पड़ता हैं. मैंने सफदरजंग अस्पताल को नोटिस जारी कर अस्पताल से मामले में संबंधित अधिकारियों की जवाबदेही तय करने के लिए कहा है. यह बहुत ही शर्मनाक घटना है और लापरवाह अधिकारियों के खिलाफ निश्चित तौर पर कार्रवाई की जानी चाहिए और स्थिति को सुधारने के लिए तत्काल कदम उठाए जाने चाहिए ताकि ऐसी घटनाएं दुबारा सामने ना आएं.’

Tags: DCW, New Delhi news, Women Commission

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें