• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • SAFDARJUNG RECEIVES MOST RAINFALL DURING PAST 3 HOURS AT DIFFERENT PLACES OVER DELHI NODARK

Weather Update: Delhi-NCR में गरज के साथ तेज बारिश, बढ़ सकती है ठंड

दिल्‍ली में कई जगह अच्‍छी बारिश हुई है.

Rain in Delhi-NCR: दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में रविवार को कई जगह जमकर बारिश हुई. इसके अलावा नोएडा (Noida), ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद में भी बारिश की वजह से सर्दी बढ़ गई है. यह लगातार दूसरा दिन है जब दिल्ली-एनसीआर में बारिश हुई है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में रविवार की सुबह बादलों की गर्जना के साथ हुई तेज बारिश (Rain in Delhi-NCR) करीब दोहपर तीन बजे तक चली, जिसने मौसम को और ठंडा कर दिया है. इसके अलावा नोएडा (Noida), ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद में भी जबर्दस्त बारिश से हुई. आपको बता दें कि यह लगातार दूसरा दिन है जब दिल्ली-एनसीआर में बारिश हुई है. बिजली चमकने और बादलों की गर्जना के साथ तेज बारिश ने मौसम को और सर्द कर दिया है. इस बीच दिल्‍ली में कई जगह अच्‍छी बारिश हुई है.

    दिल्‍ली के सफदरजंग में 6.4 एमएम बारिश दर्ज की गई. इसके अलावा पालम में 1.5 एमएम, लोधी रोड में 8.0 एमएम और आयानगर में 6.0 एमएम बारिश दर्ज की गई है. इसके साथ दिल्‍ली और आसपास के शहरों में ठंड और बढ़ सकती है.



    इससे पहले शनिवार को भी दिल्ली से सटे आसपास के नोएडा, ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद में बारिश हुई. मौसम विभाग के वैज्ञानिकों ने पूर्वानुमान में बताया कि पश्चिमी विक्षोभ का असर दिल्ली सहित उत्तर पश्चिम भारत के कई इलाकों में देखा जा रहा है. इसी वजह से दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश समेत कई अन्य स्थानों पर मौसम में बदलाव महसूस किया जा रहा है. शनिवार को दिल्ली के अलग-अलग इलाकों और एनसीआर में बारिश हुई.

    जबकि शुक्रवार को खबर सामने आई थी कि ठंड ने पिछले कई वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. नए साल के पहले दिन सफदरजंग ऑब्‍जर्वेटरी ने न्‍यूनतम तापमान 1.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया है. मौसम विभाग के अधिकारियों के अनुसार, साल 1935 के जनवरी महीने में तापमान सबसे कम -0.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था. भारतीय मौसम विभाग के क्षेत्रीय प्रमुख कुलदीप श्रीवास्‍तव ने बताया कि शुक्रवार सुबह 6 बजे विजिबिलिटी शून्‍य थी. सुबह 10 बजे पालम और सफदरजंग इलाके में दृश्‍यता कुछ बढ़ी, लेकिन यह 200 मीटर से नीचे ही दर्ज किया गया.