• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • Sagar Dhankhar murder case: दिल्ली पुलिस सोमवार को कोर्ट में पेश करेगी चार्जशीट

Sagar Dhankhar murder case: दिल्ली पुलिस सोमवार को कोर्ट में पेश करेगी चार्जशीट

रेसलर सुशील कुमार और अन्य पहलवानों के खिलाफ सोमवार को कोर्ट में दाखिल की जाएगी चार्जशीट. (फाइल फोटो)

रेसलर सुशील कुमार और अन्य पहलवानों के खिलाफ सोमवार को कोर्ट में दाखिल की जाएगी चार्जशीट. (फाइल फोटो)

Sagar Dhankhar murder case:इस हत्याकांड में मुख्य आरोपी पहलवान सुशील कुमार है. स्पेशल सेल ने कुल 20 आरोपियों में से 15 को गिरफ्तार कर लिया है. 3 महीने की तफ्तीश के बाद यह चार्जशीट तैयार की गई है.

  • Share this:

नई दिल्ली. बहुचर्चित सागर पहलवान हत्याकांड में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने चार्जशीट तैयार कर ली है. सोमवार यानी कल दिल्ली पुलिस यह चार्जशीट कोर्ट में दाखिल करेगी. इस हत्याकांड में मुख्य आरोपी अंतरराष्ट्रीय पहलवान सुशील कुमार हैं. दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के स्पेशल सेल ने कुल 20 आरोपियों में से 15 को गिरफ्तार कर लिया है. 3 महीने की तफ्तीश के बाद पुलिस ने यह चार्जशीट तैयार की है.

आपको बता दें कि इस मामले में दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के स्पेशल सेल ये 15 गिरफ्तारियां दिल्ली एनसीआर और हरियाणा से की हैं. 5 आरोपी अभी भी फरार चल रहे हैं, इनमें से 3 इनामी बदमाश हैं. सागर हत्याकांड के फरार बदमाशों में आसौदा गांव के प्रवीण उर्फ चोटी, जोगेंद्र काला और राहुल हैं.

दिल्ली पुलिस की जांच के दौरान पता चला है कि वर्चस्व की लड़ाई के चलते सागर पहलवान की हत्या की गई थी. इस वर्चस्व के पीछे सुशील कुमार की पत्नी के नाम का वह फ्लैट भी है, जिसमें सागर धनखड़ बतौर किराएदार रहता था. सरकारी कागज में यह भी दर्ज है कि सुशील पहलवान के खेमे के कुछ जूनियर पहलवान तब सागर पहलवान के खेमे में चले गए थे. इस बात से भी सुशील पहलवान नाराज था.

क्राइम ब्रांच की तफ्तीश के मुताबिक, 4 मई की शाम सुशील और अन्य आरोपियों की मीटिंग हुई थी. इस मीटिंग के बाद 4 और 5 मई की रात छत्रसाल स्टेडियम में सागर पहलवान के साथ मारपीट की गई और वहीं उसकी हत्या भी हो गई थी.

सागर पहलवान की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, भोथरे और भारी वस्तु से हमला करने के कारण सागर को गहरी चोट आई, जिसकी वजह से उसकी मौत हुई. इस हत्याकांड में दिल्ली पुलिस ने धारा 302 यानी हत्या, 308 यानी जानलेवा चोट पहुचाना, 307 हत्या का प्रयास, 364, 365 यानी अपरहण, 147, 149, 269, 188, 342, 325, 452, 505 (2) 392, 394, 397, 411,120 यानी आपराधिक साजिश, 25/27 आर्म्स एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया था.
क्राइम ब्रांच ने 50 से ज्यादा गवाह बनाए हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज