सागर हत्‍याकांड: दिल्ली-हरियाणा में अपने ठिकाने लगातार बदल रहा पहलवान सुशील, जानें हर‍िद्वार में कहां रुका था

द‍िल्‍ली पु‍ल‍िस के सूत्रों ने बताया है क‍ि छत्रसाल स्टेडियम में हुई हत्या की वारदात के बाद सुशील पहलवान पहले हरिद्वार और फिर ऋषिकेश गया था.

द‍िल्‍ली पु‍ल‍िस के सूत्रों ने बताया है क‍ि छत्रसाल स्टेडियम में हुई हत्या की वारदात के बाद सुशील पहलवान पहले हरिद्वार और फिर ऋषिकेश गया था.

Delhi News: 23 वर्षीय पूर्व जूनियर राष्ट्रीय चैंपियन सागर की हत्‍या के मामले में कथित रूप से ओलंपिक मेडल विजेता पहलवान सुशील कुमार का नाम सामने आने के बाद दिल्ली पुलिस उसकी तलाश में लगी है. पुल‍िस सूत्रों ने बताया है क‍ि सुशील पहलवान लगातार अपने ठ‍िकाने बदल रहा है.

  • Share this:

ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार (Wrestler Sushil Kumar) का नाम 23 वर्षीय पूर्व जूनियर राष्ट्रीय चैंपियन सागर की हत्या के मामले में सामने आने के बाद से वह फरार है. द‍िल्‍ली पु‍ल‍िस के सूत्रों ने बताया है क‍ि छत्रसाल स्टेडियम में हुई हत्या की वारदात के बाद सुशील पहलवान पहले हरिद्वार और फिर ऋषिकेश गया था. सुशील पहलवान हरिद्वार में आश्रम में जाकर भी रुका था और फिर वापस दिल्ली भी आया. सूत्रों के मुताबिक, सुशील दिल्ली-हरियाणा में अपने ठिकाने लगातार बदल रहा है. द‍िल्‍ली पुल‍िस ने सुशील कुमार के खि‍लाफ लुक आउट नोट‍िस भी जारी क‍िया है.

आपको बता दें क‍ि हत्या के इस मामले में कथित रूप से सुशील कुमार का नाम सामने आने के बाद दिल्ली पुलिस ने उनके घर पर रेड मारी. दरअसल, दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में बीते मंगलवार पहलवानों के दो गुटों के बीच मारपीट हो गई थी, जिसमें 23 साल के एक पहलवान की मौत हो गई. बताया जा रहा है इस पूरे मामले में दिल्ली पुलिस ने सुशील कुमार समेत दो अन्य पहलवानों के घर छापेमारी की गई है.

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि बीजिंग ओलंपिक में कांस्य और लंदन ओलंपिक में रजत पदक जीतने वाले सुशील कुमार इस मामले में प्राथमिकी में नामजद हैं. वह फरार हैं और उनकी तलाश जारी है. दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के अलावा पड़ोसी राज्यों में उनकी तलाश में छापे मारे जा रहे हैं. उन्होंने बताया कि पीड़ितों ने आरोप लगाया है कि सुशील घटना के समय घटनास्थल पर मौजूद थे.

सुशील कुमार का पता लगाने के ल‍िए कई टीमें बनाई गई
इस मामले पर अतिरिक्त डीसीपी (उत्तर-पश्चिम) डॉ. गुरिकबल सिंह सिद्धू ने बताया था क‍ि हम सुशील कुमार की भूमिका की जांच कर रहे हैं, क्योंकि उनके खिलाफ आरोप लगाए गए हैं. हमने अपनी टीम उसके घर भेजी, लेकिन वह गायब थे. हम उनकी तलाश कर रहे हैं. आरोपी व्यक्तियों का पता लगाने के लिए कई टीमों का गठन किया गया है.' मामले में एफआईआर एक पीसीआर कॉल के आधार पर सहायक उप-निरीक्षक (ASI) जितेंद्र सिंह द्वारा दर्ज की गई. शुरुआती जांच में यह सामने आया है कि सुशील पहलवान (कुमार) और उनके सहयोगियों ने यह अपराध किया. प्राथमिकी में कहा गया है कि चार घंटे तक चली इस घटना में दो अन्य लोग घायल हुए हैं. उन्होंने पुलिस को बताया कि उन पर 'शारीरिक हमला' किया गया था. एडीसीपी ने कहा, 'मृतक की पहचान सागर कुमार के रूप में हुई. दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल के बेटे और घायलों की पहचान सोनू महल (35) और अमित कुमार (27) के रूप में हुई है. हमने एक प्राथमिकी दर्ज की है. प्रिंस दलाल (24) को गिरफ्तार किया है और मौके से एक डबल बैरल बंदूक जब्त की है.'

क्‍या है पूरा मामला 

बता दें कि दिल्ली पुलिस को बीते बुधवार दोपहर करीब 12 बजे छत्रसाल स्टेडियम में पहलवानों के बीच झगड़े की खबर मिली थी. झगड़े में घायल होने वाले पहलवान को बीजेआरएम अस्पताल में भर्ती कराया गया जिसके बाद हालत बिगड़ती देख उसे ट्रॉमा सेंटल ले जाया गया, जहां बुधवार सुबह को उसकी मौत हो गई. गुरिकबल सिंह सिद्धू के अनुसार, पुलिस ने पाया कि स्टेडियम के पार्किंग क्षेत्र में सुशील कुमार, अजय, प्रिंस, सोनू, सागर, अमित और अन्य के बीच कथित तौर पर झगड़ा हुआ था. पुलिस सूत्रों ने बताया कि सागर और उसके दोस्त मॉडल टाउन इलाके में स्टेडियम के पास कुमार से जुड़े एक घर में रह रहे थे और हाल ही में उन्हें खाली करने के लिए कहा गया था.



पुलिस सूत्रों के मुताबिक, सागर ने 97-किलोग्राम ग्रीको-रोमन श्रेणी में प्रतिस्पर्धा की थी और वह एक पूर्व जूनियर राष्ट्रीय चैंपियन और वरिष्ठ राष्ट्रीय शिविर का हिस्सा थे. वहीं, सोनू महल गैंगस्टर काला जत्थेदी का करीबी सहयोगी है और उसे पहले एक लूट और हत्या मामले में गिरफ्तार किया गया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज