Air Force के अफसरों संग डिफेंस और स्ट्रेटेजी पढ़ाएगी देश की यह यूनिवर्सिटी

File Photo.

File Photo.

भारतीय वायु सेना (Indian air force) ने इस चेयर का नाम पहले मार्शल ऑफ एयर फोर्स (Marshal of air force) के नाम पर अर्जन सिंह (Arjan singh) चेयर ऑफ एक्सीलेंस रखा गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 16, 2020, 2:20 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली.  सावित्रीबाई फुले, पुणे विश्वविद्यालय (SPPU)  इंडियन एयर फोर्स (Indian air force) के अफसरों संग डिफेंस और स्ट्रेटेजी पढ़ाने वाला देश का पहला विश्वविद्यालय (University) होगा. हाल ही में इस यूनिवर्सिटी में डिफेंस और स्ट्रेटेजी चेयर बनाई जाएगी. हाल ही में सावित्रीबाई फुले, पुणे विश्वविद्यालय (SPPU) और एयर फोर्स ने इस संबंध में एक समझौते पर साइन किए हैं. जल्द ही यह चेयर काम शुरू कर देगी. इस चेयर का मकसद एयर फोर्स से जुड़ी रिसर्च, हाई स्टडी, स्ट्रेटेजी की सोच को डेवलप करने में मदद करना है. इस चेयर का नाम पहले मार्शल ऑफ एयर फोर्स (Marshal of air force) के नाम पर अर्जन सिंह चेयर ऑफ एक्सीलेंस रखा गया है. एयर फोर्स में मार्शल का वही स्थान होता है जो थल सेना में फील्ड मार्शल का होता है।

यह होगी अर्जन सिंह चेयर ऑफ एक्सीलेंस की खासियत

चेयर एयर फोर्स के अफसरों को रक्षा और सामरिक अध्ययन क्षेत्रों में डॉक्टरेट, अनुसंधान, उच्च अध्ययन को आगे बढ़ाने के लिए मजबूत करेगा. चेयर की मदद से एक रणनीतिक दृष्टिकोण और रणनीतिक विचारकों का निर्माण होगा. चेयर का नाम अर्जन सिंह चेयर ऑफ एक्सीलेंस रखने का मकसद एयर फोर्स के पहले मार्शल ऑफ एयर फोर्स को श्रद्धांजलि देना है.

2019 में यह बड़ा कदम भी उठा चुकी एयर फोर्स
नई रणनीतियों हों या एयर फोर्स को और ज़्यादा मजबूत बनाने की कोशिश, इस काम में लगातार एयर फोर्स दो कदम आगे चल रही है. हाल ही में एयर फोर्स ने महिला फाइटर पायलट तैयार की हैं. एयरफोर्स की पहली महिला फाइटर पायलट भी युद्ध के लिए तैयार हैं. फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कांत की ज़्यादातर ट्रेनिंग का हिस्सा पूरा हो गया है. भावना कांत मिग-21 बाइसन फाइटर पायलट हैं. अभी फ्लाइट लेफ्टिनेंट अवनि चतुर्वेदी और मोहना सिंह की ट्रेनिंग भी चल रही है. अवनि चतुर्वेदी अकेले लड़ाकू विमान उड़ाने वाली पहली महिला फाइटर पायलट बनी हैं. फाइटर पायलट बनने के लिए अलग-अलग फेज में ट्रेनिंग होती है. पहले उन्हें अकेले लड़ाकू विमान उड़ाने के लिए तैयार किया जाता है फिर कैसे लड़ाकू विमान को युद्ध की स्थिति में हथियार के साथ इस्तेमाल करना है, उसकी ट्रेनिंग होती है.

समारोह में यह लोग रहे मौजूद

इस समारोह की अध्यक्षता एसपीपीयू के कुलपति नितिन करमलकर ने की. इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एयर ऑफिसर-इन-चार्ज कार्मिक एयर मार्शल अमित देव थे. कार्यक्रम में एयर स्टॉफ (शिक्षा) के सहायक प्रमुख एयर वाइस मार्शल एलएन शर्मा तथा भारतीय वायुसेना के वरिष्ठ अधिकारी और विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने भी भाग लिया.



यह भी पढ़ें :-

हर साल एक लाख से ज़्यादा भारतीय नागरिकता छोड़ किन देशों में जा रहे हैं

कोरोना के कहर से चिकन की कीमतों में आई सबसे बड़ी गिरावट, कुछ ही दिनों में 76% गिरे दाम

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज