Home /News /delhi-ncr /

Schools open new: यूपी में नर्सरी से 12वीं तक के स्‍कूल आज खुले, लेकिन छोटी क्‍लास के बच्‍चे कम पहुंचे स्‍कूल

Schools open new: यूपी में नर्सरी से 12वीं तक के स्‍कूल आज खुले, लेकिन छोटी क्‍लास के बच्‍चे कम पहुंचे स्‍कूल

School Reopen: छोटे बच्‍चों के पैरेंट्स नए सेशन से स्‍कूल भेजने के मूड में.

School Reopen: छोटे बच्‍चों के पैरेंट्स नए सेशन से स्‍कूल भेजने के मूड में.

Schools open new: कोरोना आने के बाद करीब साल बाद पहली बार उत्‍तर प्रदेश में नर्सरी और प्राइमरी सेक्‍शन खोले गए हैं. लेकिन ज्‍यादातर स्‍कूलों में छोटी क्‍लास के बच्‍चे स्‍कूल नहीं पहुंचे हैं. इन बच्‍चों के पैरेंट्स अभी कुछ दिन और बच्‍चों  को स्‍कूल भेजने के मूड में नहीं हैं. शिक्षा विभाग ने सभी सरकारी और प्रावइेट स्‍कूलों के लिए स्‍कूल खोलने को लेकर गाइड लाइन जारी की है.

अधिक पढ़ें ...

    गाजियाबाद. उत्‍तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में नर्सरी से लेकर 12वीं तक स्‍कूल (school) आज खुले गए हैं, लेकिन ज्‍यादातर स्‍कूलों में छोटी क्‍लास के बच्‍चे स्‍कूल नहीं पहुंचे हैं. इन बच्‍चों के पैरेंट्स अभी कुछ दिन और बच्‍चों  को स्‍कूल भेजने के मूड में नहीं हैं. शिक्षा विभाग ने सभी सरकारी और प्रावइेट स्‍कूलों के लिए स्‍कूल खोलने को लेकर गाइड लाइन जारी की है. गाडन लाइन के अनुसार कोविड प्रोटोकॉल (covid Guide Line) का पालन कराना स्‍कूलों की जिम्‍मेदारी है. ऐसा न करने पर स्‍कूलों पर कार्रवाई की जाएगी.

    कोरोना आने के बाद करीब साल बाद पहली बार उत्‍तर प्रदेश में नर्सरी और प्राइमरी सेक्‍शन खोले गए हैं. वर्ष 2020 मार्च में कोरोना के शुरू होते ही स्‍कूल बंद कर दिए गए थे. इस दौरान क्‍लास छठवीं से लेकर 12वीं तक के स्‍कूल खोले गए लेकिन छोटे बच्‍चों के स्‍कूल खोलने का फैसला पहली बार लिया गया है. कोरोना की तीसरी लहर का प्रभाव कम होने के बाद पिछले सप्‍ताह नौंवी से 12वीं  तक के स्‍कूल खोले जा चुके हैं. इसमें करीब 50 फीसदी बच्‍चे ही स्‍कूल आ रहे हैं और बाकी बच्‍चे घर से ही ऑनलाइन क्‍लास ले रहे हैं.

    उत्‍तर प्रदेश में आज से नर्सरी, प्राइमरी और क्‍लास छठवीं से लेकर आठवीं तक स्‍कूल खोले गए हैं. स्‍कूलों प्रबंधन ने छोटे क्‍लास खोलने से पूर्व पिछले सप्‍ताह पैरेंट्स टीचर मीटिंग रखी थी और बच्‍चों को स्‍कूल भेजने की सहमति मांगी थी, जिसमें ज्‍यादातर छोटे बच्‍चों के पैरेंट्स ने स्‍कूल भेजने से मना कर दिया था. यही वजह रही है कि सोमवार को सकूलों में छोटे बच्‍चों की संख्‍या बहुत ही कम रही. पैरेंट्स का कहना है कि अब परीक्षाएं होने वाली हैं. इसके बाद छुट्टी हो जाएगी. अप्रैल से नए सेशन से स्‍कूल खुलेगा, जब बच्‍चों को स्‍कूल भेजेंगे.

    स्‍कूलों की तैयारी

    स्‍कूल प्रबंधन के अनुसार छोटे बच्चों पर पढ़ाई का एकाएक भार नहीं डालकर पहले उन्हें ऑफलाइन कक्षाओं से सामंजस्य बिठाने केलिए तैयार किया जाएगा. बच्चों की मनोस्थिति जानने के बाद धीरे-धीरे पहले पुराने कोर्स के रिवीजन और फिर नए कोर्स को पूरा कराने पर फोकस होगा. स्कूलों ने कोविड संबंधी दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन करने की पहले से तैयारी की गई है. हर छात्र के लिए मास्क अनिवार्य होने के साथ कक्षाओं और बस में सामाजिक दूरी का ध्यान रखा जाएगा.

    परीक्षाओं का फैसला स्‍कूल प्रबंधन पर

    गाजियाबाद के डीआईओएस पंकज द्विवेदी ने बताया कि शासन द्वारा केवल अभी स्‍कूल खोलने के निर्देश दिए गए हैं. परीक्षाओं को लेकर कोई आदेश नहीं आए हैं. परीक्षाएं ऑफ लाइन या ऑनलाइन कराएं, यह स्‍कूल प्रशासन पर निर्भर करेगा.

    स्‍कूलों की गाइड लाइन

    स्कूलों को कोविड-19 को लेकर जारी गाइड लाइन का सख्ती से पालन करने के आदेश दिए हैं. रोजाना स्‍कूल खुलने से पहले पूरे परिसर को सैनिटाइज करना होगा. हैंडवाश व डिजिटल थर्मामीटर की व्यवस्था करनी होगी. स्‍कूल आने  वाले प्रत्‍येक छात्र की जांच  होगी. क्लासरूम में छात्रों के बीच छह फिट की दूरी रखते हुए बैठने की व्यवस्था करनी होगी. स्‍कूल द्वारा बच्‍चे को स्‍कूल भेजने के लिए बाध्य नहीं करना  होगा. किसी भी छात्र या शिक्षक में कोई बुखार, खांसी-जुखाम के लक्षण पाए जात हैं, तो उन्हें तुरंत वापस घर भेजा जाएगा. स्कूल में सभी को मास्क की अनिवार्यता रहेगी तथा स्कूल अपने पास पर्याप्त संख्या में मास्क उपलब्‍ध रहेंगे.

    Tags: Educatin, Govt School, Primary Schools Open, Private School

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर