COVID-19: दिल्ली में अभी नहीं खुलेंगे स्कूल, डिप्टी CM मनीष सिसोदिया ने बताई ये वजह

दिल्ली में स्कूल नवंबर महीने में भी नहीं खुलेंगे.
दिल्ली में स्कूल नवंबर महीने में भी नहीं खुलेंगे.

राजधानी दिल्ली (Delhi) में कोरोना वायरस महामारी (COVID-19) के खतरे को देखते हुए सरकार ने अभी स्कूल न खोलने का फैसला लिया. डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने स्कूल संचालकों से अपील की है कि बीमारी के खतरे को देखते हुए स्कूल न खोलें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 28, 2020, 4:54 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी (Corona epidemic) के कारण दिल्ली (Delhi) में भी मार्च से स्कूल (School), कॉलेज बंद है. स्कूल-कॉलेजों को कोरोना की वजह से 31 अक्टूबर तक के लिए बंद किया गया था. मतलब कि एक नवंबर से स्कूल-कॉलेजों को खोलने की योजना थी, लेकिन अब स्कूल-कॉलेज नवंबर में भी नहीं खुलेंगे. इसके पीछे का कारण दिल्ली में बढ़ता प्रदूषण (Air Pollution) है. वहीं, डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा है कि कोरोना महामारी की वजह से ही दिल्ली में अभी स्कूल नहीं खुलेंगे.

डिप्टी सीएम ने कुछ देर पहले ट्वीट कर स्कूल न खोले जाने के बारे में जानकारी दी. उन्होंने अपने ट्वीट में कहा, 'दिल्ली में कोरोना की वजह से सभी स्कूल अगले आदेश तक बंद रहेंगे. वर्तमान में जारी ऑनलाइन -सेमीऑनलाइन पढ़ाई जारी रहेगी.' डिप्टी सीएम के इस घोषणा के साथ ही राजधानी में स्कूलों के न खुलने को लेकर लग रहे कयासों पर विराम लग गया है.


इससे पहले आपको याद होगा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने भी पिछले हफ्ते इशारों-इशारों में संकेत दिया था कि दिल्ली में अभी स्कूल जल्दी नहीं खुलेंगे. दिल्ली सरकार के सूत्रों के मुताबिक राजधानी के प्राइवेट और सरकारी स्कूलों को कोरोना के साथ-साथ प्रदूषण की वजह से भी बंद रखा जा सकता है. सरकार की ओर से इसका औपचारिक ऐलान अगले एक दो दिन में किया जा सकता है.



ICMR प्रमुख ने कहा - कोविड से होने वाली मौतों में पॉल्यूशन का भी योगदान



दिल्ली और एनसीआर में कोरोना के साथ जहरीली हवा की दोहरी मार अभी से पड़ने लगी है. पिछले कुछ हफ्तों से राजधानी की हवा लगातार जहरीली होती जा रही है. इसके साथ ही कोरोना के मामलों में भी उछाल आया है. खराब हवा में सांस लेने से अब लोगों के स्वास्थ्य पर भी इसका बुरा असर पड़ता नजर आने लगा है. लोगों में चिडचिड़ाहट, सिरदर्द, आंखों में जलन जैसी शिकायतें बढ़ने लगी हैं. अस्थमा रोगियों को परेशानी होने लगी है और उनको अस्पताल जाने की जरूरत महसूस होने लगी है.

बता दें कि रविवार को भी दिल्ली में काला स्मॉग छाया रहा, जिसकी वजह से विजिबिलिटी काफी कम रही थी. एक्यूआई दोपहर 1 बजे 344 था, लेकिन 1 बजे के बाद इसमें बढ़ोत्तरी दर्ज की गई. सीपीसीबी के एयर बुलेटिन के अनुसार राजधानी का एयर इंडेक्स रविवार को 353 दर्ज किया गया, जो बेहद खराब स्थिति में है. बहादुरगढ़ में यह 363, बल्लभगढ़ में 337, भिवाड़ी में 331, बुलंदशहर में 379, फरीदाबाद 323, गाजियाबाद 365, ग्रेटर नोएडा 384, गुरुग्राम 258 और नोएडा का 376 रहा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज