LG का बड़ा फैसला, घर पर आइसोलेशन की सुविधा नहीं तो मरीज को करना होगा Covid Care Center में भर्ती
Delhi-Ncr News in Hindi

LG का बड़ा फैसला, घर पर आइसोलेशन की सुविधा नहीं तो मरीज को करना होगा Covid Care Center में भर्ती
दिल्‍ली के उपराज्‍यपाल अनिल बैजल (फाइल फोटो)

दिल्‍ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल (Lieutenant governor Anil Baijal) ने ऐलान किया है कि कोरोना वायरस पॉजिटिव के सिर्फ उन मामलों में जिनके पास घर पर शारीरिक रूप से अलग रहने के लिए पर्याप्त सुविधा नहीं हैं, उन्‍हें कोविड-19 केयर सेंटर (Covid-19 Care Center) में ले जाना आवश्यक होगा.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल (Lieutenant governor  Anil Baijal)ने ऐलान किया है कि कोरोना वायरस पॉजिटिव के सिर्फ उन मामलों में जिनके पास घर पर शारीरिक रूप से अलग रहने के लिए पर्याप्त सुविधा नहीं हैं, उन्‍हें कोविड-19  केयर सेंटर (Covid-19 Care Center) में ले जाना आवश्यक होगा. इसके अलावा जिनके पास घर पर आइसोलेशन की सुविधा है अब उन्‍हें कोविड सेंटर आने की जरूरत नहीं है. वहीं, एसडीएमए (SDMA) ने कोविड 19 मरीजों के लिए घर पर अलगाव के लिए एसओपी के संशोधन को मंजूरी दे दी है, ताकि लोगों का जीवन बचाया जा सके.

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कही ये बात
जबकि उपराज्यपाल के साथ बैठक के बाद उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि कोरोना पॉजिटिव मरीज़ों के क्‍वारंटाइन सेंटर जाने की व्यवस्था को केंद्र सरकार ने वापस ले लिया है. अब दिल्ली में फिर से वही व्यवस्था लागू हो गई है कि अगर आपको कोरोना है तो आप अपने घर पर ही रहें, वहीं आकर मेडिकल की टीम आपकी जांच करेगी.





 केंद्र और आप सरकार से नाराज दिल्‍ली हाई कोर्ट
दिल्ली उच्च न्यायालय ने गुरुवार को नाराजगी जतायी कि केंद्र और आप सरकार के अधिकारी इस बात की पुष्टि नहीं कर रहे हैं कि राष्ट्रीय राजधानी के अस्पताल बेड की उपलब्धता की वास्तविक जानकारी दे रहे हैं या नहीं. इसके साथ ही अदालत ने दोनों सरकारों को अपने प्रशासन को "मजबूत" बनाने और दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने वाले अस्पतालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा है.
उच्च न्यायालय ने यह टिप्पणी तब की जब इस मामले में सहायक (एमिकस क्यूरी) के रूप में नियुक्त वकील ने सूचित किया कि चार अस्पताल- आरएमएल अस्पताल, जीटीबी अस्पताल, अपोलो अस्पताल और सरोज अस्पताल, बेड की उपलब्धता की जानकारी को उजागर नहीं कर रहे हैं. इसके अलावा रिपोर्टों के अनुसार उनमें से एक अस्पताल ने एक मरीज को भर्ती करने से भी इनकार कर दिया. मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति प्रतीक जालान की पीठ ने एमिकस क्यूरी ओम प्रकाश द्वारा उजागर की गयी खामियों को ध्यान में रखते हुए कहा, 'वर्तमान स्थिति में अस्पतालों के साथ इन अधिकारियों की बहुत दोस्ती अच्छी बात नहीं है.’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading