Assembly Banner 2021

अब नोएडा में बेंच पर बैठकर ताजमहल देखते हुए लिजिए कॉफी की चुस्कियां, जानिए कैसे

नोएडा के सेक्टर 74,76, 77, 78, 112 में व्यवसायिक लाभ कमाने के उद्देश्य से ये नर्सरी अवैध रूप से संचालित थे. (सांकेतिक फोटो)

नोएडा के सेक्टर 74,76, 77, 78, 112 में व्यवसायिक लाभ कमाने के उद्देश्य से ये नर्सरी अवैध रूप से संचालित थे. (सांकेतिक फोटो)

Noida News: जल्द ही वेस्ट टू वंडर पार्क (West to Wonder Park) आम पब्लिक (Public) के लिए खोल दिया जाएगा. इसके बाद वीकेंड में आप अपने बच्चों के साथ इस पार्क में धमा-चौकड़ी मचा सकते हैं.

  • Share this:
नोएडा. ताजमहल (Taj mahal) और कुतुबमीनार के सामने चाय और काफी पीने की हसरत अब आप नोएडा में भी पूरी कर सकते हैं. इसके लिए आपको आगरा या दिल्ली (Delhi) जाने की जरूरत नहीं होगी. नोएडा में ही ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे के किनारे बेंच पर बैठकर ताजमहल के सामने आप कॉफी की चुस्कियों का मजा ले सकते हैं. इसके लिए नोएडा अथॉरिटी वेस्ट टू वंडर पार्क (West to Wonder Park) तैयार कर रही है.

गौरतलब रहे कि बच्चों के साथ पार्क का मजा देने के लिए नोएडा अथॉरिटी दो से तीन वेस्ट टू वंडर पार्क तैयार कर रही है. वेस्ट टू वंडर पार्क कबाड़ में पड़े सामान से बनाए जा रहे हैं. घर, ऑफिस और फैक्ट्रियों से निकले कबाड़ से ही ताजमहल, कुतुबमीनार, सांची का स्तूप और बनारस के घाट बनाए जा रहे हैं. खास बात यह है कि पार्क में ओपन जिम भी बनाया जा रहा है. यह पार्क ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे के किनारे बनाए जा रहे हैं.

पहले कबाड़ से दो गेट बनवा चुकी है नोएडा अथॉरिटी
जानकारों की मानें तो नोएडा अथॉरिटी पहले भी शहर से निकलने वाले कबाड़ से कई आकृतियां बनवा चुकी है. इनमें चिल्ला बॉर्डर और मॉडल टाउन गोल चक्कर पर प्‍लास्टिक वेस्ट से बनवाया गया नोएडा का वेलकम प्‍वाइंट और चरखा भी शामिल है. अथॉरिटी का मकसद है कि इस तरह के पार्क बनवाने से शहर से निकलने वाले कचरे में कमी आएगी. वेस्ट टू वंडर पार्क में भी अथॉरिटी इसको लेकर जागरुकता अभियान चलाएगी. पार्क को सजाने के लिए भी घास के साथ वेस्ट का ही उपयोग किया जाएगा.
ग्रेटर नोएडा से महज 15 घंटे में देश के किसी भी हिस्से में पहुंच जाएगा सामान, जानिए कैसे



अथॉरिटी पहले भी बनवा चुकी है यह पार्क
नोएडा अथॉरिटी शहर में पहले भी अलग-अलग थीम पर पार्क बनावाए हैं. इसमें सेक्टर-91 में औषधि पार्क और बायोडायवर्सिटी पार्क तैयार हो चुके हैं. वहीं, सेक्टर-78 में वेदवन को तैयार करने की कवायद भी चल रही है. डॉग पार्क, विकलांग पार्क के प्रस्ताव पर भी काम चल रहा है. सेक्टर-54 में वेटलैंड विकसित करने का काम पहले ही शुरू हो चुका है.



सेक्टर-91 में भी वेटलैंड का काम शुरू होने में थोड़ी सी प्रक्रिया बाकी रह गई है. वेस्ट टू वंडर पार्क का निर्माण पीपीपी मॉडल पर होगा. इसमें प्रदेश की धरोहरों, ऐतिहासिक और पौराणिक स्थलों की आकृतियां वेस्ट से बनाई जाएंगी. इस तरह का यह यूपी में पहला पार्क होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज