अपना शहर चुनें

States

House Tax News: हाउस टैक्स जमा नहीं किया तो अब कट जाएगा सीवर और पानी का कनेक्शन

गाजियाबाद में हाउस टैक्स  जमा नहीं करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की शुरुआत हो गई है. (सांकेतिक फोटो)
गाजियाबाद में हाउस टैक्स जमा नहीं करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की शुरुआत हो गई है. (सांकेतिक फोटो)

New House Tax Policy: गाजियाबाद में हाउस टैक्स (House Tax) जमा नहीं करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की शुरुआत हो गई है. हाउस टैक्स जमा नहीं करने वाले लोगों के घरों और दुकानों के सीवर और पानी के कनेक्शन काटे जा रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 12, 2021, 9:08 PM IST
  • Share this:
गाजियाबाद. गाजियाबाद में हाउस टैक्स (House Tax) जमा नहीं करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की शुरुआत हो गई है. हाउस टैक्स जमा नहीं करने वाले लोगों के घरों और दुकानों के अब सीवर और पानी के कनेक्शन काटे जा रहे हैं. पिछले कुछ दिनों में कई घरों और दुकानों के कनेक्शन काट दिए गए हैं.  नगर निगम का साफ कहना है कि हाउस टैक्स जमा नहीं करनेवाले बकायेदारों को अब बख्शा नहीं जाएगा. वहीं, दूसरी तरफ नई हाउस टैक्स पॉलिसी (New House Tax Policy) का विरोध भी शुरू हो गया है. गाजियाबाद के कई आरडब्ल्यू एसोसिएशनों (RWA) और स्थानीय लोगों ने नगर निगम (Municipal Corporation) की नई हाउस टैक्स पॉलिसी के विरोध में ज्ञापन सौंपा है. इन लोगों का साफ कहना है कि कोरोना के कारण अधिकतर लोगों का रोजगार छिन गया है और ऐसे में नई हाउस टैक्स पॉलिसी ला कर लोगों पर अतिरिक्त भार डालने की कोशिश की जा रही है. इन लोगों ने साफ कर दिया है कि अगर नगर निगम ने नई हाउस टैक्स पॉलिसी वापस नहीं लिया तो लोगों को आंदोलन के मजबूर होना पड़ेगा.

अप्रैल से दोगुना से भी ज्यादा हाउस टैक्‍स चुकाने होंगे?
बता दें कि कुछ दिन पहले ही गाजिायबाद में भी अप्रैल से दोगुना से भी ज्यादा हाउस टैक्‍स चुकाने का आदेश जारी हुआ है. कुछ दिन पहले ही शासन के निर्देश पर गाजियाबाद नगर निगम ने संपत्ति कर नियमावली-2000 लागू करने का फैसला किया था. इसके अनुसार सर्किल रेट में तय किए गए किराए के आधार पर ही लोगों को टैक्‍स चुकाना होगा. इस आधार पर शहर की सभी कॉलोनियों पर टैक्‍स बढ़ेगा. हालांकि, कम सुविधाओं वाली कॉलोनियों में रहने वाले लोगों पर टैक्‍स का बोझ कम पड़ेगा.

गाजिायबाद में भी अप्रैल से दोगुना से भी ज्यादा हाउस टैक्‍स चुकाने का आदेश जारी हुआ है.
गाजिायबाद में भी अप्रैल से दोगुना से भी ज्यादा हाउस टैक्‍स चुकाने का आदेश जारी हुआ है.(सांकेतिक फोटो)

व्यापारियों ने भी हाउस टैक्स को सर्किल रेट से जोड़ने का किया विरोध


गाजियाबाद उद्योग व्यापार मंडल ने भी हाउस टैक्स को सर्किल रेट से जोड़ने का विरोध किया है. इन लोगों ने कोरोना काल के हाउस टैक्स को माफ करने की मांग की है. व्यापारियों ने नगर आयुक्त को ज्ञापन सौंपकर कहा है कि कोरोना काल परेशानियों से भरा रहा है. इस दौरान व्यापारियों की दुकानें पूरी तरह बंद रहीं. दुकानदारों की न तो कमाई हुई और साथ ही जिन दुकानदारों के पास किराये की दुकानें थी, उन्होंने अपनी जमा पूंजी से ही किराया दिया. इसके चलते व्यापारियों को भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ा. ऐसे में कोरोना काल का हाउस टैक्स माफ किया जाना जरूरी है.

आरडब्ल्यूए के ये कहना है
वैशाली के सेक्टर 4 आरडब्ल्यू एसोसिएशन के अध्यक्ष धीरेंद्र सिंह भदौरिया के मुताबिक, 'गाजियाबाद में नई हाउस टैक्‍स पॉलिसी लागू होने के बाद शहर के व्‍यावसायिक भवनों पर 4 से 6 गुना तक टैक्‍स बढ़ जाएगा. यह बढ़ोत्‍तरी उन इलाकों में की जा रही है, जहां आवासीय क्षेत्रों में व्‍यावसायिक संपत्तियां मसलन दुकानें, रेस्‍त्रां, बैंक्‍वेट हॅल, फैक्ट्रियां और होटल बने हैं. कोरोना के कारण अधिकतर लोगों का रोजगार छिन गया है और ऐसे में नई हाउस टैक्स पॉलिसी ला कर लोगों पर अतिरिक्त भार डालने की कोशिश की जा रही है. इस आधार पर शहर की सभी कॉलोनियों पर भी टैक्‍स बढ़ेगा. अगर नगर निगम ने नई हाउस टैक्स पॉलिसी वापस नहीं लिया तो लोगों को आंदोलन के मजबूर होना पड़ेगा.'

ये भी पढ़ें: दिल्ली-NCR में भ्रूण लिंग जांच पर सख्ती, मोबाइल वैन में अल्ट्रासाउंड किया तो अब होगी ये कार्रवाई

नगर आयुक्त ने ये कहा
वहीं नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर का कहना है कि नई पॉलिसी से कम सुविधाओं वाली कॉलोनियों को पॉश कॉलोनियों के बराबर टैक्स नहीं देना पड़ेगा. इस पॉलिसी के लागू हो जाने के बाद कई कॉलोनियों में टैक्स की दरें पहले से कम हो जाएंगी. शासन के निर्देश पर यह पॉलिसी पूरे प्रदेश में लागू होनी है और इसकी मॉनीटरिंग भी शासन के स्तर से की जा रही है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज