लाइव टीवी

Shaheen Bag Protest: वार्ताकारों ने सुप्रीम कोर्ट को सौंपी रिपोर्ट, अब 26 फरवरी को होगी सुनवाई
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: February 24, 2020, 12:36 PM IST
Shaheen Bag Protest: वार्ताकारों ने सुप्रीम कोर्ट को सौंपी रिपोर्ट, अब 26 फरवरी को होगी सुनवाई
दिल्‍ली के शाहीनबाग में करीब दो महीने से सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है. (फाइल फोटो)

CAA Protest: दिल्ली के शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन (Shaheen Bagh Protest) को समाप्‍त करने के लिए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) वार्ताकार नियुक्‍त किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2020, 12:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. शाहीन बाग मामले में तीनों वार्ताकारों ने शीर्ष अदालत को एक सीलबंद कवर में अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court)) ने मामले को 26 फरवरी (बुधवार) तक के लिए स्थगित कर दिया है. बता दें कि शाहीन बाग में दो महीने से भी ज्यादा वक्त से प्रदर्शनकारी सड़क पर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. इससे दिल्ली-नोएडा रूट ठप हो गया है. इस मार्ग को खुलवाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी. इसपर सुपआीम कोर्ट ने मामले को सुलझाने के लिए संजय हेगड़े और साधना रामचंद्र को वार्ताकार नियुक्त किया था. अब इन्होंने अपनी रिपोर्ट शीर्ष अदालत को सौंप दी है.






प्रदर्शन स्थल पर गए थे वार्ताकार
इससे पहले सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकार दो बार प्रदर्शन स्‍थल पर गए थें. वहीं, वार्ताकारों का सहयोग करने वाले पूर्व मुख्‍य सूचना आयुक्‍त वजाहत हबीबुल्लाह (Wajahat Habibullah) ने इस मामले में एक हलफनामा भी दायर किया था. अपने हलफनामे में हबीबुल्लाह ने दिल्ली पुलिस को कठघरे में खड़ा किया था.

15 दिसंबर से जारी है प्रदर्शन
बता दें कि 15 दिसंबर से दिल्ली के इस इलाके में महिलाएं प्रदर्शन कर रही हैं. इस मामले में कोर्ट ने वार्ताकार नियुक्त किया था. यहां चल रहे इन प्रदर्शनों से दिल्ली से फरीदाबाद की सड़क पर लोगों को आने जाने में परेशानी होने की बात कही जा रही है.

दिल्ली पुलिस पर उठाए सवाल
वजाहत हबीबुल्‍लाह की ओर से इस मामले में दाखिल हलफनामे में धरनास्‍थल पर चल रही समस्याओं के लिए दिल्ली पुलिस को जिम्मेदार माना गया है. इस हलफनामे में कहा गया है कि केंद्र सरकार ने प्रदर्शनकारियों से वार्ता करने के लिए कोई पहल नहीं की है. जानकारी के लिए बता दें, इस मामले को सुलझाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दो वार्ताकार नियुक्त किया है. जिनमें संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन का नाम शामिल है. साथ ही वजाहत हबीबुल्‍लाह को वार्ताकारों का सहयोगी बनाया गया है.

सुप्रीम कोर्ट, शाहीन बाग प्रदर्शन, सीएए और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन, दिल्ली पुलिस, केंद्र सरकार, Supreme Court, Shaheen Bagh Protest, Protest against CAA and NRC, Delhi Police, Central Government
इस धरने और प्रदर्शन के कारण ट्रैफिक प्रभावित हो रहा है. (प्रतीकात्मक फोटो)


दिल्ली से नोएडा और फरीदाबाद के बीच ट्रैफिक प्रभावित
इस प्रदर्शन से दिल्‍ली को नोएडा और फरीदाबाद से से जोड़ने वाली सड़क पर ट्रैफिक बंद पड़ा हुआ है. इस पर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई है. इस मामले में दायर हलफनामे में पुलिस पर कई सवाल उठाए गए हैं. वार्ताकार का कहना है कि पुलिस ने वैसी जगहों को ब्लॉक कर रखा है, जहां इसकी जरूरत नहीं है. जिस कारण अफरा तफरी का माहौल है.

दो बार प्रदर्शनकारियों के बीच जा चुके हैं वार्ताकार
इस मामले में सुप्रीम कोर्ट से नियुक्त मध्यस्थ संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन अन्य लोगों के साथ दो बार ​दिल्ली के शाहीन बाग स्थित प्रदर्शन स्थल पर जा चुके हैं. इस दौरान प्रदर्शनकारियों और मध्यस्थों के बीच बातचीत हुई. लेकि अब चक इसका कोई नतीजा नहीं निकला है.

ये भी पढ़ें: 

घर से निकलने से पहले पढ़ लें यह जरूरी खबर, बंद रहेंगे ये दो मेट्रो स्टेशन

अब जाफराबाद में CAA प्रोटेस्ट, कपिल मिश्रा बोले- इसे शाहीन बाग नहीं बनने देंगे

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 24, 2020, 8:13 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर