Delhi: शाहीन बाग के सामाजिक कार्यकर्ता शहजाद अली की BJP में एंट्री, कही ये बड़ी बात
Delhi-Ncr News in Hindi

Delhi: शाहीन बाग के सामाजिक कार्यकर्ता शहजाद अली की BJP में एंट्री, कही ये बड़ी बात
शाहीन बाग के युवा समाजसेवी शहजाद अली ने भाजपा का दामन थामा है.

शाहीन बाग (Shaheen Bagh) के सामाजिक कार्यकर्ता शहजाद अली (Shahzad Ali) ने भाजपा (BJP) का दामन थाम लिया है. इस मौके पर भाजपा के दिल्‍ली प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता (Adesh Gupta) और श्‍याम जाजू भी मौजूद थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 16, 2020, 5:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. शाहीन बाग (Shaheen Bagh) के सामाजिक कार्यकर्ता शहजाद अली (Shahzad Ali) ने भाजपा के दिल्‍ली प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता (Adesh Gupta) की मौजूदगी में भाजपा का दामन थाम लिया है. इस मौके पर भाजपा नेता श्याम जाजू भी मौजूद थे. इस दौरान अली ने कहा कि हमारे समुदाय के कुछ लोग भाजपा को अपना दुश्‍मन समझते हैं, मैं उन्‍हें गलत साबित करना चाहता हूं.

भारतीय जनता पार्टी में एंट्री करने के बाद शहजाद अली ने कहा, 'मैं भाजपा में शामिल हो गया हूं ताकि अपने समुदाय के उन लोगों को गलत साबित कर सकूं, जो इस पार्टी को अपना दुश्मन समझते हें. इसके अलावा हम सीएए के मुद्दे पर भी उनके साथ बैठेंगे.

गौरतलब है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा ने सीएए के खिलाफ शाहीन बाग के धरने को बहुत बड़ा मुद्दा बनाया था, लेकिन अब उसी इलाके के एक सामाजिक कार्यकर्ता और युवा मुस्लिम चेहरे ने अपने हाथ में कमल थाम लिया है.





इस वजह से मचा था हंगामा
आपको बता दें कि दिसंबर 2019 में मोदी सरकार ने संसद से सीएए (नागरिकता संशोधन विधेयक) पास कराकर नागरिकता संशोधन कानून लागू किया था, जिसके तहत पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से धार्मिक प्रताड़ना का शिकार होकर भारत आने वाले गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को भारत की नागरिकता दिए जाने का प्रावधान है. इस कानून के तहत इन तीनों देशों से जो हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध,पारसी और क्रिश्चियन धार्मिक प्रताड़ना की वजह से 31 दिसंबर, 2014 से पहले भारत में आकर शरणार्थी का जीवन जी रहे हैं, उन्हें भारत की नागरिकता दी जाएगी. लेकिन इस कानून के विरोध में मुस्लिम समुदाय ने देशभर में धरना प्रदर्शन किया, जिसमें दिल्‍ली के शाहीन बाग का धरना देश दुनिया में चर्चा में रहा था. यही नहीं, सीएए का कांग्रेस समेत कई विपक्षी पार्टियों ने जोरदार विरोध किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज