लाइव टीवी

शाहीन बाग प्रोटेस्ट: CAA-NRC वापस लेने पर अड़े प्रदर्शनकारी, तीसरे दिन भी बातचीत विफल
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: February 21, 2020, 10:48 PM IST
शाहीन बाग प्रोटेस्ट: CAA-NRC वापस लेने पर अड़े प्रदर्शनकारी, तीसरे दिन भी बातचीत विफल
शुक्रवार को फिर शाहीनबाग जाएंगे वार्ताकार

साधना रामचंद्रन ने मौजूद लोगों से पूछा कि 'आप लोगों ने सिर्फ एक रोड बंद की है, तो दूसरी रोड को किसने बंद किया है?' प्रदर्शनकारियों का कहना है कि दूसरी रोड खोलने के लिए तैयार हैं लेकिन सुरक्षा की जिम्मेदारी कौन लेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2020, 10:48 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. शाहीन बाग में CAA के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों से वार्ताकार लगातार बातचीत की कोशिश कर रहे हैं. शुक्रवार को तीसरे दिन शाहीनबाग (Shaheen Bagh) पहुंचे संजय हेगड़े और वकील साधना रामचंद्रन ने मौजूद लोगों से कहा कि 'आप लोगों ने सिर्फ एक रोड बंद की है, तो दूसरी रोड को किसने बंद किया है?' शुक्रवार को भी शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी CAA-NRC को वापस लेने पर अड़े रहे और बातचीत विफल रही.

साधना रामचंद्रन ने आगे कहा कि हमने आज नोएडा से दिल्ली आने वाले दूसरे रास्ते भी देखे. हमने ये जानने की कोशिश की कि क्या कोई और वैकल्पिक रास्ते भी हो सकते है?  इस दौरान हमने देखा कि नोएडा से फरीदाबाद वाला रास्ता भी पुलिस ने बंद कर रखा है जबकि उसका शाहीन बाग से कोई लेना देना नहीं है. हमारे कहने पर पुलिस ने उस रास्ते को आज खोला भी लेकिन पता चला थोड़ी देर बाद पुलिस ने उसे दोबारा बंद कर दिया. पुलिस ने ऐसा क्यों किया गया इसकी जानकारी हमें नहीं है.लेकिन ये हम सुप्रीम कोर्ट के सामने रखेंगे कि रास्ता खोलने के बाद क्यों दोबारा बंद कर दिया गया. जबकि उस रास्ते का शाहीन बाग से कोई लेना देना नहीं.



ये बोली महिला प्रदर्शनकारी
एक महिला प्रदर्शनकारी ने वार्ताकारों को बताया, ‘सरकार सोचती है कि महिलाएं अशिक्षित हैं. हम सभी शिक्षित महिलाएं हैं जो जानती हैं कि हम किस लिये लड़ रहे हैं. हमें सीएए और एनआरसी के बारे में और जानकारी दे रहे जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों को पीटा जा रहा है. पुलिस अगर हम पर गोली चलाने वाले लोगों को नहीं रोक सकती, तो वे ये दावा कैसे कर रहे हैं कि अगर समानांतर सड़क खुल जाती है तो वे हमारी सुरक्षा करेंगे.’

प्रदर्शनकारियों को चाहिए सुरक्षा की गारंटी
एक अन्य महिला प्रदर्शनकारी ने कहा, 'हम लिखित में चाहते हैं कि अगर हमला या गोली चलने की एक भी घटना हुई तो थानाध्यक्ष से लेकर पुलिस आयुक्त तक सभी पुलिस अधिकारियों को हटा दिया जाएगा। गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि एनआरसी जल्द नहीं आने जा रही, इसलिये उनसे एक परिपत्र जारी करने को कहिए जिसमें यह बात हो कि वे अब एनआरसी नहीं ला रहे हैं। हम चाहते हैं कि अगर प्रदर्शन स्थल के बगल वाली सड़क खोली जाती है तो उच्चतम न्यायालय हमारी सुरक्षा के लिए एक आदेश जारी करे.’

साधना रामचंद्रन हो गईं थीं नाराज
वहीं गुरूवार को वार्ताकार साधना रामचंद्रन काफी नाराज हो गईं थीं और बातचीत के दौरान एक प्रदर्शनकारी ने सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका को गलत कह दिया था. साधना ने कहा कि यहां ऐसे ही माहौल रहा तो हम कल नहीं आ पाएंगे. वार्ताकारों ने किसी दूसरी जगह पर मिलने की बात कही है, जहां सिर्फ महिलाएं हों.

जाम के चलते आम लोगों को हो रही परेशानी
बता दें कि शाहीन बाग चल रहे प्रदर्शन के कारण कालिंदी कुंज सड़क बंद है. आम लोगों को आने-जाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी. जिस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से बातचीत करने के लिए तीन वार्ताकार नियुक्त किए. इन तीन में से दो वार्ताकार वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े और वरिष्ठ वकील साधना रामचंद्रन लगातार प्रदर्शकारियों से बातचीत में जुटे हैं.

बीते दिन वार्ताकारों ने प्रदर्शनकारियों से पूछा कि रास्ता कैसे खुलेगा, तो प्रदर्शनकारियों ने कहा कि जब तक CAA वापस नहीं लिया जाएगा, तब तक हम एक इंच भी पीछ नहीं हटेंगे.

ये भी पढ़ें: 

सिसोदिया ने निर्मला सीतारमण से की मुलाकात, विकास के लिए मांगी हिस्सेदारी

दिल्ली: लूट की कोशिश कर रहे बदमाशों के साथ की जमकर हाथापाई, मार दी गोली

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 21, 2020, 6:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर