COVID-19: दिल्ली में सिर्फ दिल्ली वालों का हो इलाज? CM केजरीवाल ने मांगी राय
Delhi-Ncr News in Hindi

COVID-19: दिल्ली में सिर्फ दिल्ली वालों का हो इलाज? CM केजरीवाल ने मांगी राय
COVID-19 के बढ़ते संक्रमण के बीच CM अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के अस्पतालों में दिल्लीवालों का ही इलाज कराने को लेकर शुक्रवार तक मांगी राय. एक हफ्ते तक सील रहेंगे दिल्ली के बॉर्डर.

COVID-19 के बढ़ते संक्रमण के बीच CM अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के अस्पतालों में दिल्लीवालों का ही इलाज कराने को लेकर शुक्रवार तक मांगी राय. एक हफ्ते तक सील रहेंगे दिल्ली के बॉर्डर.

  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के अस्पतालों में अब दिल्ली वासियों का ही इलाज हो सकेगा. अगर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) को इस संबंध में लोगों के सुझाव मिले, तो AAP सरकार ऐसा फैसला कर सकती है. दिल्ली में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच आज सीएम केजरीवाल ने मीडिया को संबोधित करते हुए दिल्ली के लोगों से इस संबंध में सुझाव मांगे हैं. उन्होंने लोगों से आगामी शुक्रवार तक इस संबंध में अपने सुझाव भेजने को कहा है. COVID-19 के बढ़ते केस पर चिंता जताते हुए सीएम केजरीवाल ने कहा कि हमें पिछले कुछ दिनों में दिल्ली से सटे अन्य राज्यों के बॉर्डर खोलने के सुझाव मिले हैं. उन्होंने कहा कि  दिल्ली की स्वास्थ्य सेवाएं आज देशभर में सबसे अच्छी हैं. इसलिए बॉर्डर खुलते ही यह संभावना है कि बाहरी राज्यों के लोग बड़ी तादाद में यहां आएंगे. ऐसे में दिल्ली में रहने वालों को दिक्कत न हो, इसलिए यह सुझाव मांगे गए हैं. लोग शुक्रवार शाम तक अपने सुझाव भेज सकते हैं. मीडिया के साथ बातचीत के अंत में उन्होंने यह भी कहा कि फिलहाल एक हफ्ते  के लिए बॉर्डर सील किए जा रहे हैं. सुझाव आने के बाद इसे खोला जाएगा.

सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में सरकार ने पिछले 5 वर्षों में स्वास्थ्य सेवाओं में बढ़ोतरी की है. लोगों को मुफ्त इलाज की सुविधा दी जा रही है. इसलिए कोरोना महामारी के दौरान भी यहां लोगों को बेहतर इलाज मिल रहा है. यही वजह है कि बॉर्डर खोलने के साथ ही बाहरी राज्यों के लोगों के यहां बड़ी तादाद में आने की आशंका है. सीएम ने दिल्ली के अस्पतालों में मरीजों के लिए बेड को लेकर उठ रही चिंताओं के मद्देनजर एक और महत्वपूर्ण सवाल उठाते हुए लोगों से राय मांगी. उन्होंने लोगों को दिल्ली के अस्पतालों में भरपूर संख्या में बेड होने की जानकारी देते हुए कहा कि 9500 से ज्यादा बेड का इंतजाम है.





दिल्ली में इसलिए आते हैं लोग
सीएम केजरीवाल ने कहा कि देशभर से दो कारणों से दिल्ली आते हैं लोग. पहला यह कि दिल्ली में स्वास्थ्य सेवाएं आज देश के किसी भी शहर के मुकाबले सबसे अच्छी हैं. दूसरा यह कि दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में सब कुछ मुफ्त है. 10 लाख रुपए तक का इलाज भी यहां मुफ्त में कराया जा सकता है. इसलिए जैसे ही बॉर्डर खुलेंगे तो देशभर के लोग यहां आएंगे और दिल्ली वासियों को ये सुविधाएं मिलने में दिक्कत होगी. सीएम ने कहा कि इसी वजह से वे दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्लीवासियों का ही इलाज कराने की योजना पर सुझाव मांग रहे हैं. उन्होंने कहा कि कुछ लोगों का कहना है कि जब तक कोरोना वायरस का प्रकोप है, तब तक ये व्यवस्था होनी चाहिए.

यहां भेजें सुझाव
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि शुक्रवार शाम 5 बजे तक दिल्ली में रहने वाले सभी लोग इस मामले पर अपने सुझाव भेज सकते हैं कि क्या दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्लीवालों का ही इलाज होना चाहिए. इसके लिए सरकार को वॉट्सएप नंबर, फोन और ईमेल से सुझाव भेजे जा सकते हैं. आप इस
वॉट्सएप नंबर 8800007722 पर अपने सुझाव भेज सकते हैं. सरकार ने एक ईमेल भी जारी किया है delhicm.suggestions@gmail.com जिस पर लोग सुझाव भेज सकते हैं. इसके अलावा फोन नंबर 1031 पर भी सुझाव दिया जा सकता है.

ये भी पढ़ें-

दिल्ली से पैदल चले थे बिहार, आगरा पहुंचते ही हुआ प्‍यार और...

Unlock 1.0: बॉर्डर सील के विरोध में BJP का प्रदर्शन, मनोज तिवारी हिरासत में
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading