Assembly Banner 2021

तेज हुआ नोएडा सिग्नेचर ब्रिज का काम, 5 महीने में हो जाएगा शुरू, इन्हें मिलेगी बड़ी राहत

नोएडा में पर्थला फ्लाई ओवर के नाम से बन रहा है. इसी साल अक्टूबर में शुरु होने की उम्मीद है.   
सांकेतिक फोटो

नोएडा में पर्थला फ्लाई ओवर के नाम से बन रहा है. इसी साल अक्टूबर में शुरु होने की उम्मीद है. सांकेतिक फोटो

पर्थला (Parthala) गोलचक्कर के पास नोएडा का सिग्नेचर ब्रिज (Signature bridge) बन जाने से एफएनजी (FNG) पर भी जाम के झाम से छुटकारा मिल जाएगा.

  • Share this:
नोएडा. पर्थला गोलचक्कर के पास नोएडा का सिग्नेचर ब्रिज (Signature bridge) बन रहा है. लोगों को ट्रैफिक (Traffic) जाम की परेशानी से छुटकारा दिलाने के लिए नोएडा अथॉरिटी ने फ्लाईओवर का काम तेज कर दिया है. उम्मीद जताई जा रही है कि अक्टूबर 2021 तक यह फ्लाईओवर (Flyover) बनकर तैयार हो जाएगा और आम लोगों के लिए इसे खोल भी दिया जाएगा. इस फ्लाईओवर से सबसे ज्यादा फायदा दिल्ली, नोएडा (Noida), ग्रेटर नोएडा से गाजियाबाद (Ghaziabad) और हापुड़ की ओर जाने वालों को मिलेगा.

पर्थला फ्लाईओवर को नोएडा का सिग्नेचर ब्रिज कहा जा रहा है. प्रोजेक्ट के अनुसार यह फ्लाईओवर जून 2022 में आम पब्लिक के लिए शुरू होना था, लेकिन काम की रफ्तार को देखते हुए नोएडा अथॉरिटी के अफसरों का कहना है कि अब इसके अक्टूबर 2021 में पूरा हो जाने की उम्मीद है. 5 महीने बाद इस पर गाड़ियां फर्राटा भरने लगेंगी.

3 पिलर बनते ही रख दिया जाएगा स्ट्रक्चर
अफसरों का कहना है कि 600 मीटर लम्बा यह फ्लाईओवर तीन पिलर पर टिका होगा, क्योंकि सिग्नेचर ब्रिज की तरह ऊपर से यह 250 तारों पर टिका होगा. यह 6 लेन का फ्लाईओवर है. पिलर बनाने का काम तेजी से चल रहा है. इसकी लागत करीब 80 करोड़ रुपये बताई जा रही है. काम में कोई ढिलाई न बरती जाए और अक्टूबर में फ्लाईओवर शुरू हो जाए इसके लिए नोएडा अथॉरिटी के अधिकारी लगातार इसकी मॉनिटरिंग कर रहे हैं.
अब आप घर बैठे नहीं कर सकेंगे गलत ट्रैफिक चालान की ऑनलाइन शिकायत, जानिए क्यों



एफनजी रोड सेक्टर 71 से किसान चौक पर मिलेगी राहत
अथॉरिटी के अफसरों का कहना है कि नोएडा के एक दर्जन से ज़्यादा सेक्टर और ग्रेटर नोएडा को इस फ्लाईओवर का बड़ा फायदा मिलेगा. वहीं, दिल्ली से गाज़ियाबाद, हापुड़ जाने वाले भी लम्बे ट्रैफिक जाम से बचेंगे. जानकारों की मानें तो पर्थला गोलचक्कर पर एफनजी रोड सेक्टर 71 से किसान चौक की तरफ जाने वाली सड़क पर अक्सर जाम के हालात रहते हैं. सुबह-शाम ऑफिस के वक्त एक लम्बा जाम लगना आम बात है. 10 मिनट का सफर 30 से 45 मिनट का हो जाता है.

ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे पर बन रहे हैं अंडरपास
जानकारों की मानें तो नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे पर करीब 140 करोड़ की लागत से तीन अंडरपास का काम चल रहा है. अंडरपास बनने से आसपास के सेक्टरों, गांवों और मेट्रो के यात्रियों को इसका बड़ा फायदा मिलेगा. योजना के मुताबिक, सेक्टर-142 एडवंट के पास, झट्टा और कोंडली बांगर के पास अंडरपास का काम चल रहा है. अभी तक एक ओर से दूसरी तरफ जाने के लिए या तो लंबा चक्कर लगाना होता था या फिर जो अंडरपास पहले से बने हैं उनका इस्तेमाल करना होता था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज