बच्चों के लिए घातक होगा सिंगापुर वेरिएंट, कांग्रेस ने केजरीवाल सरकार से कहा-सभी यात्रियों को करें क्वारंटाइन!

सिंगापुर से आने वाले यात्रियों की ट्रेकिंग, टेस्टिंग कराने की मांग भी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से की है.

सिंगापुर से आने वाले यात्रियों की ट्रेकिंग, टेस्टिंग कराने की मांग भी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से की है.

Singapore Variant: सिंगापुर सरकार द्वारा स्कूलों को बंद कर दिया गया है. वहां, बच्चों को प्रभावित करने वाले वायरस से दिल्ली में चिंता बढ़ गई है. ऐसे में कांग्रेस ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से सिंगापुर से पिछले कुछ दिनों के दौरान पहुँचे यात्रियों को क्वरंटाइन होने का आदेश जारी करने की माँग की है. उन्होंने पिछले कुछ दिनों में जितने भी यात्री पहुंचे हैं उन्हें टेस्ट, ट्रेस करने की माँग भी की है.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली और देश में जहां कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से हर रोज बड़ी संख्या में लोगों की मौतें हो रही हैं. वहीं, लाखों संक्रमित मरीज भी हर रोज सामने आ रहे हैं. ऐसे में अब सिंगापुर (Singapore) से कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका के चलते और चिंता बढ़ गई है.

माना जा रहा है कि सिंगापुर से कोरोना के नए वेरिएंट (Variant) का सबसे ज्यादा प्रभाव बच्चों पर पड़ने वाला है. इस सभी को देखते हुए दिल्ली प्रदेश कांग्रेस (Congress) के अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने दिल्ली सरकार (Delhi Government) और केंद्र सरकार (Central Government) दोनों से सख्त कदम उठाने की मांग की है. साथ ही सिंगापुर से आने वाले यात्रियों की ट्रेकिंग, टेस्टिंग कराने की मांग भी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) से की है.

कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने कहा कि सिंगापुर सरकार द्वारा स्कूलों को बंद कर दिया गया है. वहां, बच्चों को प्रभावित करने वाले वायरस से दिल्ली में चिंता बढ़ गई है. ऐसे में मुख्यमंत्री केजरीवाल से सिंगापुर से पिछले कुछ दिनों के दौरान पहुँचे यात्रियों को क्वरंटाइन होने का आदेश जारी करने की माँग की है. उन्होंने पिछले कुछ दिनों में जितने भी यात्री पहुंचे हैं उन्हें टेस्ट, ट्रेस करने की माँग भी की है.

उन्होंने कहा कि दिल्ली में देश का प्रमुख एयरपोर्ट है. सैंकड़ों की संख्या में रोजाना यात्री दिल्ली पहुंचते हैं. ऐसे में बच्चों पर खतरा होने का सिंगापुर सरकार (Singapore Government) द्वारा सूचना सार्वजनिक होने के बाद भी केजरीवाल सरकार ने जरूरी कदम नहीं उठाए।.
उन्होंने कहा कि बच्चों को कोरोना वायरस (Coronavirus) के विभिन्न वेरियंट से प्रभावित होने का अंदेशा हमारे वैज्ञानिकों द्वारा पहले से लगाया जा रहा था, अब पुष्टि हो रही है. उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) को राज्य स्तर पर डिजास्टर मैनेजमेंट ऑथोरिटी से जुड़ी बैठक बुलाकर उठाए जाने वाले कदमों के बारे में चर्चा करनी चाहिए थी. लेकिन पिछले कुछ दिनों से इसको लेकर कोई बैठक नहीं बुलायी गई.

चौधरी अनिल कुमार ने मांग किया कि दिल्ली सरकार को एक पर्याप्त अंतराल पर संक्रमित खासकर कम उम्र के बच्चों के सैंपल को जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजने का काम करना चाहिए था, लेकिन केजरीवाल राजनीतिक आरोप प्रत्यारोप में लगे हुए है. उन्होंने बच्चों के केयर से जुड़ी यूनिटों का ऑडिट कर तैयारियों का जायजा लेने की सलाह दी है‌.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज