Home /News /delhi-ncr /

single use plastic banned from july 1 and kejriwal government has prepared this replacement scheme

Single Use Plastic: एक जुलाई से दिल्ली में बंद होंगी प्‍लास्‍ट‍िक इंडस्‍ट्रीज, सरकार स्‍कीम से जुड़ने वालों को देगी फंड

द‍िल्‍ली सरकार की ओर से सिंगल यूज प्लास्टिक का विकल्प विकसित करने के ल‍िए रिप्लेसमेंट ऑफ सिंगल यूज प्लास्टिक योजना तैयार की है. (File Photo)

द‍िल्‍ली सरकार की ओर से सिंगल यूज प्लास्टिक का विकल्प विकसित करने के ल‍िए रिप्लेसमेंट ऑफ सिंगल यूज प्लास्टिक योजना तैयार की है. (File Photo)

Ban on manufacturing of Single use Plastic: केजरीवाल सरकार ने स‍िंगल यूज प्‍लास्‍ट‍िक के र‍िप्‍लेसमेंट के ल‍िए ग्रीन द‍िल्‍ली स्‍टॉर्टअप स्‍कीम (Startup Scheme) शुरू की है. इस रिप्लेसमेंट ऑफ सिंगल यूज प्लास्टिक व‍िकल्‍प के रूप में द‍िल्‍ली आईआईटी बड़ा कदम उठा रही है. ग्रीन द‍िल्‍ली स्‍टॉर्टअप स्‍कीम (Green Delhi Startup Scheme) को बढ़ावा देने के ल‍िए द‍िल्‍ली सरकार फंड‍िंग भी करेगी. सरकार की ओर से इस स्‍कीम के तहत शुरू क‍िए जाने वाले पुराने स्‍टार्टअप के साथ नए स्‍टार्टअप को फंड मुहैया कराएगी.

अधिक पढ़ें ...

नई द‍िल्‍ली. केंद्र सरकार (Central Government) की ओर से इस साल एक जुलाई से पूरे देश में स‍िंगल यूज प्‍लास्‍ट‍िक (Single Use Plastic) पूरी तरह से प्रत‍िबंध‍ित हो जाएगी. ऐसे में राज्‍य सरकारों की ओर से प्‍लास्‍ट‍िक इंडस्‍ट्री को कंवर्ट करने के ल‍िए भी अलग-अलग तरह की योजनाएं और व‍िकल्‍प पर काम क‍िया जा रहा है.

इस द‍िशा में द‍िल्‍ली सरकार (Delhi Government) की ओर से सिंगल यूज प्लास्टिक (Single Use Plastic) का विकल्प विकसित करने के ल‍िए रिप्लेसमेंट ऑफ सिंगल यूज प्लास्टिक योजना तैयार की है. केजरीवाल सरकार इसको लेकर द‍िल्‍ली आईआईटी (IIT Delhi) के साथ म‍िलकर काम कर रही है.

ये भी पढ़ें: इंसानों के खून में भी पहुंचा प्लास्टिक, लगभग 80 फीसद लोगों में पाया गया माइक्रोप्लास्टिक

सूत्रों के मुताब‍िक केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) ने स‍िंगल यूज प्‍लास्‍ट‍िक के र‍िप्‍लेसमेंट के ल‍िए ग्रीन द‍िल्‍ली स्‍टॉर्टअप स्‍कीम (Startup Scheme) शुरू की है. इस रिप्लेसमेंट ऑफ सिंगल यूज प्लास्टिक व‍िकल्‍प के रूप में द‍िल्‍ली आईआईटी (IIT Delhi) बड़ा कदम उठा रही है. ग्रीन द‍िल्‍ली स्‍टॉर्टअप स्‍कीम (Green Delhi Startup Scheme) को बढ़ावा देने के ल‍िए द‍िल्‍ली सरकार फंड‍िंग भी करेगी. सरकार की ओर से इस स्‍कीम के तहत शुरू क‍िए जाने वाले पुराने स्‍टार्टअप के साथ नए स्‍टार्टअप को फंड मुहैया कराएगी. इससे स्‍टार्टअप या इंडस्‍ट्री से जुड़े लोगों को बड़ी मदद म‍िल सकेगी. और स‍िंगल यूज प्‍लास्‍ट‍िक स्‍टार्टअप को नए स्‍टार्टअप में आसानी से कंवर्ट कर सकेंगे.

बताते चलें क‍ि केंद्र सरकार की ओर से प‍िछले साल ही प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन संशोधन नियम, 2021 (Plastic Waste Management Amendment Rules, 2021) को पार‍ित कर द‍िया था. इसके तहत एक जुलाई, 2022 से बैन होने वाली वस्तुओं की एक सूची भी जारी की गई थी जिसमें सिंगल यूज प्लास्टिक से बनने वाली कई चीजें शामिल हैं. इन वस्तुओं का इस्तेमाल रोजमर्रा की जिंदगी में क‍िया जाता रहा है. इन न‍ियमों के पूरी तरह से लागू होने के बाद 1 जुलाई से सिंगल यूज उपयोग वाले प्लास्टिक के निर्माण, आयात, भंडारण, वितरण और बिक्री पर पूर्णत: प्रतिबंध लग जाएगा.

ये भी पढ़ें: हिमाचल में कड़ाई से लागू होगा सिंगल यूज प्लास्टिक बैन, सरकार ने गठित किया स्पेशल टॉस्क फोर्स

इस बीच देखा जाए तो सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग पर प्रत‍िबंध लगाने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जून 2018 में घोषणा की थी. उन्‍होंने घोषणा की थी क‍ि उनकी सरकार 2022 तक देश में सभी प्रकार के सिंगल यूज प्लास्टिक को खत्म कर देगी. इससे देश में सिंगल यूज प्लास्टिक से बनने वाले सामान को बनाने, स्टॉक में रखने और बेचने पर पूरी तरह से बैन कर दिया जाएगा.

प्‍लास्‍ट‍िक बैन होने से इन सभी पर पड़ेगा बड़ा असर
– कैंडी स्टिक और आइसक्रीम स्टिक.

-सजावट के लिए पॉलीस्टाइनिन (थर्मोकोल).

-प्लेट, कप, गिलास, चम्मच, चाकू और ट्रे जैसे प्लास्टिक के बर्तन.

-इयर बड्स और प्लास्टिक स्टिक.

– गुब्बारों वाली प्लास्टिक की स्टिक.

-100 माइक्रोन से कम के प्लास्टिक या पीवीसी बैनर.

– प्लास्टिक के झंडे.

– म‍िठाई के डिब्बे, निमंत्रण कार्ड और सिगरेट के पैकेट के चारों ओर लगी होने वाली प्लास्टिक.

Tags: Delhi Government, Delhi news, Gopal Rai, Ministry of Environment, Modi government, Narendra modi, Single use Plastic

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर