सर गंगा राम हॉस्पिटल को मिली फौरी राहत, दिल्ली हाईकोर्ट ने FIR पर लगाई रोक
Delhi-Ncr News in Hindi

सर गंगा राम हॉस्पिटल को मिली फौरी राहत, दिल्ली हाईकोर्ट ने FIR पर लगाई रोक
एफआईआर दर्ज होने के बाद सर गंगा राम हॉस्पिटल ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. (फाइल फोटो)

दिल्ली सरकार की ओर से सर गंगा राम हॉस्पिटल के खिलाफ एफआईआर (FIR) दर्ज कराई गई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 22, 2020, 12:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली स्थित सर गंगा राम हॉस्पिटल (Sir Ganga Ram Hospital) को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है. सर गंगा राम हॉस्पिटल को दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) से बहुत बड़ी राहत मिली है. अस्‍पताल प्रबंधन की याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने सोमवार को दिल्ली सरकार द्वारा दर्ज कराई गई एफआईआर पर रोक लगा दी है. दरअसल, दिल्ली सरकार की ओर से सर गंगा राम हॉस्पिटल पर एफआईआर (FIR) दर्ज कराई गई थी. केस दर्ज होने के बाद सर गंगा राम हॉस्पिटल ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. हाईकोर्ट द्वारा रोक लगाए जाने के बाद अब इस पर फिलहाल आगे की कार्रवाई नहीं हो सकेगी.

दरअसल, सर गंगा राम हॉस्पिटल के एडमिनिस्ट्रेशन के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज की थी. एफआईआर में हॉस्पिटल प्रसाशन पर आरोप लगाया गया था कि उसने Covid-19 से जुड़े नियमों का पालन नहीं किया है. दिल्ली सरकार के स्वास्थ विभाग के बड़े अधिकारियों की शिकायत के बाद दिल्ली पुलिस ने हॉस्पिटल प्रसाशन के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी. अब कोर्ट के आदेश के बाद सर गंगा राम अस्पताल के खिलाफ दर्ज एफआईआर पर पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर सकेगी. इस मामले पर अब 11 अगस्त को अगली सुनवाई होगी. अगली सुनवाई में एफआईआर रद्द करने के मुद्दे पर बहस होगी.

सीएम केजरीवाल ने लगाए थे गंभीर आरोप
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अस्पतालों पर विपक्षी दलों के साथ मिलकर बदमाशी करने का भी आरोप लगाया था. इसके बाद दिल्ली सरकार ने सर गंगाराम अस्पताल पर एफआईआर दर्ज करा दी थी. यह FIR आईपीसी की धारा 154 के तहत दर्ज कराई थी. आरोप था कि अस्पताल अपनी क्षमता के मुताबिक, लोगों को सुविधाएं नहीं दे रहा है. उसपर भर्ती न करने और बेडों की कालाबाजारी का आरोप लगाया गया था.
दिल्ली के सीएम ने दी थी ये चेतावनी


केजरीवाल ने कोरोना संक्रमित मरीजों को हॉस्पिटल में भर्ती करने से मना करने वालों के अलावा बेड की कालाबाजारी में कर रहे हॉस्पिटल के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की बात कही थी. सीएम ने कहा था कि दिल्ली सरकार इस संबंध में एक आदेश जारी करने वाली है. जिसमें हॉस्पिटल ऐसे पेशेंट का इलाज करने से मना नहीं कर सकते हैं.

चिकित्सा पेशेवर की इसलिए होगी तैनाती
सीएम केजरीवाल ने कहा था, 'सारे हॉस्पिटलों में दिल्ली सरकार एक चिकित्सा पेशेवर की तैनाती करेगी. ये अधिकारी आधिकारिक ऐप पर कोरोना मरीजों के लिए उपलब्ध बेड की जानकारी देंगे. इसके साथ ही अधिकारी इस तरह के मरीजों को एडमिट कराना सुनिश्चित कराएंगे.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज