Delhi Violence: प्रमुख आरोपी फारुख का मौलाना साद और ताहिर से कनेक्‍शन खंगाल रही SIT, जानें क्या है मामला
Delhi-Ncr News in Hindi

Delhi Violence: प्रमुख आरोपी फारुख का मौलाना साद और ताहिर से कनेक्‍शन खंगाल रही SIT, जानें क्या है मामला
बीते फरवरी महीने में उत्तर-पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में सीएएए विरोधी हिंसा भड़क उठी थी (फाइल फोटो)

तबलीगी जमात (Tabligi Jamaat) के प्रमुख मौलाना साद एक बार फिर से दिल्ली पुलिस के बीच चर्चा में हैं. इससे पहले मौलाना साद (Maulana Saad) का नाम कोरोना वायरस के संक्रमण के मसले पर हुई चर्चा में आया था.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. निजामुद्दीन मरकज स्थित तबलीगी जमात (Tabligi Jamaat) के प्रमुख मौलाना साद एक बार फिर से दिल्ली पुलिस के बीच चर्चा में हैं. इससे पहले मौलाना साद (Maulana Saad) का नाम कोरोना वायरस के संक्रमण के मसले पर हुई चर्चा में आया था. अब फरवरी महिने में दिल्ली दंगा से जुडे कुछ प्रमुख आरोपियों के साथ कनेक्शन की वजह से फिर से वो चर्चा में आ गए हैं. दरअसल, दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच और एसआईटी इस दंगा मामले की तफ्तीश कर रही है. इसी तफ्तीश के दौरान फैसल फारूख (Faisal Farooq) नाम के शख्स की चर्चा सबसे ज्यादा हो रही है. फारूख के मोबाइल कनेक्शन और उसके साथ रहने वालों का जब कनेक्शन खंगाला गया तो कई महत्वपूर्ण जानकारियां सामने आ रही हैं. जिसके बाद क्राइम ब्रांच की टीम अब पहले से ज्यादा सतर्कता से इस मामले की तफ्तीश में जुट गई है .

कौन है फारूख और क्या है इसका दंगा कनेक्शन ?
दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम ने 3 जून को कड़कडडूमा कोर्ट में दिल्ली दंगा से जुडे मामले में दो महत्वपूर्ण आरोपपत्र दायर किए हैं . इसी आरोपपत्र में फैसल फारूख नाम के एक आरोपी के खिलाफ काफी सबूतों के साथ उसका जिक्र है. दरअसल, फारूख का एक स्कूल है जिसका नाम राजधानी पब्लिक स्कूल है. ये स्कूल उसी नार्थ वेस्ट जिला इलाके में स्थित है जहां दंगे की शुरुआत हुई थी और उसी इलाके में दंगा का प्रमुख आरोपी निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन रहता है. इस राजधानी स्कूल के कैंपस को प्रयोग करके इसके आसपास तमाम एक विशेष धर्म को चिन्हित करते हुए दर्जनों घरों में आग लगा दी गई थी. जिसके बाद ये दंगा और तेजी से आग के जैसे फैलने लगा था. शिव विहार के न्यू मुस्तफाबाद इलाके में स्थित राजधानी स्कूल पर एक विशेष तरीके का गुलेल बनाया गया था, जिसमें पेट्रोल बम डालकर आसपास के घरों, स्कूलों को चिन्हित करके उसमें आग लगाई गई थी और पथराव किया गया था.

फारूख के बारे में तफ्तीश करने पर ये पता चला की ये दंगे से पहले और दंगा के दौरान लगातार ताहिर हुसैन के साथ संपर्क में बना हुआ था. इस दंगे के वक्त इसके बैंक एकाउंट में लाखों-करोडों रुपये के लेनदेन की भी जानकारी क्राइम ब्रांच को मिली है. इसके साथ ये भी जानकारी मिली थी कि फारूख उस वक्त यूपी के सहारनपुर इलाके में स्थित देवबंद से काफी संख्या में लोगों को दिल्ली में बुलाकर अपने स्कूल सहित आसपास ठहराया था, जिसके बाद उन्हीं दंगाईयों द्वारा उस इलाके में पथराव और आगजनी में शामिल होने का आरोप है. जबकि क्राइम ब्रांच के सूत्र से भी बताते हैं कि वो खुद 23 फरवरी को सहारनपुर गया था और काफी लोगों को वहां से लेकर दिल्ली बुलाया था.



फैसल फारूख का मौलाना साद कनेक्शन?


दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम ने फारूख को भी दिल्ली दंगा के लिए प्रमुख आरोपियों के तौर पर उसके खिलाफ आरोपपत्र में जिक्र किया है . इसके साथ ही फारूख के मोबाइल कॉल डिटेल और उसके मोबाइल कनेक्शन के बारे मे भी काफी सबूतों का जिक्र आरोपपत्र में दर्ज है. इसी डिटेल में इस बात की भी पुष्टि हो रही है कि वो लगातार दंगा के दौरान मौलाना साद से भी बातचीत कर रहा था. उस दौरान कॉल दोनों तरफ से हुई थीं. फारूख के कॉल डिटेल में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया , देवबंद के कई मौलवियों , पिंजरा तोड़ समूहे से जुडे लोगों के साथ बातचीत भी सामने आया था. देवबंद और सहारनपुर की अगर बात करें तो यहां मौलाना साद की ससुराल भी है, जहां मौलाना साद से जुड़े कई परिवारिक सदस्य रहते हैं, लिहाजा उन तमाम मामलों को ध्यान में रखते हए मामले की आगे की तफ्तीश जारी है.

ये भी पढ़ें

Delhi-NCR में आने-जाने के लिए कॉमन पास बनाएं सरकार: सुप्रीम कोर्ट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading