Home /News /delhi-ncr /

केंद्र सरकार के प्रस्ताव पर किसान मोर्चे ने लगाई मुहर, कल हो सकता है किसान आंदोलन खत्म करने का ऐलान

केंद्र सरकार के प्रस्ताव पर किसान मोर्चे ने लगाई मुहर, कल हो सकता है किसान आंदोलन खत्म करने का ऐलान

किसान आंदोलन 26 नवंबर को एक साल का हो चुका है. अब कल किसान आंदोलन खत्म करने की घोषणा हो सकती है.

किसान आंदोलन 26 नवंबर को एक साल का हो चुका है. अब कल किसान आंदोलन खत्म करने की घोषणा हो सकती है.

Kisan Andolan News: संयुक्त किसान मोर्चा की मीटिंग के बाद प्रेस कान्फ्रेंस में हरियाणा के किसान नेता गुरनाम चढ़ूनी ने कहा कि कल सरकार की तरफ से जो ड्राफ्ट आया था, उस पर हमारी सहमति नहीं बनी थी. हमने उसमें कुछ सुधारों की मांग कर लौटा दिया था. सरकार दो कदम और आगे बढ़ी है. आज जो ड्राफ्ट आया है, उसको लेकर हमारी सहमति बन गई है. अब सरकार उस ड्राफ्ट पर हमें अधिकारिक चिट्‌ठी भेजे. इसी पर सबकी सहमति है. जैसी चिट्‌ठी आएगी, उस पर कल मीटिंग कर फैसला लेंगे. इसके लिए 12 बजे मीटिंग बुला ली गई है. जिसमें अंतिम फैसला लिया जाएगा.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. दिल्ली बॉर्डर (Delhi Border) पर चल रहे किसान आंदोलन (Kisan Andolan) को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा (Sayunkt Kisan Morcha) की मीटिंग खत्म हो गई है. जिसमें केंद्र सरकार (Central Government) और मोर्चे (SKM) के बीच सहमति बन गई है. केंद्र सरकार के साथ बातचीत के बाद तैयार प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई है. अब सरकार की तरफ से इसे मानने के लिए अधिकारिक चिट्‌ठी भेज दी जाएगी तो कल यानि गुरुवार को मोर्चे (SKM) की मीटिंग बुलाकर किसान आंदोलन खत्म करने का ऐलान हो सकता है.

संयुक्त किसान मोर्चा की मीटिंग के बाद प्रेस कान्फ्रेंस में हरियाणा के किसान नेता गुरनाम चढ़ूनी ने कहा कि कल सरकार की तरफ से जो ड्राफ्ट आया था, उस पर हमारी सहमति नहीं बनी थी. हमने उसमें कुछ सुधारों की मांग कर लौटा दिया था. सरकार दो कदम और आगे बढ़ी है. आज जो ड्राफ्ट आया है, उसको लेकर हमारी सहमति बन गई है. अब सरकार उस ड्राफ्ट पर हमें अधिकारिक चिट्‌ठी भेजे. इसी पर सबकी सहमति है. जैसी चिट्‌ठी आएगी, उस पर कल मीटिंग कर फैसला लेंगे. इसके लिए 12 बजे मीटिंग बुला ली गई है. जिसमें अंतिम फैसला लिया जाएगा.

हरियाणा सरकार भी मुआवजे और मुकदमा वापस लेने पर राजी

इसी दौरान हरियाणा सरकार ने भी किसानों को मुआवजे के तौर पर 5 लाख की मदद और केस वापस लेने की सहमति दे दी है. केंद्र सरकार ने भी सभी केस वापस लेने पर सहमति दे दी है. केंद्र ने MSP कमेटी में सिर्फ मोर्चे के नेताओं को रखने की बात भी मान ली है. दिल्ली बॉर्डर पर 377 दिन से किसान आंदोलन चल रहा है.

किसान नेताओं ने क्या कहा…

किसान नेता शिवकुमार शर्मा कक्का ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चे की बैठक में सहमति हुई है, अभी सरकार से ड्राफ्ट आयेगा. फिर बैठक होगी और उसी बैठक मे आगामी निर्णय लेंगे. अभी आंदोलन को स्थगित करने का निर्णय नहीं लिया गया है. आंदोलन जारी है. आज केंद्र सरकार के तरफ से ड्राफ्ट आया है. उस पर 5 मेंबर की कमेटी मे डिस्कस हुआ. आज एसकेएम के मिटिंग मे सुधारित ड्राफ्ट रखा गया. एसकेएम की मिटिंग ने नये ड्रॉफ्ट को सर्वसम्मति से पारित किया.

ये एक सिर्फ ड्राफ्ट है, कल तक यह खत के रूप मे मिलना चाहिये. ये आंदोलन चलता रहेगा. कल एसकेएम की 12 बजे मिटिंग होगी फिर उसमे आगे का विचार किया जायेगा. कल फाइलन खत आने पर जो निर्णय होगा मिटिंग मे रखा जायेगा. हमारी सहमति बन गयी है. जैसा सरकार निर्णय लेगी उसी पर कल की मिटिंग मे निर्णय लेंगे. हमको संयुक्त किसान मोर्चे ने अधिकृत किया है. कल सब आपके सामने आयेगा. जब आफिसियल लेटर आयेगी तभी कुछ कह सकते हैं.

कल की मीटिंग में लेंगे अंतिम फैसला

किसान नेता अशोक धवले ने कहा कि अभी ड्राफ्ट है कल तक ये ख़त के रूप में हमें मिलना चाहिए. कल तक अगर खत मिला तो आगे का विचार कल SKM की मीटिंग में किया जाएगा. जब तक ठोस सरकार की तरफ से औपचारिक लेटर नहीं मिलेगा आंदोलन चलता रहेगा. जैसे ही निर्णय सरकार लेगी कल की मीटिंग में उस पर सोचा जाएगा.

Tags: Agricultural law canceled, Agricultural law return, Agriculture law latest update, Farmers Agitation, Gurnam Singh Chaduni, Kisan Andolan

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर