होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /दिल्‍ली महिला आयोग की काउंसलर पर हमला, रिक्‍शे से बाहर खींचकर घसीटा

दिल्‍ली महिला आयोग की काउंसलर पर हमला, रिक्‍शे से बाहर खींचकर घसीटा

दिल्‍ली में दिल्‍ली महिला आयोग की काउंसलर पर हमला हुआ है.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

दिल्‍ली में दिल्‍ली महिला आयोग की काउंसलर पर हमला हुआ है.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने शास्त्री पार्क थाने के एसएचओ को नोटिस जारी कर कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी ...अधिक पढ़ें

नई दिल्‍ली. दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने आयोग में क्राइसिस इंटरवेंशन सेंटर (CIC) कार्यक्रम में कार्यरत एक काउंसलर के मोबाइल छिन जाने की घटना को लेकर दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी किया है. आयोग के सीआईसी कार्यक्रम के साथ काम करने वाली एक काउंसलर ने आयोग में शिकायत दर्ज़ करवाई. जिसमें उसने बताया कि 10 नवंबर को सीआईसी द्वारा सौंपे गए आधिकारिक कार्य के तहत काउंसलर एक शिकायतकर्ता से मिलने सीलमपुर पुलिस स्टेशन गई थी. इसके बाद यौन उत्पीड़न एक पीड़िता की सहायता के लिए उसने थाने से जग प्रवेश चंद्र अस्पताल जाने के लिए एक ई-रिक्शा लिया.

उसने बताया कि जब वह शास्त्री पार्क रोड के पास पहुंची तो बाइक सवार तीन लोगों ने उस पर हमला कर दिया और उसका फोन छीनने की कोशिश की. जब उसने विरोध किया, तो उसे रिक्शे से बाहर खींच लिया मगर उसके पैर चलते रिक्शे में फंसे रह गए जिससे वह जमीं पर घिसट गयी. इससे उन्हें कई चोटें आई हैं. घटना के बाद रिक्शा चालक उसे शास्त्री पार्क थाने ले गया, जहां से उसे जग प्रवेश चंद्र अस्पताल ले जाया गया और उसकी एमएलसी कराई गई.

आयोग में काम करने वाली काउंसलर अक्सर विषम परिस्थितियों में काम करती हैं और उन्हें अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करनी पड़ती है. यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण था कि एक काउंसलर जिसे यौन हिंसा की पीड़िता की सहायता करने के लिए नियुक्त किया गया था, उस पर खुद हमला हो गया और उसे अस्पताल ले जाना पड़ा.

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने शास्त्री पार्क थाने के एसएचओ को नोटिस जारी कर कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी है. आयोग ने मामले में की गई गिरफ्तारियों के विवरण के साथ प्राथमिकी की प्रति मांगी है. इसके अलावा, आयोग ने यह भी पूछा है कि क्या काउंसलर का फोन ढूंढ लिया गया है और उसे वापस दे दिया गया है.

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा, ‘हमारी काउंसलर संकट में महिलाओं और लड़कियों की सहायता के लिए दिन-रात जमीन पर काम करती हैं. कई बार उन्हें बेहद विपरीत परिस्थितियों में काम करना पड़ता है और अपराधियों का सामना करना पड़ता है. यह घटना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है क्योंकि यौन हिंसा की पीड़िताओं के लिए देखभाल करने वाली और सहायक व्यक्ति भी राजधानी में असुरक्षित हैं. एक काउंसलर लड़की जो एक पीड़िता की सहायता के लिए अस्पताल जा रही थी, उसे खुद ही चिकित्सकीय उपचार कराना पड़ा. मैंने दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी किया है. आरोपी व्यक्तियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए.’

Tags: Delhi Commission for Women, Swati Maliwal

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें