• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • Delhi Metro में निकल रहे सांपों का क्या है रहस्य? अब मुंडका डिपो में निकले 15 से ज़्यादा सांप

Delhi Metro में निकल रहे सांपों का क्या है रहस्य? अब मुंडका डिपो में निकले 15 से ज़्यादा सांप

दिल्ली मेट्रो रेल के मुंडका डिपो से निकले सांप.

16 जून को वाइल्ड लाइफ एसओएस एनजीओ को खबर मिली कि दिल्ली मेट्रो के मुंडका डिपो में सांप (Snake) निकल आए हैं. जब एसओएस की टीम पहुंची तो वहां एक के बाद एक 15 से ज़्यादा सांप पकड़े गए.

  • Share this:
    नई दिल्ली. 7 से 8 फुट लम्बा. फुर्तीला इतना कि भागते हुए कीड़े और जानवरों का शिकार कर ले. दिखने में एकदम कोबरा जैसा होता है. लेकिन, खास बात यह है कि यह कोबरा जैसा ज़हरीला नहीं होता है. मतलब इस सांप में ज़हर नहीं पाया जाता है. अगर यह किसी को काट ले तो उसे कुछ नहीं होगा. इस सांप को रैट स्नेक कहा जाता है. चूहों का शिकार करने के चलते इसका यह नाम रखा गया है, लेकिन दिल्ली मेट्रो के डिपो में यह सांप बहुत पकड़ा जा रहा है. हाल ही में मुंडका डिपो में 15 से ज़्यादा सांप पकड़े गए थे. इसमें रैट स्नेक भी शामिल थे.

    किसानों का दोस्त कहा जाता है रैट स्नेक
    रैट स्नेक ज़हरीला नहीं होता है. यह चूहों का शिकार करने के साथ ही खेत में होने वाले कीड़े-मकोड़ों को खाता है, क्योंकि यह फसलों को नुकसान पहुंचाने वाले कीड़े खाता है तो किसान इसे अपना दोस्त मानते हैं. वैसे तो किसान इसे मारते नहीं हैं, लेकिन कोबरा जैसा दिखाई देने के चलते धोखे से यह किसानों का शिकार हो जाता है.

    rat, Snake, Delhi Metro rail depot, DMRC, wildlife, SOS, cobra snake, dwarka metro, indian railway, चूहा, सांप, दिल्ली मेट्रो रेल डिपो, DMRC, वन्यजीव, एसओएस, कोबरा सांप, द्वारका मेट्रो, भारतीय रेलवे
    एसओएस टीम का सदस्य पकड़े गए सांप को दिखाते हुए.


    क्या चूहों से बचने के लिए रैट स्नेक डिपो में छोड़े जाते हैं?
    दिल्ली मेट्रो के पीआरओ अनुज दयाल का कहना है कि मेट्रो के डिपो में सांप का निकलता कोई बड़ी बात नहीं है. बहुत बड़ा एरिया होता है. घास और झाड़ियां भी होती हैं तो सांप निकल ही आते हैं. लेकिन रैट स्नेक ही क्यों निकलता है? क्या चूहों की परेशानी से बचने के लिए रैट स्नेक डिपो में छोड़े जाते हैं? इस बारे में पीआरओ अनुज दयाल का कहना था कि उन्हें इस बारे में कुछ नहीं पता. यह तो पूछकर ही बता सकते हैं.



    दी कत्ल की सुपारी, और कत्ल वाले दिन भेज दी अपनी ही तस्वीर, जानें क्यों

    इस सरकारी संस्थान में एडमिशन के लिए सबसे पहले China से आए 5 आवेदन

    वहीं उन्होंने यह भी कहा कि डिपो में रैट स्नेक का निकलना सिर्फ एक घटना है. गौरतलब रहे कि चूहों से परेशान इंडियन रेलवे हर साल करोड़ों रुपये चूहे पकड़ने और उन्हें मारने पर खर्च करता है.

    मेट्रो डिपो मुंडका में निकले 15 से ज़्यादा सांप
    16 जून को वाइल्ड लाइफ एसओएस एनजीओ को खबर मिली कि दिल्ली मेट्रो के मुंडका डिपो में सांप निकल आए हैं. जब एसओएस की टीम पहुंची तो वहां एक के बाद एक 15 से ज़्यादा सांप पकड़े गए. इसमें रैट स्नेक भी शामिल था, जिसे टीम ने बाद में सुराक्षित जगह पर छोड़ दिया. एक प्रेस नोट जारी कर एसओएस एनजीओ ने यह जानकारी दी है.

    अगर दिल्ली मेट्रो के दूसरे डिपो पर भी नज़र दौड़ाएं तो वहां भी रेट स्नेक पकड़े जाते रहे हैं. कुछ घटनाओं की जानकारी हम आपको नीचे दे रहे हैं-

    1 द्वारका 21 मेट्रो स्टेशन एक सांप 6 नवंबर 2019

    2 तीमारपुर डिपो में पकड़ा गया एक सांप. 28 मई 2019

    3 मुकुंदपुर डिपो में एक पकड़ा गया सांप. 17 अक्टूबर 2016

    4 मुंडका डिपो में 15 से ज़्यादा पकड़े गए. 16 जून 2020.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज