होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /महिलाओं ने संसद से मांगा दो दिन का वुमेन स्पेशल सत्र, ये है वजह

महिलाओं ने संसद से मांगा दो दिन का वुमेन स्पेशल सत्र, ये है वजह

संसद का दो दिवसीय महिला सत्र बुलाने के लिए लोकसभा अध्यक्ष को मांगपत्र सौंपती परी की टीम (File Photo)

संसद का दो दिवसीय महिला सत्र बुलाने के लिए लोकसभा अध्यक्ष को मांगपत्र सौंपती परी की टीम (File Photo)

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला, राजस्थान और हरियाणा की सीएम से मिलीं निर्भया केस की पैरोकार योगिता भयाना. कहा-जब संसद और विधा ...अधिक पढ़ें


    1. नई दिल्ली. निर्भया केस (Nirbhaya Case) की पैरोकार योगिता भयाना (Yogita Bhayana) ने महिलाओं को मान-सम्मान और न्याय दिलाने के लिए नई मुहिम छेड़ दी है. यह मुहिम है हर साल संसद (Parliament) का दो दिवसीय वुमेन स्पेशल सत्र बुलाने की, जिसमें महिलाओं से जुड़ी परेशानियों, उन्हें आगे बढ़ाने और उन्हें हक दिलाने वाले फैसले हों. हर साल दो दिन हमारे कानून निर्माता सिर्फ बहन-बेटियों की न सिर्फ चिंता करें बल्कि उनके लिए ठोस काम भी करें. इस मुहिम में महिलाओं की टीम ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला से मुलाकात की है.


    योगिता भयाना रेप पीड़िताओं की सहायता के लिए पीपुल्स अगेंस्ट रेप इन इंडिया (परी) नामक  अभियान चलाती हैं. बड़ी संख्या में पीड़िता और उनके परिजन योगिता से जुड़कर कोर्ट में अपने केस लड़ रहे हैं.

    परी (PARI) के बैनर तले देश भर में रेप पीड़िताओं को न्याय दिलाने का काम करने वाली योगिता की मुहिम ये भी है हर विधानसभा में भी वुमेन स्पेशल सत्र चले. इसके लिए वो राजस्थान (Rajasthan) के मुख्यमंत्री अशोक गहलौत और हरियाणा (Haryana) के सीएम मनोहरलाल खट्टर से मिल चुकी हैं. इस मामले में उन्हें राष्ट्रीय महिला आयोग का भी साथ मिला है.

     womens session in parliament, womens day, parliament of india, Nirbhaya Case, social activist yogita bhayana, pari, Rajasthan, om birla, Change.org, संसद में महिला सत्र, महिला दिवस, भारत की संसद, निर्भया केस, सामाजिक कार्यकर्ता योगिता भयाना, परी, राजस्थान, ओम बिड़ला, विधानसभा सत्र, Assembly session
    राजस्थान में महिला मामलों पर दो दिवसीय सत्र बुलाने के लिए अशोक गहलौत को मांग पत्र सौंपतीं योगिता भयाना


    भयाना ने बताया कि लोकसभा अध्यक्ष और राजस्थान के सीएम ने उनकी मांग पर विचार करने को कहा है. अगर ऐसा होने लगेगा तो यह महिलाओं की बड़ी जीत होगी. उन्होंने बताया कि चेंज डॉट ओआरजी (Change.org) भी इस मुहिम में जुड़ गया है. जब संसद और विधानसभाओं में स्पेशल सत्र होंगे तभी आधी आबादी को पूरा न्याय और हक मिलेगा.



    योगिता का कहना है कि निर्भया का केस फास्ट ट्रैक कोर्ट में है, फिर भी इसे चलते लगभग सात साल हो चुके हैं. लेकिन अभी तक न्याय नहीं मिला है. जबकि इस केस को पूरा देश जानता है. इसमें न्याय दिलाने के लिए लोग सड़क पर उतरे थे. आप समझ सकते हैं कि अन्य महिलाओं के साथ क्या होता होगा? इसलिए मैं चाहती हूं कि देश और प्रदेशों की सबसे बड़ी पंचायत में महिलाओं को लेकर हर साल दो दिन चर्चा हो.

    ये भी पढ़ें: तिहाड़ जेल में निर्भया के हत्यारों की फांसी देने का तख्त तैयार, हुआ ट्रायल!
    निर्भया केस: '16 दिसंबर को ही दोषियों को फांसी हो वरना मुझे इच्छामृत्यु दी जाए'    

    Tags: Nirbhaya, Om Birla, Parliament, Women

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें