सोशल मीडिया में तेल के बढ़ते दामों पर कांग्रेस का सरकार के खिलाफ हल्ला बोल, दिनभर चला टॉप ट्रेंड

पेट्रोल-डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों के खिलाफ प्रदेश युवा कांग्रेस ने पेट्रोल पंप पर विरोध प्रदर्शन किया.

आज कांग्रेस द्वारा इसी तेल की बेतहाशा बढ़ती कीमतों के खिलाफ देशव्यापी धरना प्रदर्शन और आंदोलन हुए. जिसमें कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा सरकार के खिलाफ में गिरफ्तारियां दी गई.

  • Share this:
    नई दिल्ली. डीजल पेट्रोल के रोजाना बढ़ते और सैकड़ा पार कर चुके दामों ने आमजन के जीवन पर असर डालना शुरू कर दिया है. तेल की बढ़ती कीमतें अन्य कई प्रकार से महंगाई बढ़ाने वाली होती हैं. आज कांग्रेस द्वारा इसी तेल की बेतहाशा बढ़ती कीमतों के खिलाफ देशव्यापी धरना प्रदर्शन और आंदोलन हुए. जिसमें कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा सरकार के खिलाफ में गिरफ्तारियां दी गई.

    कांग्रेस सोशल मीडिया टीम द्वारा #BJPLootingIndia अभियान चलाया गया, जो नंबर वन पर ट्रेंड करता रहा. इसके माध्यम से कांग्रेस ने तेल के बढ़ते दामों के खिलाफ सड़क के बाद वर्चुअल अखाड़े में भी केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ घेराबंदी तेज कर दी है.





    इस अभियान की निगरानी कर रहे राष्ट्रीय कन्वीनर सरल पटेल ने बताया कि सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक कांग्रेस ने आज इस जनविरोधी सरकार के चेहरे को जनता के सामने बेनकाब कर दिया है. आमजन त्रस्त हैं वही मोदी सरकार अपने पूंजीपति मित्रों के साथ मस्त है. यह अभियान गूंगी बहरी सरकार को जगाने का काम करेगा जो हम भारतवासी के लिए हितकर होगा.





    सोशल मीडिया सरकार के जनविरोधी चेहरे को रोज कर रहा बेनकाब - अनुज शुक्ला

    सोशल मीडिया स्टेट कोऑर्डिनेटर अनुज शुक्ला ने बातचीत में बताया कि भाजपा के जनविरोधी कार्यों को वर्चुअल दुनिया में सबके सामने लाने का काम सोशल मीडिया द्वारा प्रतिदिन बखूबी किया जा रहा है, जो सत्ता पक्ष की बौखलाहट का मुख्य कारण है. रोज सरकार द्वारा चालाकी से तेल के दाम 25-30 पैसे बढ़ाने के खेल को जनता समझ चुकी है. चुनाव प्रेमी सरकार चुनावों तक तो दाम नहीं बढ़ाती है, लेकिन खत्म होते ही आमजन की जेबों पर डाका डालना शुरू कर देती है. विपक्ष को रोज खोजने वाले ऐसे अभियानों के समय गायब क्यों हो जाते हैं, यह भी जनता समझ चुकी है.





    कोरोना काल में महंगाई ने मध्यम वर्ग की कमर तोड़ दी- रनीश जैन

    स्टेट कोऑर्डिनेटर रनीश जैन का कहना है कि कोरोना महामारी से वैसे ही परेशान मध्यम वर्ग के लिए महंगाई नई मुसीबत बनकर आई है. रोजमर्रा के इस्तेमाल होने वाले ग्रॉसरी आइटम यानी किराने के सामान के दाम में एक साल में जहां 40 फीसदी की बढ़त हुई है, वहीं खाद्य तेलों के दाम 50 फीसदी तक बढ़ गए हैं. खाद्य तेलों की महंगाई ने हैरान किया है, क्योंकि पिछले एक साल में इनके दाम डेढ़ गुना बढ़ गए है. जनता के मुद्दों को उठाने का काम आज कांग्रेस सोशल मीडिया की टीम बखूबी कर रही है.





    सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच में सोशल मीडिया पर छिड़ी जंग अब दिनों दिन तेज होती जा रही है. दोनों ओर से तीखे तीनों का रोज चलना जारी है उत्तर प्रदेश के होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए हर दल इसमें कोई कमी नहीं छोड़ना चाहता है. अब यह तो आने वाला समय ही बताएगा कि सोशल मीडिया के जरिए लड़ी जा रही लड़ाई में कौन सा खेमा भारी पड़ेगा.