Kisan andolan: मेधा पाटकर की अगुवाई में 12 राज्‍यों से मिट्टी लेकर यूपी गेट पहुंचे सामाजिक कार्यकर्ताओं ने बनाया स्‍मारक

यूपी गेट पर किसान स्‍मारक बनाया

यूपी गेट पर किसान स्‍मारक बनाया

नए कृषि कानून के विरोध में सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर के नेतृत्‍व में मंगलवार को 12 राज्यों से मिट्टी लेकर सामाजिक कार्यकर्ता यूपी गेट पहुंचे और मंच के पास मिट्टी से अस्‍थाई किसान स्मारक स्थापित किया.

  • Share this:

गाजियाबाद.  नए किसान कानून के विरोध में मेधा पाटकर के नेतृत्‍व में मंगलवार को 12 राज्यों से मिट्टी लेकर सामाजिक कार्यकर्ता यूपी गेट पहुंचे और मंच के पास मिट्टी से अस्‍थाई किसान स्मारक स्थापित किया. इस दौरान सामाजिक कार्यकर्ताओं ने संबोधन में तीनों नए कानूनों को किसान विरोधी बताते हुए केन्‍द्र सरकार से वापस लेने की मांग की. साथ ही यह भी बताया कि कृषि कानून लागू होने के बाद खेती पर इनका क्या असर पड़ेगा.

भारतीय किसान यूनियन के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने बताया कि विभिन्‍न राज्‍यों से मिट्टी लेकर पहुंचे किसानों ने बीकेयू के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता राकेश टिकैत को मिट्टी सौंपी. मीडिया प्रभारी ने बताया कि नमक कानून के विरोध में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी द्वारा निकाली गई दांडी यात्रा से प्रेरणा लेकर नए कृषि कानूनों के विरोध में मिट्टी सत्याग्रह किया गया है. सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटेकर की अगुवाई में किए गए गुजरात के 33 जिलों के 800 गांवों से मिट्टी लेकर सामाजिक कार्यकर्ता मंगलवार को यूपी गेट पहुंचे. यहां पर सुबह 10 बजे से 12 बजे तक किसान स्मारक स्थपित करने का कार्यक्रम आयोजित हुआ. शहीद भगत सिंह, सरदार पटेल, चंद्रशेखर आजाद, ऊधम सिंह और सुखदेव जैसे क्रांतिकारियों के गांवों से भी मिट्टी लाई गई है.

ये भी पढ़ें: दिसंबर तक चलेगा किसान आंदोलन, धरना स्‍थल पर गर्मी और बारिश को ध्‍यान में रखते हुए लगाए जाएंगे टेंट

गुजरात के दांडी से 30 मार्च को शुरू हुए यात्रा में शामिल सामाजिक कार्यकर्ता बारदोली होते हुए साबरमती आश्रम पहुंचे. इसके बाद मिट्टी सत्याग्रह यात्रा हिम्मतनगर होते हुए राजस्थान के कई गांवों से निकलकर हरियाणा पहुंची और मंगलवार को यात्रा पहले गाजीपुर बॉर्डर पहुंची. इस मिट्टी से चार माह से चल रहे आंदोलन में विभिन्‍न वजहों से मृत्‍यु को प्राप्‍त हुए किसानों की याद में किसान स्मारक बनाया गया. मिट्टी सत्याग्रह यात्रा में नर्मदा बचाओ आदोलन की नींव रखने वाली मेधा पाटकर के अलावा देश के अलग अलग राज्यों से संबंधित 40 से अधिक सामाजिक कार्यकर्ता शामिल हुए. इस यात्रा में मेधा पाटेकर और डा. सुनीलम के अलावा प्रफुल्ल समंत्रा, फिरोज बोरवाला आदि कई लोग शामिल हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज