रिटायर्ड जनरल वीपी मलिक बोले- कश्मीर के तंगधार में लड़ने से इसलिए बचती है पाक सेना

आतंकियों के मंसूबों को फेल करने के लिए भारतीय सेना लगातार उन्हें मुंहतोड़ जवाब दे रही है. (File Photo)

पाकिस्तान (Pakistan) की सेना इस इलाके में लड़ने से क्यों बचती है? इस बारे में न्यूज18 हिन्दी ने बात की पूर्व थलसेनाध्यक्ष (Army Chief) जनरल रिटायर्ड वीपी मलिक (VP Malik) से.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारतीय सेना ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK)  स्थित नीलम घाटी में रविवार सुबह (Indian Army) की आतंकियों (Terrorist) के खिलाफ स्ट्राइक (Strike) की थी. सेना ने यह कार्रवाई तंगधार में पाकिस्तान की तरफ किए गए सीजफायर उल्लंघन के बाद की, जिसमें कई आतंकी कैंप्स (Terrorist) तबाह हो गए. इस कार्रवाई में कई आतंकी और पाक सेना (Pakistan Army) के जवान भी मारे गए हैं. अब तब इतिहास रहा है कि पाक सेना इस इलाके में आतंकियों की घुसपैठ कराने के लिए हल्की-फुल्की गोलीबारी ही करती आई है, कभी उसने यहां कोई बड़ी लड़ाई नहीं छेड़ी. आखिर पाकिस्तान की सेना इस इलाके में लड़ने से क्यों बचती है? बॉर्डर (Border) इलाका होने के चलते नीलम और तंगधार का क्या महत्व है? इस बारे में न्यूज18 हिन्दी ने बात की पूर्व थलसेनाध्यक्ष (Army Chief) जनरल रिटायर्ड वीपी मलिक (VP Malik) से.

    तगंधार में एकदम आमने-सामने हैं दोनो सेनाएं
    जनरल रिटायर्ड वीपी मलिक ने बताया, 'तगंधार बॉर्डर का वो इलाका है, जहां दोनों देश (भारत और पाकिस्तान) की सेनाएं एकदम आमने-सामने हैं. दोनों लोग एक-दूसरे की चौकियों को बिना दूरबीन के भी आराम से देख सकते हैं. यहां तक की इस इलाके में हम अपने एरिया में बैठकर पाकिस्तान की एक सड़क भी देख सकते हैं. हमारे सैनिकों की निगाह हमेशा उनकी मूवमेंट पर बनी रहती है.'

    पाक सेना जब भी लड़ी तो उसका बड़ा नुकसान हुआ
    वीपी मलिक का कहना है, 'तगंधार बॉर्डर पर दोनो सेना नजदीक हैं. इसी के चलते जब अगर छिटपुट लड़ाई भी होती है तो उसमे पाक सेना का बड़ा नुकसान होता है. ये ही वजह है कि युद्ध के वक्त भी पाक सेना इस इलाके में मोर्चा खोलने से डरती है. अब ताजा मामला ही देख लिजिए, आतंकियों के साथ-साथ इसमे पाक सेना को भी नुकसान उठाना पड़ रहा है.'

    हमेशा से पाक सेना यहां लड़ने से बची है. जनरल रिटायर्ड वीपी मलिक.


    आतंकियों का सहारा लेती है पाक सेना
    वीपी मलिक बताते हैं, 'ये कोई पहला मौका नहीं है, जब पाक सेना तगंधार में नुकसान उठा रही है. जब-जब आतंकियों ने इस इलाके में कुछ भी गलत करने की कोशिश की है तो भारतीय सेना ने उन्हें मार गिराया है. इसी के चलते कार्रवाई की चपेट में पाक सेना के जवान भी आते हैं. रविवार की कार्रवाई में भी आतंकियों के साथ-साथ पाक सेना के जवानों के मारे जाने की भी खबर है.'

    दोनो ओर आबादी बॉर्डर के नजदीक इलाके में ही है. कर्नल रिटायर्ड जीएम खान.


    रिहायशी इलाके के चलते फायदा उठाना चाहते हैं आतंकी
    कर्नल रिटायर्ड जीएम खान तगंधार के बारे में बताते हैं, 'भारत-पाक के बीच ये ऐसा बॉर्डर एरिया है जहां नजदीक में ही आबादी भी है. अब ऐसे में इस आबादी का ही फायदा उठाने के लिए आतंकी इस इलाके का इस्तेमाल करना चाहते हैं. वैसे तगंधार में आतंकियों के मंसूबे कभी भी कामयाब नहीं हुए हैं.'

    ये भी पढ़ें- सीएम योगी का सख्‍त रुख- सिपाही के हाथ में डंडे की जगह मोबाइल दिखे तो सस्पेंड कर दो

    CM Yogi की चेतावनी- सड़क किनारे मुर्गे-बकरे काटने वाली दुकानें खुली मिलीं तो DM-SP होंगे जिम्मेदार!

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.