लाइव टीवी

नए मोटर व्‍हीकल एक्‍ट के खिलाफ हड़ताल कर रहे संगठनों ने लोगों को जबरन कैब-ऑटो से उतारा

News18Hindi
Updated: September 19, 2019, 7:51 PM IST
नए मोटर व्‍हीकल एक्‍ट के खिलाफ हड़ताल कर रहे संगठनों ने लोगों को जबरन कैब-ऑटो से उतारा
दिल्‍ली-एनसीआर में ऑटो हड़ताल कर रहे संगठन के लोगों ने कई जगह यात्रियों को जबरन कैब-ऑटो से उतारा. अक्षरधाम इलाके में यात्रियों को ले जा रही एक कैब में तोड़फोड़ भी की गई.

राष्‍ट्रीय राजधानी (National Capital) के कुछ इलाकों में हडताल करने वाले संगठन के लोगों ने यात्रियों से जोर-जबरदस्‍ती की. अक्षरधाम इलाके (Akshardham Area) में हड़ताल (Strike) के बाद भी यात्रियों को ले जारी एक कैब (Cab) में तोड़फोड़ (Vandalized) की गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 19, 2019, 7:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. नए मोहर व्‍हीकल कानून (New Motor Vehicle Act ) के खिलाफ हड़ताल (Strike) के कारण बृहस्‍पतिवार को निजी बसें, टैक्‍सी और ऑटोरिक्‍शा राष्‍ट्रीय राजधानी (National Capital) की सड़कों से नदारद रहे. कामकाजी लोगों को सुबह अपने दफ्तरों तक पहुंचने में खासी दिक्‍कत का सामना करना पड़ा. दिल्‍ली में बड़ी संख्‍या में स्‍कूल (Schools) भी बंद रहे. इस बीच दिल्‍ली के कुछ इलाकों में हड़ताल के दौरान अराजकता का माहौल भी देखने को मिला. कुछ जगहों पर विरोध कर रहे लोगों ने यात्रियों को जबरन कैब (Cab) और ऑटो (Auto) से बाहर खींच लिया. अक्षरधाम इलाके (Akshardham Area) में तो यात्रियों को ले जाती एक कैब में तोड़फोड़ भी की गई.

UFTA ने कहा, केंद्र और दिल्‍ली सरकार ने किया मजबूर
यूनाइटेड फ्रंट ऑफ ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन (UFTA) के कार्यकर्ताओं ने बुधवार को कहा कि केंद्र (Center) और दिल्‍ली सरकार (Delhi Government) ने उन्‍हें हड़ताल के लिए मजबूर कर दिया है. एसोसिएशन के महासचिव श्‍यामलाल गोला ने कहा, 'हम पिछले 15 दिन से लगातार उनसे कह रहे हैं कि नए मोटर व्‍हीकल एक्‍ट को लेकर हमारी शिकायतें दूर की जाएं, लेकिन उन्‍होंने कोई समाधान नहीं निकाला. इसलिए हम एक दिन की हड़ताल कर रहे हैं.' गोला ने बताया था कि दिल्‍ली-एनसीआर (Delhi-NCR) की 50 से ज्‍यादा ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन और यूनियन हड़ताल में शामिल होंगी.

मेट्रो-डीटीसी बसों से मंजिल तक पहुंचे लोग
एक सरकारी कर्मचारी किशोर लाल ने बताया कि उन्‍हें रोजाना कॉलोनी से दफ्तर ले जाने वाली चार्टर्ड बस आज नहीं चली. इसलिए उन्‍हें मेट्रो (Metro) से ऑफिस पहुंचना पड़ा. उन्‍होंने बताया कि हमने 15 मिनट बस का इंतजार किया, लेकिन जब वह नहीं आई तो हमने मेट्रो पकड़ने का फैसला किया. हड़ताल के कारण आज डीटीसी की बसों (DTC Buses) में रोजाना के मुकाबले ज्‍यादा भीड़ थी. हालांकि, सड़क पर लेागों को ले जा रहे कुछ ऑटोरिक्‍शा भी नजर आए. हड़ताल के दौरान मेट्रो सेवा और डीटीसी बस सेवा सुचारू रही.



स्‍कूलों ने की छुट्टी, एग्‍जाम भी कर दिए स्‍थगित
एक ऑटोरिक्‍शा ड्राइवर किशन चंद का कहना है कि नाइट शिफ्ट सुबह 8 बजे खत्‍म होती है. इसलिए सुबह कुछ ऑटो सड़क पर दिखे होंगे. शिफ्ट खत्‍म होने के बाद ये ऑटोरिक्‍शा भी हड़ताल में शामिल हो जाएंगे. हड़ताल की वजह से राजधानी के काफी स्‍कूलों ने छुट्टी कर दी थी. गैर-मान्‍यता प्राप्‍त निजी स्‍कूलों की कार्रवाई समिति के महासचिव भरत अरोड़ा ने बताया कि ज्‍यादा स्‍कूलों ने हड़ताल के कारण छुट्टी की घोषणा कर दी थी. बृहस्‍पतिवार को होने वाली परीक्षाएं भी स्‍थगित कर दी गई थीं.

ये भी पढ़ें: Exclusive: योगी आदित्‍यनाथ ने कहा, पूरे देश में लागू हो एनआरसी

Exclusive: CM योगी आदित्‍यनाथ ने कहा-यूपी में मुस्लिमों को मिला ज्‍यादा फायदा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 19, 2019, 5:56 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर