• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • 'निर्भया' केस: दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ केंद्र की अपील पर सुप्रीम कोर्ट में कल सुनवाई

'निर्भया' केस: दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ केंद्र की अपील पर सुप्रीम कोर्ट में कल सुनवाई

यूपी के 75 जिलों में सिर्फ 8 ही ऐसे जेल हैं, जहां फांसी की सजा दी जा सकती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

यूपी के 75 जिलों में सिर्फ 8 ही ऐसे जेल हैं, जहां फांसी की सजा दी जा सकती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

केंद्र सरकार ने 'निर्भया' मामले में दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) के उस फैसले को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में चुनौती दी है जिसमें उसने कहा था कि चारों दोषियों को अलग-अलग फांसी नहीं दी जा सकती

  • Share this:
    नई दिल्ली. 'निर्भया' गैंगरेप मामले (Nirbhaya Gangrape Case) में केंद्र सरकार की अपील पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में शुक्रवार को सुनवाई होगी. केंद्र ने इस मामले के चारों दोषियों को अलग-अलग फांसी देने के संबंध में दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) में याचिका दाखिल की थी. जिसे बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया था. केंद्र सरकार की ओर से अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल के.एम नटराजन ने मामले का विशेष उल्लेख जस्टिस एन.वी रमन की अध्यक्षता वाली खंडपीठ के समक्ष (सामने) किया और इस पर त्वरित सुनवाई की मांग की. नटराजन ने दलील दी कि चारों दोषियों में से तीसरे अक्षय ठाकुर की दया याचिका भी राष्ट्रपति ने ठुकरा दी है. जस्टिस एन.वी रमन ने इस मामले की गंभीरता को देखते हुए शुक्रवार को सुनवाई पर सहमति जता दी.

    केंद्र सरकार ने दिल्ली हाईकोर्ट के उस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है जिसमें उसने कहा था कि चारों दोषियों को अलग-अलग फांसी नहीं दी जा सकती.



    बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार की अर्जी खारिज करते हुए कहा था कि दोषियों को एक साथ ही फांसी हो सकती है. हाईकोर्ट ने निर्भया के दोषियों- विनय, पवन, अक्षय और मुकेश को सभी कानूनी विकल्प अपनाने के लिए एक हफ्ते का समय भी दिया.

    शाहीन बाग प्रदर्शन, याचिका, सुप्रीम कोर्ट, दिल्ली न्यूज, दिल्ली में ट्रैफिक की समस्या, Shaheen Bagh Protest, Plea, Supreme Court, Delhi News, Problem of Traffic Jam in Delhi
    'निर्भया' मामला में दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ केंद्र सरकार की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को सुनवाई करेगा


    फांसी की तारीख तय करवाने तिहाड़ प्रशासन पहुंचा कोर्ट
    निर्भया मामले के दोषियों की फांसी की सजा मुकर्रर करने के लिए तिहाड़ जेल प्रशासन कोर्ट पहुंचा है. कोर्ट से फांसी की नई तारीख मांगी गई है. इस मामले में अतिरिक्त सेशन जज धर्मेंद्र राणा ने इस मामले के सभी पक्षों (दोषियों समेत) से जवाब मांगा है. कोर्ट इस मामले में शुक्रवार को सुनवाई करेगी.

    gangrape
    साल 2012 में निर्भया की घटना हुई थी (प्रतीकात्मक फोटो)


    क्या है निर्भया गैंगरेप का मामला
    बता दें कि 16 दिसंबर, 2012 की रात 23 साल की एक पैरामेडिकल स्टूडेंट अपने दोस्त के साथ दक्षिण दिल्ली के मुनिरका इलाके में बस स्टैंड पर खड़ी थी. दोनों फिल्म देखकर घर लौटने के लिए पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इंतजार कर रहे थे. इस दौरान वो वहां से गुजर रहे एक प्राइवेट बस में सवार हो गए. इस चलती बस में एक नाबालिग समेत छह लोगों ने युवती के साथ बर्बर तरीके से मारपीट और गैंगरेप किया था. इसके बाद उन्होंने पीड़िता को चलती बस से फेंक दिया था.

    बुरी तरह जख्मी युवती को बेहतर इलाज के लिए एयर लिफ्ट कर सिंगापुर ले जाया गया था. यहां 29 दिसंबर, 2012 को अस्पताल में उसकी मौत हो गई थी. घटना के बाद पीड़िता को काल्पनिक नाम ‘निर्भया’ दिया गया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज