जामा मस्जिद के शाही इमाम का ऐलान, 1 अगस्‍त को मनाया जाएगा ईद-उल-अजहा का पर्व
Delhi-Ncr News in Hindi

जामा मस्जिद के शाही इमाम का ऐलान, 1 अगस्‍त को मनाया जाएगा ईद-उल-अजहा का पर्व
भारत में बकरीद का पर्व 1 अगस्‍त को मनाया जाएगा.

दिल्‍ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी (Syed Ahmed Bukhari) ने घोषणा की है कि ईद-उल-अजहा का पर्व 1 अगस्त यानी शनिवार को मनाया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 22, 2020, 12:03 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली की जामा मस्जिद (Jama Masjid) के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी (Syed Ahmed Bukhari) ने घोषणा की है कि ईद-उल-अजहा (Eid Al Adha) का पर्व 1 अगस्त यानी शनिवार को मनाया जाएगा. ऐसा इसलिए हुआ है क्‍योंकि आज चांद नहीं देखा गया है.

दिल्ली की फतेहपुरी मस्जिद के शाही इमाम मौलाना मुफ्ती मुकर्रम ने कहा, 'दिल्ली समेत भारत में कहीं भी चांद नजर नहीं आया है. बकरीद एक अगस्त, ब-रोज़ शनिवार को मनाई जाएगी. दिल्ली में आसमान साफ नहीं था, लेकिन तमिलनाडु और मध्य प्रदेश में जहां आसमान साफ था, वहां से भी चांद नहीं दिखा है.'

इस बीच मुफ्ती मुकर्रम ने कहा , ' मुस्लिम समुदाय के जिन लोगों के पास करीब 612 ग्राम चांदी है या इसके बराबर के पैसे हैं, उन पर कुर्बानी वाजिब है. '





इसके अलावा इमारत ए शरिया हिंद ने भी ऐलान किया कि ईद उल अजहा का पर्व एक अगस्त को मनाया जाएगा. इमारत ए शरिया हिंद की रूयत ए हिलाल समिति के सचिव मुईजुद्दीन अहमद ने एक बयान में कहा कि दिल्ली में चांद नहीं दिखा है न ही देश के किसी हिस्से से चांद नजर आने की कोई खबर है. उन्‍होंने कहा कि इस्लामी कलैंडर के 12वें महीने ज़िल हिज्जा की पहली तारीख 23 जुलाई को होगी और ईद उल अजहा एक अगस्त को मनाई जाएगी.'

मौलाना खालिद रशीद फंरगी महली ने भी किया ऐलान
देश की राजधानी की बड़ी मजिस्‍द के इमाम सैयद अहमद बुखारी के ऐलान के साथ ही उत्‍तर प्रदेश की राजधानी की मरकज़ी चांद कमेटी महल के सदर एवं काजी-ए-शहर मौलाना खालिद रशीद फंरगी महली इमाम ईदगाह लखनऊ ने ऐलान किया है कि आज 21 जुलाई को जिलहिज्ज का चांद नहीं हुआ है. इसलिए जिलहिज्ज की पहली तारीख 23 जुलाई को होगी. इस प्रकार ईद-उल-अजहा (बकरईद) 1 अगस्त को होगी. वहीं,  फरंगी महली ने कहा है कि कुर्बानी और नामाज़ के सिलसिले में उत्‍तर प्रदेश सरकार की गाइडलाइंस का इंतजार है.

कोरोना के कारण फीके हैं सभी पर्व
बहरहाल, कोरोना वायरस की महामारी से पूरा देश जूझ रहा है. इस वजह से मार्च के बाद आने वाले सभी त्‍योहारों पर खास असर पड़ा है. अगरईद-उल-अजहा की बात करें तो इसमें अब करीब 10 बाकी रह गए हैं, लेकिन कहीं कोई रौनक नजर नहीं आ रही है. साफ है कि ईद-उल-अजहा (बकरीद) के लिए अभी तक कहीं जानवरों के बाजार नहीं लगते दिखाई दिए. जबकि हर साल लगभग 15-20 दिन पहले से ही बाजार सज जाते थे. हालांकि कई बार बकरा कारोबारी बाजार लगाने की इजाजत मांग चुके हैं, लेकिन सोशल डिस्‍टेंसिंग की धज्जियां उड़ने की वजह से संबंधित विभाग या फिर राज्‍य सरकारें मना कर देंती हैं. बकरीद का पर्व चांद दिखने के 10वें दिन मनाया जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज