निजामुद्दीन मरकज मामलाः घर से बाहर निकला मौलाना साद, अबू बकर मस्जिद में अदा की जुमे की नमाज

तबलीगी जमात का मुखिया मौलाना साद
तबलीगी जमात का मुखिया मौलाना साद

दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मूताबिक, तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) के प्रमुख मौलाना साद (Maulana Saad) ने आज दिल्‍ली के जाकिर नगर की अबू बकर मस्जिद में जुमे की नमाज अदा की.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. निजामुद्दीन स्थित मरकज में लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान तबलीगी जमात का आयोजन करवा चर्चा में आने वाला मौलाना साद (Maulana Saad) पहली बार घर से बाहर निकला. दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मूताबिक, तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) के प्रमुख ने आज दिल्‍ली के जाकिर नगर की अबू बकर मस्जिद में जुमे की नमाज अदा की. आपको बता दें कि लॉकडाउन में तबलीगी जमात का कार्यक्रम करने के कारण मौलाना पर एफआईआर दर्ज हुई थी और उसके बाद वह सेल्‍फ क्‍वारंटाइन में था. हालांकि मौलाना साद ने दिल्‍ली पुलिस की क्राइम ब्रांच को अभी तक अपनी कोरोनो टेस्‍ट रिपोर्ट नहीं सौंपी है.

मौलाना साद पर CBI भी कसने जा रही है शिकंजा
लॉकडाउन के दौरान तबलीगी जमात का आयोजन करवा चर्चा में आए मौलाना साद की मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं. प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग के बाद अब सीबीआई भी मौलाना साद पर शिकंजा कसने की तैयारी कर रही है. सीबीआई के अधिकारियों के अनुसार जांच के लिए दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने मरकज के मामले से जुड़ी मौलाना साद की सभी जानकारियां उनके साथ साझा की हैं. साथ ही हवाला कनेक्‍शन और विदेश से आने वाले रुपयों के बारे में भी अहम जानकारियां दी गई हैं.

ईडी ने दर्ज किया है मनी लॉड्रिंग का मामला
जबकि इससे पहले दिल्ली पुलिस ने प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग को भी मौलाना साद के खिलाफ काफी जानकारियां दी थीं. ईडी ने मौलाना साद और मरकज पर मनी लॉड्रिंग का भी मामला दर्ज कर रखा है. ऐसे में अब साफ है कि आने वाले दिनों में मौलाना साद की मुश्किलें कम होने की जगह तेजी से बढ़ेंगी क्योंकि ईडी, आईटी और अब सीबीआई ने मौलाना साद और मरकज की जांच शुरू कर दी है. आने वाले समय में सीबीआई भी मामला दर्ज कर सकती है.



एनआईए जांच की भी मांग
मौलाना साद के खिलाफ एनआईए जांच की भी मांग की गई है. इसको लेकर दिल्ली हाईकोर्ट में एक याचिका भी दायर है. इस याचिका पर गुरुवार को सुनवाई होनी थी लेकिन फिलहाल वह टल गई है. अब मामले की सुनवाई 18 जून को होगी. जानकारी के अनुसार मामले से जुड़े एक वकील का अन्य मामला सुप्रीम कोर्ट में आज लगा था, जिसके कारण वो हाई कोर्ट की सुनवाई में शामिल नहीं हो पाया और कोर्ट ने आगे की तारीख दे दी.

आतंकी गतिविधियों की आशंका
दिल्ली के निजामुद्दीन के मरकज में इस साल मार्च महीने में बड़ी सभा का आयोजन किया गया था. बताया जा रहा है कि नियमों का उल्लंघन यहां कोरोना फैलने की आंशका के बीच भी हजारों लोग इकट्ठा हुए, जिसके चलते देशभर में सैकड़ों लोगों में कोरोना का संक्रमण फैला. मरकज में शामिल होने वाले 20 देशों के 80 विदेशी नागरिकों के खिलाफ वीजा नियमों के उल्लंघन का मामला भी दर्ज किया गया है. मिली जानकारी के मुताबिक मरकज के मुखिया मौलाना साद पर आंतकी संगठनों से सांठगांठ व टेरर फंडिंग के आरोप लगे हैं. इसके चलते ही मामले की जांच एनआईए से कराने से संबंधित याचिका हाई कोर्ट में दाखिल की गई है. फिलहाल दिल्ली की क्राइम ब्रांच पुलिस मामले में जांच कर रही है.

ये भी पढ़ें :-

गंभीर का केजरीवाल सरकार पर तंज, कहा- CM नहीं लेंगे जिम्मेदारी, जरूरी हो तो...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज