कोवैक्सीन के परीक्षण के लिए दिल्ली AIIMS में बच्चों की जांच शुरू, रिपोर्ट आने के बाद लगाए जाएंगे टीके

नमें से पहली खुराक के 28वें दिन दूसरी खुराक दी जाएगी. (दिल्ली एम्स की फाइल फोटो)

नमें से पहली खुराक के 28वें दिन दूसरी खुराक दी जाएगी. (दिल्ली एम्स की फाइल फोटो)

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में सोमवार से दो वर्ष के बच्चे से 18 साल तक के किशोर की जांच शुरू की गई हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना वायरस संक्रमण (Corona Virus Infection) से बचाव के लिए स्वदेश में निर्मित कोवैक्सीन (covaccine) के टीके के बच्चों में परीक्षण के लिए जांच शुरू हो गई. यहां के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में सोमवार से दो वर्ष के बच्चे से 18 साल तक के किशोर की जांच शुरू की गई. वहीं, पटना स्थित एम्स में बच्चों में यह पता लगाने के लिए परीक्षण शुरू हो गया है कि क्या भारत बायोटेक के टीके बच्चों के लिए ठीक हैं ? जांच रिपोर्ट आने के बाद ही बच्चों को टीके लगाए जाएंगे. यह परीक्षण 525 स्वस्थ बच्चों पर किया जाएगा जिसके तहत बच्चों को टीके की दो खुराकें दी जाएगीं. इनमें से पहली खुराक के 28वें दिन दूसरी खुराक दी जाएगी.

एम्स के ‘सेंटर फॉर कम्युनिटी मेडिसिन’ के प्रोफेसर डॉ संजय राय ने कहा,‘‘ कोवैक्सीन के परीक्षण के लिए बच्चों की जांच शुरू कर दी गई है. और जांच रिपोर्ट आने के बाद ही बच्चों को टीके की खुराक दी जाएगी.’’ भारत के दवा नियामक ने कोवैक्सीन का दो साल के बच्चे से ले कर 18 साल की उम्र के किशोरों पर परीक्षण करने की मंजूरी 12 मई को दे दी थी. देश में टीकाकरण अभियान में वयस्कों को कोवैक्सीन के टीके लगाए जा रहे हैं.

Youtube Video

इस दौरान टीकाकरण की दूसरी डोज लेने के पात्र हैं
वहीं, कल खबर सामने आई थी कि दिल्ली सरकार ने रविवार को निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम को निर्देश दिया कि 18-44 साल आयु वर्ग में जून के महीने या अगले आदेश तक कोवैक्सीन सिर्फ सेकेंड डोज लेने वालों को लगाएं. दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) ने स्वास्थ्य और राजस्व विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों और जिलाधिकारियों से आदेश का पूरी तरह से पालन सुनिश्चित करने को कहा है. आदेश में कहा गया है कि डीडीएमए निर्देश देता है कि कोवैक्सिन के लिए कोविड टीकाकरण केंद्रों  के रूप में कार्य करने वाले सभी निजी अस्पताल और नर्सिंग होम यह सुनिश्चित करेंगे कि जून या अगले आदेश तक कोवैक्सिन का उपयोग केवल उन लोगों (18-44 वर्ष की आयु) के टीकाकरण के लिए किया जाएगा, जो इस दौरान टीकाकरण की दूसरी डोज लेने के पात्र हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज