अब इसलिए नहीं दिखाई दे रही हैं JNU छात्र नजीब को शहर-शहर सड़कों पर तलाशने वालीं उनकी मां फातिमा

जेएनयू के गायब छात्र नजीब की मां फातिमा. (फाइल फोटो)
जेएनयू के गायब छात्र नजीब की मां फातिमा. (फाइल फोटो)

जेएनयू (JNU) के छात्र नजीब के 4 साल पहले अचानक से लापता होने के बाद उनकी मां फातिमा नफीस उनकी तलाश में शहर की गलियों की खाक छानी. अब अस्‍वस्‍थ होने के कारण डॉक्‍टरों की सलाह पर वह ज्‍यादातर समय आराम करती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2020, 12:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बदायूं के वैद्यों का टोला में 5 लोगों का एक परिवार 4 साल पहले तक ठीक-ठाक रह रहा था. नजीब के पिता नफीस अहमद का फर्नीचर का कारोबार था. नजीब (Najeeb) जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में बॉयोटेक्नोलॉजी के छात्र थे. मंझला भाई मुजीब एमटेक (M.Tech) तो सबसे छोटा भाई हसीब भी पढ़ाई कर रहा था. जब नजीब जेएनयू से घर आता था तो परिवार चहक जाता था. लेकिन, 15 अक्टूबर 2016 को नजीब लापता क्या हुआ मानों इस घर की खुशियां ही चली गईं.

नजीब की तलाश में मां फातिमा नफीस ने शहर-शहर सड़कों की खाक छानी. दिन-रात सर्दी-गर्मी की परवाह न करते हुए कभी बस तो कभी ट्रेन से सफर किया. लेकिन, नजीब की तलाश का यह सफर चार साल बाद भी अधूरा ही है. नजीब का भाई हसीब बताते हैं कि नजीब की तलाश में उम्र को मात देने वाली मां फातिमा का अब ज़्यादातर वक्त बिस्तर पर ही बीतता है.

ये भी पढ़ें :- कोरोना पॉजिटिव के लिए प्लाज्मा चाहिए तो इस जेल में लगाइए फोन



JNU student, najeeb, CBI, Delhi Police, corona, जेएनयू छात्र, नजीब, सीबीआई, दिल्ली पुलिस कोरोना
File Photo.

शुगर, ब्लड प्रेशर, जोड़ों के दर्द और उससे भी ज़्यादा नजीब के न मिलने के गम ने मां फातिमा को कमजोर कर दिया है. डॉक्टरों की सलाह पर अब वक्त आराम करते हुए कटता है. लेकिन, बीते चार साल में शहरों को नापने वालीं नजीब की मां को आराम भी खलता है. उन्हें लगता है कि आराम के चक्कर में वह नजीब को तलाशने वाले वक्त को बर्बाद कर रही हैं. कभी-कभी उन्हें हूक उठती है कि वह नजीब को तलाश करने जाएंगी. लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए परिजन उन्हें कहीं लेकर नहीं जाते हैं. घर में ही वो थोड़ा बहुत चल-फिर लेती हैं. पिता नफीस भी घर पर ही रहकर आराम करते हैं.

गौरतलब रहे कि 15 अक्टूबर 2016 को नजीब जेएनयू के हॉस्टल से गायब हो गया था. तब से लगातार नजीब की मां के साथ ही देश की तीन बड़ी एजेंसियां दिल्ली पुलिस, एसआईटी और सीबीआई भी नजीब को तलाश कर चुकी हैं, लेकिन अभी तक उनकी कोई खबर नहीं मिली है.

नजीब की मां फातिमा नफीस का कहना है, 'बेशक बीमारियों ने मुझे घेरा हुआ है, लेकिन अभी मैंने हिम्मत नहीं हारी है. आज भी घर में बैठे-बैठे सभी वकीलों से बात करती हूं. केस का स्टेटस जानती हूं. जगह-जगह दूसरे शहरों में जो हमारे हमदर्द हैं और नजीब को तलाशने में हमेशा हमारी मदद की उन्हें भी फोन करती हूं कि वो अपनी कोशिशें जारी रखें.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज