लाइव टीवी

निजामुद्दीन इलाके में लगे सभी सफाईकर्मी क्‍वारेंटाइन, कूड़ा बीनने वालों की भी होगी जांच
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: April 6, 2020, 1:58 PM IST
निजामुद्दीन इलाके में लगे सभी सफाईकर्मी क्‍वारेंटाइन, कूड़ा बीनने वालों की भी होगी जांच
निजामुद्दीन बस्ती में मौजूद सभी कूड़ा बीनने वालों की भी जांच की जा रही है. (सांकेतिक फोटो)

निजामुद्दीन बस्ती सहित पूरे इलाके को सेनेटाइज (Sanitize) करने का काम जोरों पर है. इसके लिए फायर ब्रिगेड की गाड़ियों से डिसइंफेक्टेंट का छिड़काव किया जा रहा है. साथ ही ड्रोन की मदद से भी सोडियम हाइपोक्लोराइट सॉल्यूशन का छिड़काव बस्ती में किया जा रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. निजामुद्दीन (Nizamuddin) इलाके में आयोजित हुए तब्लीगी जमात के धार्मिक आयोजन मरकज के बाद सख्त कदम उठाए जा रहे हैं. जमात के लोगों के जरिए तेजी से फैले कोरोना वायरस के (Coronavirus) संक्रमण के मामलों को लेकर अब सरकार के साथ ही एनडीएमसी भी गंभीर हो गई है. यही वजह है कि इलाके में तैनात सभी सफाईकर्मियों को क्वारेंटाइन कर दिया गया है. वहीं निजामुद्दीन बस्ती में मौजूद सभी कूड़ा बीनने वालों की भी जांच की जा रही है. साथ ही इलाके को सेनेटाइज करने का भी काम शुरू कर दिया गया है. इसके लिए ड्रोन से लेकर फायर ब्रिगेड तक की मदद ली जा रही है.

सेनेटाइज किया जा रहा निजामुद्दीन इलाका

निजामुद्दीन बस्ती सहित पूरा इलाके को सेनेटाइज करने का काम जोरों पर है. इसके लिए फायर ब्रिगेड की गाड़ियों से डिसइंफेक्टेंट का छिड़काव किया जा रहा है. साथ ही ड्रोन की मदद से भी सोडियम हाइपोक्लोराइट सॉल्यूशन का छिड़काव बस्ती में किया जा रहा है. ड्रोन से एक बार में पांच लीटर सोडियम हाइपोक्लोराइट का छिड़काव हो रहा है. वहीं ड्रोन के जरिए सेनेटाइजेशन के काम की मॉनिटरिंग भी की जा रही है.



दिलशाद गार्डन में 1600 फ्लैट्स किए चिह्नित



इधर, दिलशाद गार्डन में भी एनडीएमसी ने सेनेटाइजेशन का काम शुरू कर दिया है. यहां पर 9000 लीटर डिसइंफेक्टेंट का छिड़काव किया जा रहा है. इस काम में 100 से ज्‍यादा कर्मचारी लगे हैं. साथ ही यहां पर 1600 फ्लैट्स को चिह्नित किया गया है और उनमें रहने वाले लोगों को होम-क्वारेंटाइन कर दिया गया है.

मरकज के आयोजन के बाद तेजी से फैला कोरोना संक्रमण

गौरतलब है कि तब्लीगी समाज के धार्मिक आयोजन के बाद देशभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है. इस आयोजन में देश के साथ ही दुनियाभर से आए तब्लीगी जमात के लोगों ने हिस्सा लिया और उसके बाद वे देशभर में फैल गए. लॉकडाउन के बावजूद जमात के कार्यक्रम का आयोजन किया गया. उल्लेखनीय है कि इस आयोजन के बाद देशभर में मिले कोरोना के मरीजों में 30 प्रतिशत ऐसे थे, जो मरकज में हिस्सा लेकर आए थे.

ये भी पढ़ेंः मरकज करवाने की जिद पर अड़ा था मौलाना साद, अब लाखों की जान पर बनी
First published: April 6, 2020, 1:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading