Home /News /delhi-ncr /

the relentless heat resulted in delhi recording a peak power demand of 7 070 mw mark on 19 may 2022 nodvm

Power Demand: दिल्ली में गर्मी ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, बिजली की मांग 7000 मेगावाट के पहुंची पार

दिल्ली में गर्मी ने अपने सारा रिकॉर्ड तोड़ दिया है. इसी वजह से यहां गुरुवार की रात को 7,070 मेगावाट बिजली की  सर्वाधिक मांग दर्ज की गई.

दिल्ली में गर्मी ने अपने सारा रिकॉर्ड तोड़ दिया है. इसी वजह से यहां गुरुवार की रात को 7,070 मेगावाट बिजली की सर्वाधिक मांग दर्ज की गई.

Delhi Power Demand News: दिल्ली में गर्मी ने अपने सारा रिकॉर्ड तोड़ दिया है. इसी वजह से यहां गुरुवार की रात को 7,070 मेगावाट बिजली की सर्वाधिक मांग दर्ज की गई. यह मांग इस साल ही नहीं बल्कि मई के महीने में भी सबसे अधिक है. बता दें कि 12 मई को राष्ट्रीय राजधानी में 6,780 मेगावाट बिजली की सबसे अधिक मांग दर्ज की गई थी. वहीं दिल्ली में अब तक की सबसे अधिक बिजली मांग 7,409 मेगावाट दर्ज की गई है, जो 2019 में दर्ज की गई थी.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली में भयंकर गर्मी ने लोगों का जीना बेहाल किया हुआ है. दिल्ली में गर्मी ने अपने सारा रिकॉर्ड तोड़ दिया है. इसी वजह से यहां गुरुवार की रात को 7,070 मेगावाट बिजली की  सर्वाधिक मांग दर्ज की गई. यह मांग इस साल ही नहीं बल्कि मई के महीने में भी सबसे अधिक है. बता दें कि 12 मई को राष्ट्रीय राजधानी में 6,780 मेगावाट बिजली की सबसे अधिक मांग दर्ज की गई थी. वहीं दिल्ली में अब तक की सबसे अधिक बिजली मांग  7,409 मेगावाट दर्ज की गई है, जो 2019 में दर्ज की गई थी.

हालांकि इस साल गर्मी में दिल्ली की सबसे अधिक बिजली की मांग पहली बार 8,000 मेगावाट को पार कर सकती है और यहां तक ​​कि 8,200 मेगावाट तक पहुंचने की संभावना है. 31 मई, 2019 को मई के महीने में बिजली की उच्च मांग  6,461 मेगावाट दर्ज की गई थी. इस महीने में दिल्ली में अधिकांश दिनों में 6,000 मेगावाट से अधिक बिजली की मांग देखी गई है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली की अधिकतम बिजली की मांग 2021 और 2020 में मई के महीने में 6,000 मेगावाट को पार नहीं कर पाई थी. इससे पहले 31 मई 2019 को दिल्ली में बिजली की मांग 6,461 मेगावाट दर्ज की गयी थी. वहीं  2021, 2020 और 2019 में मई के महीने में हर दिन बिजली की मांग इस दिन की तुलना में अधिक रही है.

बिजली विभाग अधिकारियों ने कहा कि शहर में बिजली भार अधिकतर एयर कंडीशनर, कूलर और पंखे से आता है. अगर पिछले कुछ सालों में दिल्ली की बढ़ती मांग के आंकड़ों को देखा जाए तो, दिल्ली में साल 2021 में 4,420 मेगावाट, 2020 में 3,522 मेगावाट और मई के पहले सप्ताह में 2019 में 5,808 मेगावाट बिजली की मांग दर्ज की गई.

उपभोक्ता की मांग पर ही दी जाएगी ब‍िजली पर सब्‍स‍िडी

दिल्ली के उपभोक्ता 400 यूनिट तक बिजली की मासिक खपत पर दिल्ली सरकार द्वारा दी जाने वाली बिजली सब्सिडी लेने या नहीं लेने का विकल्प ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों से चुन सकेंगे. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पिछले हफ्ते घोषणा की थी कि जब उपभोक्ता मांगेंगे, तब ही उन्हें बिजली की सब्सिडी दी जाएगी.

केजरीवाल ने कहा था कि आर्थिक रूप से सक्षम उपभोक्ताओं को सब्सिडी योजना से बाहर रखने की अनुमति देने का निर्णय सरकार ने लोगों से सुझाव मिलने के बाद लिया था ताकि इससे हुई बचत को विद्यालयों और अस्पतालों के निर्माण पर खर्च किया जा सकता है.

Tags: Delhi news, Electricity

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर