Kisan Andolan: गाजीपुर बॉर्डर पर आत्महत्या करने वाले किसान का सुसाइट नोट- यहीं कर देना अंतिम संस्कार

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से किसी ने भी बलिदान नहीं दिया. (सांकेतिक तस्वीर)

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से किसी ने भी बलिदान नहीं दिया. (सांकेतिक तस्वीर)

Kisan Andolan: भारतीय किसान यूनियन (BKU) के एक नेता के अनुसार, सिंह ने सुसाइट नोट (Suicide note) में लिखा कि सरकार को कृषि कानूनों को अवश्य ही वापस लेना चाहिए, क्योंकि ये किसानों के हितों के खिलाफ हैं.

  • Share this:

गाजियाबाद. गाजीपुर (Ghazipur) में उत्तर प्रदेश-दिल्ली सीमा पर केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे 75 साल के एक किसान ने शनिवार सुबह को कथित रूप से फांसी (Hanging) लगा ली. पुलिस ने बताया कि उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले में बिलासपुर निवासी किसान सरदार कश्मीर सिंह ने सचल शौचालय में रस्सी से फांसी लगा ली. इंदिरापुरम के पुलिस अधीक्षक अंशु जैन (Anshu Jain) ने बताया कि उनके पास से एक सुसाइड नोट मिला है जो गुरुमुखी में लिखा गया है.

भारतीय किसान यूनियन के एक नेता के अनुसार, सिंह ने सुसाइट नोट में लिखा कि सरकार को कृषि कानूनों को अवश्य ही वापस लेना चाहिए, क्योंकि ये किसानों के हितों के खिलाफ हैं. बीकेयू और कई अन्य किसान संगठन एक महीने से अधिक समय से दिल्ली की सीमाओं पर इन कानूनों के खिलाफ आंदोलन चला रहे हैं. कथित सुसाइट नोट में सिंह ने इस बात पर क्षोभ प्रकट किया कि इस आंदोलन के दौरान पंजाब के कई लोग मर गये, जबकि अन्य राज्यों से किसी ने भी बलिदान नहीं दिया.

10-10 लाख रुपए मुआवजा देने की मांग

उन्होंने सिख समुदाय से उनके परिवार को उनकी दो पोतियों की शादी कराने में मदद करने और उनकी शादीशुदा बेटी की घरेलू समस्याओं का समाधान करने का अनुरोध भी किया है. जैन ने बताया कि सिंह का शव उनके पौत्रों को सौंप दिया गया. बीकेयू प्रवक्ता राकेश टिकैत ने उनकी मृत्यु पर शोक प्रकट किया. उन्होंने सरकार से कश्मीर सिंह और शुक्रवार को दिल का दौरा पड़ने से मर गये किसान के परिवारों को 10-10 लाख रुपए की अनुग्रह राशि देने की मांग की.
पुलिस के पास है सुसाइड नोट

जानकारी के मुताबिक, सुसाइट नोट में लिखा है कि कब तक हम सर्दी में बैठेंगे, यह सरकार सुन नहीं रही, इसलिए जान दे रहा हूं ताकि कोई हल निकल सके. मेरा अंतिम संस्कार यहीं कर देना. साथ ही कथित सुसाइड नोट में यह भी लिखा है कि उनका अंतिम संस्कार प्रदर्शनस्थल पर उनके पोते ही करेंगे. फिलहाल यह सुसाइड नोट पुलिस के पास ही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज