देशभर में जारी लॉकडाउन के दौरान बढ़ा है ‘वेडिंग फ्रॉम होम’ का चलन
Delhi-Ncr News in Hindi

देशभर में जारी लॉकडाउन के दौरान बढ़ा है ‘वेडिंग फ्रॉम होम’ का चलन
लॉकडाउन में लोग घर पर ही शादी कर रहे हैं.

अविनाश ने कहा, ‘‘हमने पहले ही इस अप्रैल में शादी करने का इरादा कर लिया था चाहे वह कैसे भी हो. इसलिए जब हमने ऑनलाइन शादी करने का फैसला किया तो दूसरी बार सोचा तक नहीं.’’ दंपति ने बताया कि शुरुआत में उनके माता-पिता हिचकिचा रहे थे लेकिन उन्होंने उन्हें आश्वस्त किया कि कोई भी रीति-रिवाज छोड़ा नहीं जाएगा. तब उनके माता-पिता राजी हो गए.

  • Share this:
नई दिल्ली. एक मशहूर कहावत है ‘जब मियां-बीवी राजी, तो क्या करेगा काजी’. यह कहावत अविनाश और कीर्ति पर फिट बैठती है क्योंकि जब दोनों ने परिणय सूत्र में बंधने का फैसला किया तो देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) भी उन्हें रोक नहीं सका.

अविनाश और कीर्ति साढ़े तीन साल से एक-दूसरे को जानते हैं और उन्होंने शुरुआत में मध्य प्रदेश के सतना में शाहीअंदाज में शादी करने की योजना बनाई थी, जिसमें 8000 से अधिक मेहमानों को बुलाने की योजना थी. जब देशव्यापी बंद ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेरा तो दोनों ने डिजीटल माध्यम से शादी करने का फैसला किया.

शादी में 10 देशों के 200 से अधिक लोग शरीक हुए
उनकी शादी गाजियाबाद में वीडियो कॉल के जरिए हुई.जबकि मुंबई में एक पुजारी ने अपने घर में शादी को विधिपूर्वक संपन्न कराया. मेहमानों ने दंपत्ति को अपने-अपने घरों से ऑनलाइन आशीर्वाद दिया. अविनाश ने कहा, ‘हमने पहले ही इस अप्रैल में शादी करने का इरादा कर लिया था चाहे वह कैसे भी हो. इसलिए जब हमने ऑनलाइन शादी करने का फैसला किया तो दूसरी बार सोचा तक नहीं.’
दंपत्ति ने बताया कि शुरुआत में उनके माता-पिता हिचकिचा रहे थे लेकिन उन्होंने उन्हें आश्वस्त किया कि कोई भी रीति-रिवाज छोड़ा नहीं जाएगा. तब उनके माता-पिता राजी हो गए. इस शादी में 10 देशों के 200 से अधिक लोगों ने भाग लिया. समारोह के बाद मेहमानों को मिठाइयां और भोजन देने के लिए उनके घरों पर फूड डिलीवर किया गया.



भारत में शादी बड़ा समारोह होती है, जिसमें आमतौर पर माता-पिता बढ़ चढ़कर खर्च करते हैं. सैकड़ों मेहमानों को आमंत्रित किया जाता है और कई दिनों तक जश्न समारोह चलते हैं. पिछले साल एक-दूसरे से ऑनलाइन मिलने वाले सुशेन और कीर्ति दुनिया को यह साबित करना चाहते हैं कि प्यार कोई सीमा नहीं जानता. दोनों ने अप्रैल में जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान में ‘डेस्टीनेशन वेडिंग’ करने की योजना बनाई थी, लेकिन बंद के चलते अपनी योजना बदलनी पड़ी.

ई-निमंत्रण पत्र भेजा
उन्होंने मेहमानों को ई-निमंत्रण पत्र भेजा. सुशेन ने कहा, ‘हमारे दोस्तों और रिश्तेदारों ने संगीत समारोह के लिए ऑनलाइन कई प्रस्तुतियां तैयार कीं. आखिरकार हमें एक ‘पंडितजी’ मिले, जिन्होंने 100 से अधिक मेहमानों के सामने सभी रस्में अदा कराईं.’ उनके दोस्तों के अलावा ऑनलाइन की गई इस शादी के लाइव टेलीकास्ट को 16,000 से अधिक लोगों ने देखा. सुशेन अब बंद खत्म होने का इंतजार कर रहे हैं ताकि कीर्ति मुंबई में उसके साथ आकर रहने लगे और दोनों एक नए सफर की शुरुआत करें.

इन्हें भी पढ़ें

LG अनिल बैजल का निर्देश- सील किए गए इलाके में माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित हों

COVID-19: CRPF के 12 और जवान निकले कोरोना पॉजिटिव, सरकार ने दिया ये आदेश
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज