लाइव टीवी

मनोज तिवारी की जगह दिल्ली BJP अध्यक्ष पद की रेस में ये नेता सबसे आगे!
Delhi-Ncr News in Hindi

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: February 24, 2020, 7:51 PM IST
मनोज तिवारी की जगह दिल्ली BJP अध्यक्ष पद की रेस में ये नेता सबसे आगे!
दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में करारी हार के बाद बीजेपी आलाकमान ने नए प्रदेश अध्यक्ष की तलाश शुरू कर दी है.

दिल्ली बीजेपी (Delhi BJP) अध्यक्ष का कार्यकाल तीन साल का होता है और मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) अध्यक्ष पद पर यह अवधि पूरी कर चुके हैं. बीजेपी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव को देखते हुए ही पिछले दिनों ही तिवारी का कार्यकाल बढ़ा दिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2020, 7:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 (Delhi Assembly Election 2020) में करारी हार के बाद बीजेपी (BJP) आलाकमान ने नए प्रदेश अध्यक्ष की तलाश शुरू कर दी है. बीजेपी सूत्रों का कहना है कि मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) की जगह अब किसी नए चेहरे को मौका दिया जाएगा. खबर ये भी है कि बीजेपी के खराब प्रदर्शन के बाद प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने इस्तीफे की पेशकश की है. हालांकि, बीजेपी आलाकमान ने मनोज तिवारी को फिलहाल पद पर बने रहने के लिए कहा है. दिल्ली बीजेपी के लिए नए अध्यक्ष की तलाश शुरू हो गई है. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के लिए जिन नामों की चर्चा जोर-शोर से चल रही है, उसमें सबसे पहला नाम पश्चिमी दिल्ली के सांसद परवेश साहिब सिंह वर्मा का है. परवेश वर्मा ने युवा होने के साथ-साथ पार्टी के अंदर हर वर्ग में अपनी पैठ भी बनाई है. विधानसभा चुनाव से ठीक पहले देश के गृह मंत्री और पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह परवेश वर्मा की तारीफ कर चुके हैं.

प्रदेश अध्यक्ष की रेस में कौन सबसे आगे
दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष का कार्यकाल तीन साल का होता है और मनोज तिवारी अध्यक्ष पद पर यह अवधि पूरी कर चुके हैं. बीजेपी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव को देखते हुए ही पिछले दिनों ही तिवारी का कार्यकाल बढ़ा दिया था, लेकिन दिल्ली विधानसभा चुनाव में पार्टी के निराशजनक प्रदर्शन के बाद अब उनका विकल्प तलाशा जा रहा है. मनोज तिवारी के विकल्प के तौर पर कई नाम सामने आ रहे हैं.

विजेंद्र गुप्ता का भी

दिल्ली बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष और रोहिणी विधानसभा सीट से लगातार दूसरी बार चुनाव जीतने वाले विजेंद्र गुप्ता का भी नाम प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर लिया जा रहा है. हालांकि विजेंद्र गुप्ता की उम्र और उनका पहला कार्यकाल उनको नई जिम्मेदारी के बीच में रोड़ा अटका सकता है. दिल्ली बीजेपी के कद्दावर नेता और राजस्थान से राज्यसभा सांसद विजय गोयल का नाम भी दिल्ली बीजेपी के मुखिया के तौर पर लिया जा रहा है. लेकिन गोयल भी दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष रह चुके हैं. ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर किसको दिल्ली बीजेपी की कमान सौंपने का मन बनाया गया है?

रमेश बिधूड़ी और गौतम गंभीर भी रेस में
पार्टी सूत्रों का कहना है कि इस बार आलाकमान वैसे नेता को पार्टी की कमान सौंप सकती है, जो युवा हो और साथ ही जिसकी हर वर्ग में स्वीकार्यता हो. परवेश वर्मा के साथ-साथ दक्षिणी दिल्ली के बीजेपी सांसद रमेश बिधूड़ी और पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर का नाम भी लिया जा रहा है. वहीं पार्टी के कुछ लोगों का मानना है कि प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी पर इस बार एक महिला को बैठाने को लेकर जोर-शोर से कयास लगाए जा रहे हैं. प्रदेश बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि एक तेजतर्रार महिला को भी कमान सौंपी जा सकती है. ऐसे में अगर किसी महिला को बीजेपी की कमान सौंपने की बात होगी तो उसमें मीनाक्षी लेखी का नाम भी सबसे ऊपर होगा, क्योंकि वह नई दिल्ली संसदीय सीट से सांसद होने के साथ-साथ अच्छी वक्ता भी हैं.बता दें कि मनोज तिवारी के नेतृत्व में बीजेपी ने 2017 के एमसीडी चुनाव और 2019 के लोकसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन किया था, लेकिन दिल्ली विधानसभा चुनाव में उनके नेतृत्व में शर्मनाक हार हुई. बीजेपी सूत्रों की मानें तो आलाकमान ने दिल्ली विधानसभा में करारी हार के बाद दिल्ली बीजेपी की पूरी टीम बदलने का मन बना लिया है. बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि कम से कम 15-20 सीट ऐसी थीं, जिसे बीजेपी आसानी से जीत सकती थी. लेकिन, बाहरी उम्मीदवार उतारने के फैसले के कारण बीजेपी के स्थानीय कार्यकर्ताओं का साथ नहीं मिला.

दिल्ली चुनाव में करारी हार के बाद मनोज तिवारी ने कहा था कि मैंने जो कहा था उसका आधार था. हम लोग 48 विधानसभा सीट जीतने की उम्मीद कर रहे थे क्योंकि वहां पर सड़कों की स्थिति काफी बुरी थी. पानी और स्कूल के बारे में लोग अरविंद केजरीवाल की शिकायत करते नहीं थकते थे. इस आधार पर हमने कल्पना की थी कि इन इलाकों में बीजेपी उम्मीदवार की जीत हो सकती है.

ये भी पढ़ें: 

Delhi Election Result 2020: जानिए- किस सीट पर दर्ज हुई सबसे बड़ी जीत तो कहां मिली सबसे कम वोटों से हार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 24, 2020, 7:00 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर