लाइव टीवी

दिल्ली-NCR में वायु प्रदूषण की समस्या को लेकर स्टैंडिंग कमिटी की आज तीसरी बैठक

News18Hindi
Updated: December 5, 2019, 8:07 AM IST
दिल्ली-NCR में वायु प्रदूषण की समस्या को लेकर स्टैंडिंग कमिटी की आज तीसरी बैठक
दिल्ली प्रदूषण को लेकर स्टैंडिंग कमेटी की बैठक आज होने वाली है. (फाइल फोटो)

गुरुवार को इस मसले पर होने वाली तीसरी बैठक के लिए स्थायी समिति ने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक समेत कई और विशेषज्ञों को बुलाया है, जो स्वास्थ्य पर प्रदूषण के प्रभावों का ब्योरा समिति के सामने प्रस्तुत करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 5, 2019, 8:07 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली और एनसीआर (Delhi-NCR) में वायु प्रदूषण (Air Pollution) को रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) सख्त है. कोर्ट ने केंद्र सरकार को इस समस्या का समाधान खोजने का निर्देश दिया था. इसके बाद से समस्या को लेकर केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय की संसदीय स्थायी समिति दो बार बैठक कर चुकी है. गुरुवार को मामले में तीसरी बैठक होने वाली है. इस बार स्थायी समिति ने बैठक में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक समेत कई और विशेषज्ञों को बुलाया है, जो स्वास्थ्य पर प्रदूषण के प्रभावों का ब्योरा समिति के सामने प्रस्तुत करेंगे. बता दें कि इससे पहले 15 और 20 नवंबर को स्थायी समिति की बैठक बुलाई गई थी.

पहली बैठक में नहीं पहुंचे थे अधिकारी और सदस्य
पंद्रह नवंबर को संसदीय कमेटी की पहली बैठक को अचानक स्‍थगित करना पड़ा था, क्योंकि इस बैठक में सांसद और अधिकारी नहीं पहुंचे थे. संसदीय समिति के 29 सांसद सदस्य हैं लेकिन बैठक के लिए सिर्फ चार सांसद ही पहुंचे थे. वहीं दिल्ली नगर निगम (MCD) के तीनों कमिश्नर, डीडीए (DDA) के वाइस चेयरमैन और पर्यावरण मंत्रालय के संयुक्त सचिव भी इस बैठक में नहीं पहुंचे थे. इसके बाद शहरी विकास मंत्रालय की कमेटी ने अधिकारियों के इस रुख को लेकर नाराजगी भी जताई थी.

दिल्ली-NCR में प्रदूषण से निपटने पर होगी चर्चा

इस बैठक में दिल्ली-एनसीआर में फैल रहे प्रदूषण के बारे में चर्चा होगी. दिल्ली में वाहनों की लगातार बढ़ती संख्या, निर्माण कार्यों के चलते उड़ने वाली धूल, कूड़ा निस्तारण की समस्या, फैक्ट्रियों का धुआं आदि कारणों के चलते दिल्ली में प्रदूषण का स्तर लगातार खतरनाक स्तर पर बना हुआ है. ऐसे में किन्हीं ऐसे उपाय खोजने होंगे, जिससे यहां रहने वाले लोगों को समस्या से स्थायी हल मिल सके.

प्रदूषण से घटने लगी लोगों की उम्र
दिल्ली के नेता और अधिकारी यहां पर प्रदूषण के लिए पड़ोसी राज्यों हरियाणा और पंजाब में पराली जलाने को इसकी वजह मानते हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि दिल्ली में प्रदूषण के कारण लोगों की उम्र कम हो रही है, जो चिंता का विषय है. दिल्ली में बढ़ते वाहनों की संख्या, गंदगी, धूल, उचित सफाई का अभाव, कूड़ा निस्तारण और औद्योगिक गतिविधियों के चलते प्रदूषण का स्तर घातक हो गया है.सभी उपाय नाकाम हो रहे साबित
दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण से निपटने के सारे के सारे उपाय नाकाम साबित हो रहे हैं. दिल्ली से होकर आने-जाने वाले भारी वाहनों के लिए ईस्टर्न पेरिफेरल सड़कें बना दी गई हैं. वाहनों की संख्या घटाने के लिए ऑड-इवेन प्रणाली शुरू की गई है. इसके बाद भी दिल्ली में प्रदूषण की समस्या जस की तस बनी हुई है.


ये भी पढ़ें- 106 दिन बाद जेल से बाहर आए चिदंबरम, सोनिया गांधी से मिलने पहुंचे दस जनपथ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 5, 2019, 5:13 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर