जरूरतमंदों की मदद को इस निगम ने खड़ी की 'नेकी की दीवार', Free में ले जा सकेंगे सामान!

नेकी की दीवार को भारत के आध्यात्मिक, पौराणिक व महान व्यक्तियों के चित्रों से सजाया गया है.

नेकी की दीवार को भारत के आध्यात्मिक, पौराणिक व महान व्यक्तियों के चित्रों से सजाया गया है.

उत्तरी दिल्ली नगर निगम (NDMC) ने 26 जनवरी, 2021 को पहली नेकी की दीवार का उद्घाटन एक पुराने ढ़लाव घर को पुनर्निर्मित कर के पूसा गोलचक्कर पर किया था. अब तक लगभग 2000 कपड़े वहां प्राप्त हुए और वितरित किए गए है. क्षेत्र के जरूरतमंद लोगों को कपड़े और अन्य सामान उपलब्ध कराने के लिए गूंज और चिंतन गैर सरकारी संगठनों के साथ समन्वय किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 12, 2021, 1:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नॉर्थ दिल्ली नगर निगम (North MCD) के आयुक्त संजय गोयल ने पंचकुइया रोड श्मशान घाट के सामने तीसरी नेकी की दीवार (Wall of Kindness) का उद्घाटन किया. नेकी की दीवार को भारत के आध्यात्मिक, पौराणिक व महान व्यक्तियों के चित्रों से सजाया गया है.

नॉर्थ दिल्ली नगर निगम (NDMC) ने 26 जनवरी, 2021 को पहली नेकी की दीवार का उद्घाटन एक पुराने ढ़लाव घर को पुनर्निर्मित कर के पूसा गोलचक्कर पर किया था. अब तक लगभग 2000 कपड़े वहां प्राप्त हुए और वितरित किए गए है. क्षेत्र के जरूरतमंद लोगों को कपड़े और अन्य सामान उपलब्ध कराने के लिए गूंज और चिंतन गैर सरकारी संगठनों के साथ समन्वय किया गया है.

आयुक्त संजय गोयल (Commissioner Sanjay Goel) ने कहा कि नेकी की दीवार को तीन सिद्धांतों पर विकसित किया गया है वो है कम करें, पुनःचक्रित करे और पुन: उपयोग करें. इसका उद्देश्य लैंडफिल साइटों पर त्याग की गई वस्तुओं की संख्या को कम करना और स्रोत पर अलगाव को बढ़ावा देने है. उन्होंने कहा कि लोग अपनी पुरानी वस्तुओं को नेकी की दीवार पर दान कर सकते हैं और जरूरतमंद उन्हें मुफ्त में यहां से ले सकते हैं.

उपायुक्त करोल बाग क्षेत्र हिमांशु गुप्ता ने कहा कि दीवार को आध्यात्मिक व्यक्तियों के चित्रों द्वारा सजाया गया है जैसे की राजा राम मोहन राय, स्वामी दयानंद सरस्वती, मीरा बाई, सावित्री बाई फुले, शंकराचार्य, स्वामी विवेकानंद आदि शामिल हैं. ये चित्र राहगीरों को भारतीय समाज के विकास में इन विचारकों के योगदान को याद दिलाने में मदद करेंगे.
चित्रों को दिल्ली स्ट्रीट आर्ट ग्रुप द्वारा विकसित किया गया है. एक ढ़लाव पर पर 3-डी पेंटिंग में बाज पक्षी को दर्शाया गया है जिसके पंखों को प्लास्टिक की बोतल से सजाया गया है, जो प्रकृति पर प्लास्टिक के प्रभाव का संदेश देता है.

क्षेत्रीय पार्षद बबीता भारीजा ने निगम द्वारा किए गए कार्य की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस पहल को अन्य क्षेत्रों में भी दोहराया जाएगा.

नॉर्थ निगम ने स्रोत से ही कूड़े के अलगाव को बढ़ावा देने और लैंडफिल साइट पर प्लास्टिक को कम करने के उद्देश्य से करोल बाग क्षेत्र में 25 गारबेज कैफे (Garbage Cafés) के नाम से योजना भी शुरू की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज