तुलसी का पौधा बनकर आपकी सेहत का ख्‍याल रखेगी यह खास ‘राखी’
Delhi-Ncr News in Hindi

तुलसी का पौधा बनकर आपकी सेहत का ख्‍याल रखेगी यह खास ‘राखी’
रक्षाबंधन के लिए खास इको फ्रेंडली राखियां तैयार की जा रही हैं.

दिल्‍ली की कुछ महिलाएं मिट्टी की राखियां (Rakhi) बना रही हैं, जिसमें तुलसी का बीज (basil seeds) डाला गया है. यह राखी पर्यावरण (environment) के लिए तो अच्छा हैं ही, साथ ही पूरी तरीके से इको फ्रेंडली (Eco Friendly) भी हैं.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोविड-19 (COVID-19) से जारी जंग के बीच रक्षाबंधन (Rakshabandhan) का त्‍यौहार आने वाला है. चूंकि, इस समय सभी को अपनी सेहत की सबसे ज्‍यादा चिंता है, लिहाजा इस बार आपकी इस चिंता का ख्‍याल राखी (Rakhi) बनाने में भी रखा गया है. जी हां, इस बार आपके लिए कुछ ऐसी खास राखियां तैयार की जा रही है, जिनको रक्षाबंधन के दिन बहनें अपने भाइयों के हाथ में बांध कर रश्‍म पूरी करेंगी और बाद में यही राखी पौधा (Plant) बनकर आपकी सेहत (Health) का ध्‍यान रखेगी. दरअसल, दिल्ली के सफदरजंग में रहने वाली कुछ महिलाएं मिट्टी की राखियां बना रही हैं, जिसमें तुलसी का बीज डाला गया है. यह राखी पर्यावरण (Environment) के लिए तो अच्छा हैं ही, साथ ही पूरी तरीके से इको फ्रेंडली (Eco Friendly) भी हैं.

आत्‍मनिर्भर महिलाएं चीन को सिखाना चाहती हैं सबक
मिट्टी की राखी बनाने वाली सारिका गुप्‍ता का कहना है कि भले ही चीन में राखी का त्‍यौहार नहीं मनाया जाता हो, लेकिन रक्षाबंधन से पहले भारत के बाजार चीन में बनी राखियों से पट जाते थे. बीते कुछ समय के दौरान, भारत को लेकर चीन का रुख देखने के बाद हमने यह फैसला किया कि इस बार हम स्‍वदेशी राखियां ही अपने भाइयों की कलाइयों में बांधेंगे. इसी सोच के तहत, हमने घर में मिट्टी के राखियों को बनाने और सिखाने का काम शुरू क‍िया है. सारिका गुप्‍ता ने बताया कि उनके द्वारा बनाई जा रही मिट्टी की राखियों में मौली, मोती और तुलसी के बीज का इस्‍तेमाल किया गया है. यह राखी पर्यावरण के लिए भी ठीक है और बेहद सस्ती भी है. इसके साथ ही, तुलसी कोरोना जैसी बीमारी से बचाने में सहायक भी होगी.

सेवा भारती में बनाए जा रहे हैं कोविड से बचाने वाले गिफ्ट पैक
जहां बहनों ने स्वदेशी राखी बनाने का काम शुरू किया है, वहीं सेवा भारती में दिल्ली के स्लम एरिया में रहने वाली महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने और रोजगार का जरिया उपलब्ध कराने के लिए गिफ्ट पैक भी बनाए जा रहे हैं. सेवा भारती की वृंदा ने बताया कि रक्षाबंधन के त्यौहार पर भाई को देने के लिए हमने गिफ्ट पैक बनाए हैं, जिसमें मास्क सैनिटाइजर बूस्टर मखाने और स्वदेशी राखियां रखी है. इस गिफ्ट की कीमत 200, 150 और ₹100 के बीच है, जो भाई की कोरोनावायरस ने में मदद भी करेगा और पूरी तरीके से महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए भी कारगर साबित हो रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading