Assembly Banner 2021

26 January Violence: दिल्ली हिंसा मामले में 3 और गिरफ्तार, बुराड़ी और लाल किला बवाल में थे शामिल

हिंसा के बाद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली पुलिस को आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के आदेश दिए थे. (फाइल फोटो: AP)

हिंसा के बाद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली पुलिस को आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के आदेश दिए थे. (फाइल फोटो: AP)

Delhi violence case: 26 जनवरी को दिल्ली में हुई हिंसा में के मामले में दिल्ली पुलिस ने तीन और गिरफ्तारियां की हैं. ये तीनों आरोपी बुराडी हिंसा और लाल किला हिंसा में शामिल बताए जा रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 6, 2021, 11:50 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. किसान आंदोलन को लेकर गणतंत्र दिवस के मौके पर ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसक घटनाओं के मामले में दिल्ली पुलिस ने 3 और आरोपियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस के मुताबिक ये तीनों आरोपी बुराड़ी और लाल किले पर हुई हिंसा की घटनाओं में शामिल थे. ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा की जांच कर रही स्पेशल इन्वेस्टिगेटिंग टीम ने इन तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है.

आपको बता दें कि इससे पहले SIT दिल्ली हिंसा के मामले में 2 और लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है. अब तक लाल किला हिंसा मामले में 5 आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं. इससे पहले दिल्ली पुलिस की SIT ने लाल किला हिंसा मामले में 25 संदिग्ध आरोपियों की तस्वीरें जारी की थीं. बताया जाता है कि इन तस्वीरों में दीप सिद्धू भी शामिल है.

Youtube Video




दिल्ली में किसानों के समर्थन में प्रदर्शन करने को लेकर 60 लोग हिरासत में लिये गए
केंद्र के नये कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों के 'चक्का जाम' के आह्वान के समर्थन में कथित रूप से प्रदर्शन करने को लेकर शनिवार को मध्य दिल्ली के शहीदी पार्क के पास 60 लोगों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया. पुलिस ने कहा कि प्रदर्शनकारी विभिन्न संगठनों से थे. पुलिस ने बताया कि उन्हें दोपहर साढ़े बारह बजे के आसपास हिरासत में लिया गया और बाद में शाम को रिहा कर दिया गया. पुलिस ने बताया कि शनिवार को कुछ स्थानों पर एहतियाती उपाय के तहत मजदूर संघों के कुछ नेताओं को भी हिरासत में लिया गया.

पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के किसानों ने शनिवार को ट्रैक्टर-ट्रॉलियों के साथ राजमार्गों को अवरुद्ध कर दिया, जबकि अन्य राज्यों में तीन घंटे के 'चक्का जाम' के दौरान विरोध प्रदर्शन हुए. किसान संगठनों ने अपने आंदोलन स्थलों के पास के क्षेत्रों में इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगाये जाने, अधिकारियों द्वारा कथित रूप से उन्हें प्रताड़ित किये जाने और अन्य मुद्दों को लेकर छह फरवरी को देशव्यापी 'चक्का जाम' की घोषणा की थी. उन्होंने शनिवार दोपहर 12 बजे से अपराह्न तीन बजे के बीच राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों को अवरुद्ध करने की भी घोषणा की थी. हालांकि, केंद्र के नये कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान संगठनों के समूह संयुक्त किसान मोर्चा ने शुक्रवार को कहा था कि 'चक्का जाम' के दौरान प्रदर्शनकारी दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में सड़कों को अवरुद्ध नहीं करेंगे.

दिल्ली पुलिस ने दिल्ली के सभी सीमा बिंदुओं पर सुरक्षा बढ़ा दी है. अर्धसैनिक बलों सहित हजारों कर्मियों को 'चक्का जाम' से उत्पन्न होने वाली किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैनात किया गया है. गणतंत्र दिवस पर हिंसा के बाद, दिल्ली पुलिस ने अतिरिक्त उपाय किये हैं, जिसमें कड़ी निगरानी रखा जाना भी शामिल है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज