लाइव टीवी

तीस हजारी कोर्ट ने भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर को दी दिल्ली आने की सशर्त इजाजत
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: January 21, 2020, 4:33 PM IST
तीस हजारी कोर्ट ने भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर को दी दिल्ली आने की सशर्त इजाजत
कोर्ट से इजाजत मिलने के बाद चंद्रशेखर आजाद बुधवार शाम शाहीन बाग आएंगे. (फाइल फोटो)

दिल्ली की एक कोर्ट ने कहा है कि भीम आर्मी (Bhim Army) के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) को दिल्ली में आने की सशर्त इजाजत देते हैं. चंद्रशेखर की याचिका पर तीस हजारी कोर्ट ने यह आदेश दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 21, 2020, 4:33 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली की एक कोर्ट ने कहा है कि भीम आर्मी (Bhim Army) के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) को दिल्ली में आने की सशर्त इजाजत देते हैं. भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद की याचिका पर तीस हजारी कोर्ट ने यह आदेश दिया है. कोर्ट ने कहा कि, 'हम नही चाहते कि आप वहां जाए जहां पहले से कोई रैली हो रही हो. डेमोक्रेसी में चुनाव सबसे बड़ा पर्व होता है. कोर्ट ने ये भी कहा कि डेमोक्रेसी को सेलिब्रेट करने के लिए चुनाव फ्री एंड फेयर होना चाहिए.'

हर शनिवार को पुलिस के सामने लगानी होगी हाजिरी
अभी तक चंद्रशेखर को हर शनिवार को एसएचओ शहारनपुर को अपना अटेंडेंस देना पड़ता था. जब भी चंद्रशेखर शहारनपुर में होंगे, वहां अपना अटेंडेंस देंगे. अगर दिल्ली में रहेंगे तो डीसीपी क्राइम को अटेंडेंस देंगे. अगर इन दोनों जगहों पर नहीं होंगे, तब उन्हें टेलीफोन पर यह बताना होगा कि वे कहां हैं, क्या कर रहे हैं, इसकी पूरी जानकारी पुलिस को देनी होगी.

जज ने दिल्ली पुलिस से पूछा, आपके पास हेट स्पीच का क्या सबूत है

जज ने सुनवाई के समय दिल्ली पुलिस से कहा कि, ‘आपने सभी एफआईआर पिछली सुनवाई के दिन दिया था, लेकिन एक भी ऐसा एफआईआर आपने नहीं दिया जिससे हेट स्पीच की बात सामने आए. आप भडकाऊ भाषण की बात कह रहे हैं कहा हैं सबूत? हमें सबूत दीजिए, इस तरह से मत बोलिए. आपके पास क्या सबतू है ये तो बताइए.’

चंद्रशेखर को एक पीएसओ दे दिया जाए जो उन पर नजर भी रखेगा
चंद्रशेखर के वकील महमूद प्राचा ने एक शख्स अब्बास का बयान पढ़ते हुए कहा कि अब्बास ने कहा है कि उसके घर पर चंद्रशेखर आ कर रह सकते हैं. उन्हें किसी तरीके से कोई दिक्कत नहीं है. सरकारी वकील ने इसका विरोध करते हुए कहा की सुरक्षा की दृष्टि से यह थ्रेट है. इसके जवाब में महमूद प्राचा ने कहा कि चंद्रशेखर को एक पीएसओ दे दिया जाए, जो लगातार चंद्रशेखर पर नजर भी रखेगा. महमूद प्राचा ने कोर्ट से यह भी कहा कि सुनने में जरा अजीब लगेगा लेकिन चंद्रशेखर को दिल्ली में चार हफ्ते के लिए आने पर इसलिए रोक लगाई गई क्योंकि वह शेड्यूल कास्ट है.सोशल मीडिया के जरिए अपने प्रशंसकों तक पहुंचा सकते हैं अपनी बात
जज ने कहा कि जिस तरीके से आज सोशल मीडिया है, इससे आप अपनी बात अपने प्रशंसकों तक पहुंचा सकते हैं, किसी फिजिकल प्रजेंस की जरूरत नहीं है. इस पर चंद्रशेखर के वकील ने जज से कहा कि, अगर आप कहेंगे तो हम अपना रोज का शेड्यूल दिल्ली पुलिस के डीसीपी को दे देंगे.

रिपोर्टर – सुशील पाण्डेय

ये भी पढे़ं -

बरेली: रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किए गए लेखपाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 21, 2020, 4:14 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर