होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /

चालान की रकम देखकर वाहन छोड़ना पड़ेगा महंगा, दोगुनी हो सकती है पेनल्टी

चालान की रकम देखकर वाहन छोड़ना पड़ेगा महंगा, दोगुनी हो सकती है पेनल्टी

प्रतीकात्मक फोटो- तय समय सीमा के बाद आपका चालान कोर्ट पहुंच गया तो फिर दोगुना पेनल्टी जमा करनी पड़ सकती है.

प्रतीकात्मक फोटो- तय समय सीमा के बाद आपका चालान कोर्ट पहुंच गया तो फिर दोगुना पेनल्टी जमा करनी पड़ सकती है.

ऐसा भी नहीं है कि चालान (Traffic Challan) की रकम को देखकर वाहन छोड़ने पर आप बच जाएंगे. उल्टे वाहन जब्त होने पर तय समय सीमा के बाद और भी ज्यादा रकम वाहन चालकों से वसूली जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
    कहीं 15 हजार की स्कूटी का 23 हजार रुपये चालान (Traffic Challan) होने पर स्कूटी ही छोड़ दी, तो कहीं ऑटो का 27 हजार रुपये का चालान कटने पर ऑटो ही थाने में जमा करा दिया. मंगलवार से सोशल मीडिया पर इस तरह की खबरें खूब प्रचारित हो रही हैं. फनी कॉटूर्न बनाकर लोग तरह-तरह के कमेंट भी कर रहे हैं. लेकिन ट्रैफिक पुलिस के अधिकारी बताते हैं कि ऐसा नहीं है कि चालान की रकम देखकर वाहन छोड़ने पर आप बच जाएंगे. उल्टे वाहन जब्त होने पर तय समय सीमा के बाद और भी ज्यादा रकम वाहन मालिकों से वसूली जाएगी.

    वाहन छोड़ने पर पुलिस ऐसे वसूलेगी चालान की रकम
    अगर आपके वाहन की कीमत 12 हजार रुपये हैं और ट्रैफिक नियम तोड़ने पर आपका 20 हजार का चालान हो जाता है. ऐसे में वाहन की कीमत को देखते हुए आप आपना वाहन ट्रैफिक पुलिस के ऊपर ही छोड़कर घर आ जाते हैं तो इसका मतलब यह नहीं की आप चालान की रकम चुकाने से बच गए. सेवानिवृत ट्रैफिक इंस्पेक्टर आरपी सिंह ने इस बारे में बताया, “अगर किसी केस में ऐसा होता है तो ट्रैफिक पुलिस को अधिकार है कि वह ऐसे मामले को कोर्ट भेजे. कोर्ट जब्त हुए वाहन को नीलाम करने की अनुमति देगी. नीलाम की रकम सरकारी खाते में जाएगी. वहीं नियम तोड़ने पर वाहन चालक को कोर्ट में बुलाया जाएगा. जो नियम वाहन चालाक ने तोड़ा है उसके अनुसार उसे सजा दी जाएगी.”

    कोर्ट पहुंचने पर इस तरह और बढ़ जाएगी पेनल्टी की रकम
    नोएडा निवासी एडवोकेट मनोहर लाल बताते हैं, “हर एक प्रदेश के हिसाब से चालान की रकम जमा कराने और सीज (जब्त) हुए वाहन को छुड़ाने के अपने-अपने नियम हैं. जैसे यूपी में अगर आपका चालान होता है तो चालान की तारीख से 7 दिन के अंदर आप सीओ ट्रैफिक के ऑफिस में जाकर चालान जमा कर सकते हैं. नहीं तो 7 दिन बाद आपका चालान कोर्ट में भेज दिया जाएगा. कोर्ट में आपको एक महीने के अंदर चालान की रकम जमा करानी होगी. इसके साथ ही कोर्ट समय से चालान जमा न करने और पुलिस को सहयोग न करने पर अतिरिक्त जुर्माना भी लगा सकता है. और यह कोर्ट पर निर्भर करता है कि वो आप पर कितना जुर्माना लगाता है.”

    ये भी पढ़ें- 

    40000 हिन्‍दुओं का एक सवाल- वो कौन हैं जो हमें मिजोरम में नहीं रहने दे रहे
    अरशद मदनी की 1947 वाली बात पर RSS प्रमुख ने जताई सहमति
    पिता बोले, ‘मेरे बेटे को नाम और गले का लाकेट देखकर मार डाला’, पुलिस ने नकारे आरोप

    Tags: Delhi police, E-Vehicle, Traffic Department

    अगली ख़बर