अपना शहर चुनें

States

देश के हर जिले में अब खुलेगा जानवरों के लिए ट्रामा सेंटर, जानें मिलेंगी क्या-क्या सुविधाएं

देश के हर जिले में अब मवेशियों के लिए भी खुलेगा ट्रामा सेंटर.
देश के हर जिले में अब मवेशियों के लिए भी खुलेगा ट्रामा सेंटर.

देश के हर जिले में अब मवेशियों (Animals) के लिए भी खुलेगा ट्रामा सेंटर (Trauma centers). ट्रामा सेंटर में मवेशियों के साथ-साथ एटेंडेंट की भी ठहरने की व्यवस्था होगी. केंद्रीय पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) गायों की आकस्मिक मौत (Accidental Death of Cows) को लेकर काफी गंभीर हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 21, 2021, 6:12 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के हर जिले में अब मवेशियों (Animals) के लिए भी खुलेगा ट्रामा सेंटर (Trauma Centers). इस ट्रामा सेंटर में मवेशियों के साथ-साथ एटेंडेंट की भी ठहरने की व्यवस्था होगी. ट्रामा सेंटर में मवेशियों के लिए वार्ड, एटेंडेंट के ठहरने के लिए भवन और एम्बुलेटरी वैन सहित कई अन्य सुविधाएं भी मौजूद रहेंगी. मवेशियों के गहन शल्य चिकित्सा के लिए मोदी सरकार (Modi Governent) ने अब सभी राज्य सरकारों को ट्रामा सेंटर खोलने का निर्देश जारी किया है. केंद्रीय पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) गायों की आकस्मिक मौत (Accidental Death of Cows) को लेकर काफी गंभीर हैं. हाल ही पशुपालन मंत्रालय ने सभी राज्य सराकरों को इसके लिए पत्र लिखा है. बिहार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, गुजरात, मध्य प्रदेश और दिल्ली जैसे केंद्र शासित प्रदेशों ने भी इस पर अमल करना शुरू कर दिया है.

मवेशियों के खुलेंगे ट्रामा सेंटर
बता दें कि कुछ दिन पहले ही मोदी सरकार ने गायों को लेकर देशव्यापी परीक्षा कराने के ऐलान किया था. अब देश के हर जिले में मवेशियों के लिए ट्रॉमा सेंटर खोलने का भी फैसला लिया गया है. केंद्रीय पशुपालन और डेयरी मंत्रालय पिछले ही दिनों गायों को लेकर 'राष्ट्रीय कामधेनु आयोग' का गठन किया था. 25 फरवरी 2021 से राष्ट्रीय स्तर पर कामधेनु गौ विज्ञान प्रचार प्रसार परीक्षा कराने की शुरुआत होगी. मंत्रालय का मानना है कि गाय में एक पूरा विज्ञान है, जिसे खंगाला जाना अब जरूरी हो गया है. देश की अर्थव्यवस्था को 5 लाख करोड़ रुपये पर पहुंचाने में यह एक अहम भूमिका निभाएगा.

trauma centers, cattle, Animals, all districts, state cpitals, giriraj singh, cattle, bihar, uttar pradesh, madhya pradesh, jharkhand, सर्जरी, मवेशियों के लिए खुलेगा ट्रामा सेंटर, ट्रामा सेंटर, ठहरने की व्यवस्था, वार्ड, एटेंडेंट, एम्बुलेटरी वैन, शल्य चिकित्सा , मोदी सरकार, केंद्रीय पशुपालन और मतस्य मंत्री गिरिराज सिंह, बिहार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, गुजरात, मध्य प्रदेशTrauma center for cattle will now be opened in every district of the country Animals cabinet minister giriraj singh nodrss
गाय को लेकर

बिहार सरकार इस प्रोग्राम के तहत खोल रही है ट्राम सेंटर


बिहार सरकार ने भी सात निश्चय प्रोग्राम के तहत अब हर अनुमंडल में मवेशियों के गहन शल्य चिकित्सा के लिए ट्रामा सेंटर खोलने का फैसला किया है. बिहार सरकार ने इसके लिए सभी जिलों के डीएम को हरी झंडी दे दी है. इस ट्रामा सेंटर पर पशुओं के लिए वार्ड, उनके एटेंडेंट के हरने के लिए भवन, पशुओं के लाने के लिए एम्बुलेटरी वैन सहित अन्य आवश्यक सेवाओं एवं कार्यों के लिए भवन बनाए जाएंगे.



पशुपालन मंत्रालय की है ये पहल
केंद्रीय पशुपालन मंत्रालय की मानें तो मनुष्य की तरह ही पशुओं का भी समुचित इलाज सुनिश्चित कराने की दिशा में यह एक सार्थक पहल है. ट्रामा सेंटर में पशुओं को छोटा और गंभीर दोनों तरह की बीमारी का इलाज किया जाएगा. साथ ही गहन चिकित्सा के लिए उनकी भर्ती भी होगी. इसके लिए वार्ड बनाए जाएंगे. ट्रामा सेंटर में हॉलनुमा कई कमरे होंगे. एक हॉल में 10 बड़े जानवर रखें जा सकेंगे.

trauma centers, cattle, Animals, all districts, state cpitals, giriraj singh, cattle, bihar, uttar pradesh, madhya pradesh, jharkhand, सर्जरी, मवेशियों के लिए खुलेगा ट्रामा सेंटर, ट्रामा सेंटर, ठहरने की व्यवस्था, वार्ड, एटेंडेंट, एम्बुलेटरी वैन, शल्य चिकित्सा , मोदी सरकार, केंद्रीय पशुपालन और मतस्य मंत्री गिरिराज सिंह, बिहार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, गुजरात, मध्य प्रदेश, Trauma center for cattle will now be opened in every district of the country Animals cabinet minister giriraj singh nodrss
कुछ दिन पहले ही मोदी सरकार गायों को लेकर देशव्यापी परीक्षा कराने के ऐलान किया था.


ट्रामा सेंटर में ये सुविधाएं होंगी
हर ट्रामा सेंटर के लिए कम से कम 5 एम्बुलेटरी वैन की फिलहाल व्यवस्था की जाएगी.एम्बुलेटरी वैन से गहन चिकित्सा के लिए पशुओं को ट्रामा सेंटर लाया जाएगा. हर ट्राम सेंटर में इलाज के लिए दो से तीन शल्य चिकित्सक के अलावे एक समान्य पशु चिकित्सकों की भी तैनाती होगी. इसके साथ ही सहायकों और एटेडेंट्स की भी भर्ती होगी.

इन राज्यों ने की शुरुआती पहल
इतना ही नहीं पशु के साथ आने वाले पशुपालकों के रहने के लिए अलग से वार्ड बनेगा. इसके अलावा शल्य चिकित्सा के समान एवं दवा रखने के लिए स्टोर भी बनेंगें. एम्बुलेटर वैन में जानवरों के चिकित्सा के सारे उपकरण लगे रहेंगे. बिहार, उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में इसकी शुरुआत भी हो गई है. बिहार के कई जिले और अनुमंडलों में इस पर तेजी से काम चल रहा है. फिलहाल बिहार में पटना में इस तरह की व्यवस्था है, जिसे अब राज्य के दूसरे जिले में भी बढ़ाया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: Good News: अब आप सरकारी और बंजर जमीन पर भी कुछ शर्तों के साथ कर सकेंगे खेती, जानें इस बारे में सबकुछ

गौरतलब है कि बिहार और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में अभी एक बीमारी फैली हुई है, जिससे हर रोज हजारों जानवरों की मौत हो रही है. पशुओं में कई तरह की गंभीर बीमारी को देखते हुए अब हर जिले में ट्रामा सेंटर खोलने का निर्णय लिया गया है. इलाज की व्यवस्था नहीं होने से जानवर की मौत हो रही है तो दूसरी तरफ पशु पालक भी भटकते रह रहे हैं. ऐसे में ट्रामा सेंटर के खुलने से मोदी सरकार की यह योजना काफी कारगर साबित हो सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज